इंदौर की बेटी ने बढ़ाया मान:प्रदेश की पहली महिला बस ड्राइवर बनी, बीआरटीएस कॉरिडोर में दौड़ाई आई बस

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महिला बस ड्राइवर - Dainik Bhaskar
महिला बस ड्राइवर

इंदौर की बेटी ने शहर का मान बढ़ाया है। पाटनीपुरा क्षेत्र निवासी रितु नरवले ने गुरुवार को बीआरटीएस कॉरिडोर में आई बस (पिंक बस) दौड़ाई। बस में 50 महिला यात्री सवार थीं। एआईसीटीएसएल का दावा है कि रितु प्रदेश की पहली महिला बस ड्राइवर हैं। आई बस चलाने के लिए एक और बेटी अर्चना भी ट्रेनिंग ले रही हैं। रितु ने राजीव गांधी प्रतिमा से निरंजनपुर और निरंजनपुर से राजीव गांधी प्रतिमा तक बस चलाई।

बस के संचालन के लिए एआईसीटीएसएल ने उन्हें खासतौर पर 15 दिन की ट्रेनिंग भी दी। एआईसीटीएसएल की पीआरओ माला सिंह ठाकुर ने बताया रितु से पिंक बस के कुछ फेरे लगवाए जाएंगे, इसके बाद उन्हें पूरे समय बस चलाने की अनुमति दी जाएगी। एक अन्य ड्राइवर अर्चना की ट्रेनिंग भी चल रही है। इस तरह पिंक बस के लिए दो महिला ड्राइवर तैयार हो जाएंगी।

बचपन से शौक, स्कूल में बच्चों को ट्रेनिंग भी दी
रितु ने बताया उन्हें बचपन से ड्राइवर बनने का शौक था। स्कूल के दिनों में उन्होंने बच्चों को भी ड्राइवरी की ट्रेनिंग दी है। आई बस चलाकर उन्हें बेहद खुशी महसूस हो रही है। घर में माता-पिता, भाई, बहन को भी उनका यह फैसला पसंद आया। उन्होंने कहा सिटी बस कंपनी ने जिस तरह महिलाओं को आगे बढ़ाने का प्रयास किया, वह सराहनीय कदम है। इससे महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ेगा।