• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Caste Certificate Used To Be Made In 10 Thousand, Police Engaged In Shutting Down The Server, There Is A Problem In Recovering Data From The System

इंदौर में नकली दस्तावेज बनाने वाले का खुलासा:10 हजार में बनाते थे जाति प्रमाण पत्र , सर्वर को बंद कराने में जुटी पुलिस , सिस्टम से डेटा रिकवर होने में आ रही है दिक्कत

इंदौर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाएं और अजय, दाहिनी तरफ प्रदीप - Dainik Bhaskar
बाएं और अजय, दाहिनी तरफ प्रदीप

बाणगंगा पुलिस द्वारा बीकॉम के 2 छात्रों को नकली दस्तावेज और प्रमाण पत्र बनाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था। आरोपी ने बताया कि महज 10 हजार रुपए में वह किसी भी व्यक्ति का जाति प्रमाण पत्र बनाकर उसे दे दिया करते थे। आरोपियों को जिला कोर्ट से 19 तारीख तक की रिमांड पुलिस मिली है। आरोपियों ने बताया कि महज 5 मिनट में वह सॉफ्टवेयर पर किसी भी व्यक्ति की जानकारी डालकर उसे सर्टिफिकेट बना दिया करते थे।

जांच अधिकारी जबरसिंह ने बताया कि अजय और प्रदीप नौकरी की तलाश में इंदौर आए थे, लेकिन काम नहीं मिला तो उन्होंने गूगल पर पोर्टल सर्च किया। पोर्टल में आधार कार्ड या दूसरे दस्तावेजों के प्रिंट निकालने की जानकारी मिली है। प्रदीप के नाम से रजिस्ट्रेशन करवाया और मात्र चार सौ रुपए देने के बाद काम शुरू कर दिया। दोनों ने साफ्टवेयर तैयार किया जिसमें आधार कार्ड, पेन कार्ड, वोटर आईडी, आयुष्मान कार्ड, ड्रायविंग लायसेंस बनाना शुरू कर दिए। मुलजिमों के पास से दो अंकसूची का रिकार्ड भी मिला है, जिसमें उन्होंने उम्र के हेरफेर के साथ-साथ उनकी रैंक बढ़ा दी है।

इंदौर में नकली दस्तावेज:B.COM के दो छात्र महज 150 रुपए में बनाते थे फर्जी आधार, मार्कशीट, पैन कार्ड और लायसेंस, दोनों को किया गिरफ्तार

दो अंक सूची भी बनाई

आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने 2 अंक सूचियां भी बनाई है जिसमें संबंधित व्यक्ति की रैंक बनाई थी। सेकंड डिवीजन पास था उसे फर्स्ट डिवीजन में परिवर्तित किया है। आरोपी 10 हजार में जाति प्रमाण पत्र बनाते थे। रिकॉर्ड में अब तक 5 जाति प्रमाण पत्र मिले हैं लेकिन सरवर से कई जानकारियां डिलीट होने के बाद पुलिस ने अब साइबर की सहायता ली है।

रोजाना 2 हजार कमाने का टारगेट

आरोपी ने बताया कि रोजाना वह महज दो से तीन हजार रुपए कमाने का ही टारगेट रखते थे। इलाके में रोजाना आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र और कभी-कभी उनके पास मार्कशीट बनवाने भी कोई व्यक्ति आ जाता था जिस दिन मार्कशीट बनाने कोई व्यक्ति आता था वह जल्दी से फर्जी मार्कशीट बनाकर दुकान बंद कर रवाना हो जाते थे।

सॉफ्टवेयर की है तगड़ी सिक्योरिटी

जांच अधिकारी ने बताया कि सॉफ्टवेयर की इतनी तगड़ी सिक्योरिटी है कि उससे डाटा रिकवर होना थोड़ा मुश्किल है लेकिन जानकारी के अनुसार पश्चिम बंगाल में इसका सरवर हो सकता है। पुलिस सॉफ्टवेयर बनाने वाले की तलाश कर रही है। वहीं पुलिस ने साइबर को एक पत्र लिखकर सॉफ्टवेयर बंद करने के लिए एक आवेदन भी देंगी ।

खबरें और भी हैं...