• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Business Will Get Momentum After Shifting To 100 Acres, Will Give New Suggestions To The Administration

एशिया की सबसे बड़ी मंडी को लेकर एसोसिएशन एक्टिव:100 एकड़ में शिफ्ट होने पर कारोबार को मिलेगी प्रोग्रेस, प्रशासन को देंगे नए सुझाव

इंदौर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

हाल ही में इंदौर अनाज तिलहन व्यापारी संघ (छावनी अनाज मंडी) के चुनाव होने के बाद अब एसोसिएशन द्वारा सारे प्रमुख काम प्राथमिकता से किए जाएंगे। इसी कड़ी में सबसे खास मुद्दा मौजूदा 17 एकड़ में चल रही छावनी मंडी का है। बीते सालों में यहां कारोबार का काफी विस्तार हुआ है। इसके चलते अब मंडी को कैलोद-माचला स्थित 100 एकड़ जमीन पर शिफ्ट कर एशिया की सबसे बड़ी मंडी बनाने के मामले में अब लगातार गति दी जाएगी। इसके लिए एसोसिएशन ने चुनाव के पहले ही जिला प्रशासन से समन्वय शुरू किया है। इसके साथ ही नए सुझाव भी दिए जाएंगे।

दरअसल, चुनाव के दौरान भी दोनों पैनलों का मुख्य मुद्दा एशिया की सबसे अनाज मंडी को लेकर था। अब चूंकि चुनाव हो चुके हैं और दीपोत्सव का समापन भी हो जाएगा। ऐसे में अब 8 नवम्बर को पहले मंडी मुहूर्त के सौदे होंगे। इसके बाद आने वाले दिनों में नई अनाज मंडी में किसानों व कारोबारियों की सुविधाओं के लिहाज से क्या-क्या जरूरी है, उसका एक खाका बनाया जाएगा। हालांकि इसके पूर्व एक बैठक में मंत्री तुलसी सिलावट को मंडी प्रतिनिधियों को कुछ सुझाव दिए थे जिस पर अमल चल रहा है। वर्तमान अध्यक्ष संजय अग्रवाल के नेतृत्व में एसोसिएशन द्वाराइस दिशा में कदम उठाए जाएंगे। अग्रवाल के मुताबिक इसके लिए पूर्व से प्रयास जारी हैं और कुछ नए सुझाव भी अमल के लिए दिए जाएंगे।

नई अनाज मंडी का ऐसा होगा स्वरूप

  • नई मंडी एक्सपोर्ट प्रमोशन के लिए तैयार होगी जिससे हजारों किसानों और व्यापारियों को लाभ मिलेगा। यहां इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट टर्मिनल भी बनाए जाने का सुझाव दिया गया है।
  • अभी मौजूदा छावनी मंडी 17 एकड़ में है लेकिन शहर के मध्य स्थित होने से न केवल किसानों व व्यापारियों को बल्कि लोगों को बिगड़ते ट्रैफिक के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बीते सालों में यहां कारोबार इतना बढ़ गया है कि अब जगह कम पड़ने लगी है। अभी हर दिन करीब 10 करोड़ से ज्यादा का कारोबार होता है। इसके लिए 100 एकड़ मंडी का विस्तार किया जा रहा है ताकि अन्य शहरों के कारोबारी भी यहां आ सके।
  • मंडी में जरूरत से जुुड़ी सुविधाएं जैसे पेट्रोल पंप, गोदाम, गेस्ट हॉउस, कृषि संबंधी सामान, वाहन आदि की सुविधाएं होंगी ताकि बाहर के किसानों व व्यापारियों को परेशानी न हो।
  • नई मंडी के पास रेलवे ट्रैक बनाए जाने पर भी विचार चल रहा है जिससे माल लाने-ले जाने में भाड़ा व समय कम लगेगा।
  • गोदामों की साइज व सेक्टर्स के लिए नीति बनेगी।
  • नई मंडी में व्यापारियों को जमीन वाजिब कीमत पर मिले, इसका मूल्यांकन करने के लिए मंडी समिति को अधिकार दिए जाने की मांग भी है।

8 नवम्बर को मुहूर्त के सौदे

इधर, शनिवार 6 नवम्बर को दीपावली पर्व के साथ कारोबारी साल व सीजन खत्म हो जाएगा। फिर 8 नवम्बर को बाजारों में मुहूर्त पर नए कारोबार का आगाज होगा। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गई है। 8 नवम्बर को छावनी अनाज मंडी में सुबह 10.21 बजे मुहूर्त के सौदे होंगे। ऐेसे ही लक्ष्मीबाई अनाज मंडी में सुबह 9.11 बजे सौदे होंगे। इसके साथ ही दीपावली मिलन समारोह भी रखा गया है। इसी तरह दि सियागंज होलसेल मर्चेंट किराना बाजार में दोपहर 1.30 बजे मुहूर्त के सौदे होंगे। इसी दौरान दीपावली मिलन समारोह भी रखा गया है। आलू-प्याज मंडी में सुबह 9.22 बजे सौदे होंगे।