जागरूकता:बच्चे साइबर स्टॉकिंग, फिशिंग, बुमिंग और गेमिंग इत्यादि से बचें- डॉ. कपूर

इंदौर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कार्यशाला में 332 छात्र-छात्राओं के अलावा अतिथि, प्रशिक्षक आदि मौजूद थे

साइबर अपराध से बचने का मूल मंत्र जागरूकता है। जब भी हम कोई इलेक्ट्राॅनिक डिवाइस का उपयोग करें तो कभी भी साइबर अपराध की चपेट में आ सकते हैं। बच्चों को साइबर स्टॉकिंग, फिशिंग, साइबर बुमिंग एवं गेमिंग इत्यादि से बचना चाहिए। यह बात ब्लैक रिबन इनिशिएटिब अभियान के तहत इंदौर अनाज तिलहन व्यापारी संघ द्वारा देव गुराड़िया में संचालित आईएटीवी एजुकेशनल एकेडमी में आयोजित “साइबर सुरक्षा एवं जागरूकता’ कार्यशाला में एडीजी डॉ. वरुण कपूर ने कही। कार्यशाला में 332 छात्र-छात्राओं के अलावा अतिथि, प्रशिक्षक आदि मौजूद थे।

डॉ. कपूर ने बच्चों को आगाह किया कि सोशल मीडिया पर फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करने से पहले उसकी पड़ताल करें। सेमिनार में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्रा खुशी चौधरी एवं उत्सव सिंह को डॉ. कपूर ने सम्मानित किया। कार्यशाला में अनाज तिलहन व्यापारी शैक्षणिक न्यास के अध्यक्ष अरुण अग्रवाल, मंत्री सतीश गुप्ता, उपमंत्री अशोक अग्रवाल, कोषाध्यक्ष बाबूलाल अग्रवाल, भारत स्काउट एंड गाइड के असि. स्टेट आर्गेनाइजिंग कमिश्नर धीरज प्रसाद सोनी उपस्थित थे। अंत में प्राचार्य शुभा रंजन चटर्जी, ऩ्यास अध्यक्ष अग्रवाल ने डॉ. वरुण कपूर को स्मृति चिह्न भेंट किया।

खबरें और भी हैं...