• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Covid 19 || Corona Omicron Variant; Chief Minister Shivraj Singh Chouhan Expressed Fear Of Third Wave

MP में ओमिक्रॉन है या नहीं, दावा कैसे करें?:इंदौर-भोपाल से भेजे गए 218 सैंपल की रिपोर्ट ही नहीं आई; CM ने जताई तीसरी लहर की आशंका

भोपाल/इंदौर5 महीने पहले

मध्यप्रदेश से सटे तीन राज्यों में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के केस मिल चुके हैं। भोपाल और इंदौर से भेजे गए सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। ऐसे में यह दावा नहीं किया जा सकता कि ओमिक्रोन मध्यप्रदेश तक नहीं पहुंचा है। भोपाल से 1 नवंबर से अब तक 30 लोगों के सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए NCDC (नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल) दिल्ली भेजे गए हैं। इंदौर से 2 महीने में पॉजिटिव आए 188 सैंपल भेजे गए हैं। इनकी जांच रिपोर्ट 15 दिन में आ जाती है। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तीसरी लहर की आशंका जता चुके हैं। भोपाल से आनंद पवार और इंदौर से संतोष शितोले की रिपोर्ट...

भोपाल में अक्टूबर में भेजे गए सैंपल की रिपोर्ट कुछ दिन पहले मिली है, लेकिन नवंबर से अब तक की रिपोर्ट अटकी हुई है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदेश में ओमिक्रॉन की पहचान कर सरकार की 3T (टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट) करने की रणनीति कैसे सफल हो पाएगी।

भोपाल में 263 में मिल चुके कंसर्न वैरिएंट

भोपाल में इससे पहले 263 लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग रिपोर्ट में कंसर्न वैरिएंट मिले थे। इनमें 18 अल्फा (यूके स्ट्रेन), 240 में डेल्टा (ट्रिपल म्यूटेंट) और 5 में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई थी। डेल्टा वैरिएंट ने ही अप्रैल-मई में कहर ढाया था। यह अल्फा वैरिएंट से 40-60% ज्यादा संक्रामक है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर दुनिया भर में वैज्ञानिक रिसर्च में जुट गए हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने तेजी से फैलने में सक्षम कोरोना के इस नए वैरिएंट (B.1.1.529) को वैरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित किया है। शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक ओमिक्रॉन दुनिया में कहर बरपा चुके डेल्टा वैरिएंट से कहीं ज्यादा तेजी से म्यूटेशन करने वाला वैरिएंट है। ओमिक्रॉन में 50 म्यूटेशन हो चुके हैं, जिनमें से 30 म्यूटेशन तो उसके स्पाइक प्रोटीन में हुए हैं।

रिपोर्ट कब तक आएगी? इंदौर हेल्थ डिपार्टमेंट के पास जवाब नहीं

इंदौर से भेजे गए सैम्पल की रिपोर्ट कब तक आएगी, इसका जवाब यहां के हेल्थ डिपार्टमेंट के पास नहीं है।

7 लोगों में मिल चुका है AY-4 वैरिएंट

24 अक्टूबर को जिले से 7 लोगों में कोराना का नया वैरिएंट AY-4 मिला था। ये उन लोगों में मिला था, जिनके सैंपल सितंबर में NCDC को भेजे गए थे। वैसे सितंबर में 102 पॉजिटिव आए थे। 7 लोगों में इस नए वैरिएंट की पुष्टि हुई थी। हालांकि, एक महीने बाद आई रिपोर्ट में ये सभी पूरी तरह स्वस्थ पाए गए। इसके बाद अक्टूबर में 76 और नवंबर में 112 लोग पॉजिटिव पाए गए। इस तरह इनके सैंपल भी अलग-अलग दौर में NCDC भेजे गए हैं। इसी तरह दिसंबर के 5 दिन में 20 पॉजिटिव मिले हैं, ये सैंपल भी NCDC में टेस्ट किए जाएंगे।

रिपोर्ट मिलने में हो रही देरी

CMHO डॉ. बीएस सेत्या ने बताया कि अभी रोज मिल रहे पॉजिटिव केस के सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए एमजीएम मेडिकल कॉलेज (इंदौर) भेज दिए जाते हैं। इसके बाद आगे की प्रोसेस NCDC से की जाती है। एमजीएम कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित के मुताबिक अभी NCDC से ही रिपोर्ट मिलने में देरी हो रही है। कॉलेज द्वारा नियमित पॉजिटिव सैंपलों को NCDC भेजा जा रहा है।

तेजी से फैलता है ओमिक्रॉन

नया वैरिएंट ओमिक्रॉन 5 राज्यों कर्नाटक, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान में पहुंच चुका है। इन राज्यों में 4 दिन में 21 मरीज सामने आ चुके हैं। इसे लेकर एक्सपर्ट भी आगाह कर चुके हैं कि नया वैरिएंट ज्यादा इंफेक्शियस है। यह डेल्टा के मुकाबले बहुत तेजी से फैलता है। रविवार को ओमिक्रॉन का दिल्ली में नया मरीज मिलने के साथ ही महाराष्ट्र में 7 और मरीज सामने आए हैं। राजस्थान में जयपुर के एक ही परिवार के 4 लोगों समेत 9 लोगों में नए वैरिएंट की पुष्टि हुई है। इनमें अधिकतर मामलों में अफ्रीकी देशों की ट्रैवल हिस्ट्री रही है।

ये भी पढ़िए:-

MP में ओमिक्रॉन का अलर्ट!:प्रदेश के बॉर्डर से लगे गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान पहुंचा नया वैरिएंट; इनसे सटे 20 जिलों में सख्ती बढ़ाई

इंदौर में ओमिक्रॉन, कलेक्टर ने बैठक बुलाई:विदेशों से लौटे 395 लोगों में से 216 की ही सैंपलिंग, 95 लापता; RRT टीम लगाएगी पता

रानी कमलापति स्टेशन पर कोरोना जांच न कराने के बहाने:कोई बोला- दोनों डोज लगे, किसी ने कहा- समय नहीं; कुछ तो लड़ने तक को तैयार

MP में एक्टिव केस 138 हुए:भोपाल में लगातार 9वें दिन सबसे ज्यादा 8 संक्रमित; जबलपुर में रशियन यात्री की जांच के लिए बुलाई पुलिस