• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Candidates Sitting On The Ground With A Bowl And A Book About Their Demands, Shouted Slogans, Warned Of Agitation If Their Demands Were Not Met

इंदौर में MPPSC ऑफिस का घेराव:मांगों को लेकर कटोरा और किताब लेकर रोड पर बैठे अभ्यर्थी, जमकर की नारेबाजी; आंदोलन की चेतावनी

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
MPPSC के बाहर प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
MPPSC के बाहर प्रदर्शन।

राज्य सेवा परीक्षा के अंतर्गत आयोजित मुख्य परीक्षा 2019 व प्रांरभिक परीक्षा 2020 का परिणाम और राज्य सेवा परीक्षा 2021 के लिए अधिसूचना जारी करने सहित अन्य मांगों को लेकर अभ्यर्थियों ने MPPSC ऑफिस का घेराव किया। मंगलवार दोपहर को बड़ी संख्या में अभ्यर्थी MPPSC ऑफिस के बाहर जमा हुए। हाथों में बैनर-पोस्टर, कटोरे और किताब लेकर अभ्यर्थी ऑफिस के बाहर ही रोड पर बैठ गए और अपने रिजल्ट की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगे। काफी देर तक अभ्यर्थी धूप में ही ऑफिस के बाहर बैठे रहे।

आयोग के अलग-अलग जवाब

अभ्यर्थियों की मानें तो आयोग द्वारा राज्यसेवा परीक्षा 2019 के लिए मुख्य परीक्षा मार्च 2021 में संपन्न करवाई, जिसका परिणाम आयोग द्वारा जारी कैलेन्डर के मुताबिक अगस्त 2021 में घोषित किया जाना प्रस्तावित था, लेकिन आज तक जारी नहीं किया गया। इस मुद्दे पर आयोग ने मीडिया के समक्ष कहा था कि मूल्यांकन प्रक्रिया बाकी है और कोर्ट केस का इससे संबंध नहीं है, जल्द ही परिणाम घोषित किया जाएगा। जबकि, कुछ अभ्यर्थियों ने सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत की तो आयोग ने जवाब में कहा कि कोर्ट केस की वजह से परिणाम रुका है। एक ही मुद्दे पर अलग-अलग बयान से अभ्यर्थियों में भ्रम की स्थिति है।

हाथों में कटोरा लेकर बैठे अभ्यर्थी
हाथों में कटोरा लेकर बैठे अभ्यर्थी

अभ्यर्थी हो रहे परेशान, उठाएंगे बड़ा कदम

आनंद मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2019 में प्रदेश सरकार द्वारा 27 प्रतिशत रिजर्वेशन लागू किया गया। इसके बाद लगातार MPPSC के परिणाम को रोका गया। कोर्ट में केस जाने पर कोर्ट ने कहा कि प्रक्रिया को जारी रखे। इसके चलते तीन सालों से कोई भी भर्ती नहीं हो पाई है। ऐसे में तीन साल तक इंदौर में रहने, लगातार तैयारी करना काफी मुश्किल है। कई अभ्यर्थियों की उम्र सीमा बाहर निकल रही हैं। आज स्थिति यह है कि अभ्यर्थियों को हाथ में किताब और कटोरा लेकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर मांगें पूरी नहीं होती है तो आगामी दिनों में अभ्यर्थी अपने हक के लिए जो भी संवैधानिक रास्ते होंगे वह अपनाएंगा।

परेशानी में अभ्यर्थी

अभ्यर्थी मयूर जायसवाल े कहा कि PSC मुख्य परीक्षा 2019 का रिजल्ट घोषित नहीं किया है। तीन साल से हमारा समय पूरा खराब हो रहा है। बेरोजगारी भी बढ़ती जा रही है। उम्र के साथ-साथ हमारी क्षमता भी कम होती जा रही है। परिवार के लोग भी प्रेशर बना रहे है। हमें सिर्फ सांत्वना ही दी जा रही है। वहीं अभ्यर्थियों ने बताया आयोग द्वारा जारी वार्षिक कैलेन्डर में मुख्य परीक्षा 2020 की तारीख 23 से निर्धारित है, लेकिन यह उस स्थिति में था जब आयोग प्रारंभिक परीक्षा 2020 का परिणाम अगस्त महीने में घोषित करता। लेकिन, अब पूर्व निर्धारित तारीख पर मुख्य परीक्षा ली तो संशय और परिणाम की अनिश्चितता में तैयारी न कर पाने वाले अभ्यर्थी 23 नवंबर तक परीक्षा देने के लिए तैयार नहीं हो सकेंगे।

फिर मिला आश्वास
इधर, प्रदर्शन के बाद आयोग के अधिकारियों ने कुछ अभ्यर्थियों से इस विषय पर चर्चा की। अभ्यर्थियों ने बताया चर्चा में आश्वासन दिया है कि 2019 की मुख्य परीक्षा का परिणाम जल्द से जल्द घोषित किया जाएगा। इसके लिए सामान्य प्रशासन से लगातार पत्राचार किया जा रहा है। 2020 प्री का रिजल्ट जब भी आएगा उसके बाद तीन माह का समय अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा के लिए दिया जाएगा। राज्य सेवा परीक्षा 2021 का नोटिफिकेशन भी जल्द निकालने का आश्वासन दिया है।

खबरें और भी हैं...