इंदौर में 10 दिन में 9 बच्चे संक्रमित:हाईरिस्क अफ्रीकी देश नाइजीरिया से इंदौर लौटे भाई-बहन में ओमिक्रॉन का डर; जीनोम सिक्वेंसिंग होगी

इंदौर7 महीने पहलेलेखक: संतोष शितोले

इंदौर में 10 दिन में 9 बच्चे पॉजिटिव मिले हैं। सभी एसिम्प्टोमैटिक हैं और 3 को ठीक होने पर हॉस्पिटल से शुक्रवार को डिस्चार्ज भी कर दिया गया। इससे कुछ राहत मिली थी, लेकिन नाइजीरिया से लौटे 8 और 14 साल के भाई-बहन के संक्रमित मिलने पर डर बढ़ गया है। नाइजीरिया अफ्रीकन कंट्री है जो कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की हाई रिस्क कंट्री में शामिल है। यहां कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन फैल चुका है। संक्रमित मिले दोनों भाई-बहन में ओमिक्रॉन का पता लगाने के लिए सैम्पल टेस्ट के लिए NCDC (नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल, दिल्ली) भेजे गए हैं। 15 दिन में रिपोर्ट आ जाती है, लेकिन इन दिनों रिपोर्ट आने में देरी हो रही है।

इंदौर में संक्रमित मिले 9 में 7 बच्चों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री सामने आई है। सातों के पहले पेरेंट्स संक्रमित आए, इसके बाद टेस्ट में बच्चे भी पॉजिटिव मिले। जबकि, दोनों भाई-बहन की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री का पता नहीं चल सका है। भाई-बहन मां के साथ पिता से मिलने नाइजीरिया गए थे। मां की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

मेडिकल एक्सपर्ट भी मानते हैं कि अभी बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू नहीं हुआ है। ऐसे में खुद बच्चों, उनके परिजन और स्कूल मैनेजमेंट को कड़ी एहतियात बरतनी होगी। बच्चों को लेकर अब चिंता इसलिए भी हो गई है, क्योंकि अब स्कूल 50 फीसदी क्षमता के साथ शुरू हो चुके हैं। इंदौर में कुछ स्कूल्स के बारे में शिकायतें मिली थीं कि वे इससे ज्यादा क्षमता के साथ संचालित हो रहे हैं। इस बीच 6 दिसम्बर को कलेक्टर मनीष सिंह ने इसके लिए सभी एसडीएम की जवाबदेही तय की और निर्देश दिए कि जिन भी स्कूलों में 50 फीसदी आदेश का उल्लंघन करता पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें। हालांकि इस बीच संक्रमित बच्चों की संख्या बढ़ते देख स्कूल भी सचेत हो गए तो कई पेरेंट्स ने छोटे बच्चों की फिर से ऑनलाइन क्लासेस शुरू कर दी।

इस तरह चपेट में आए बच्चे

पहले मां पॉजिटिव आई, फिर दोनों बच्चे
30 नवम्बर को तेजाजी नगर में रहने वाले परिवार की महिला पॉजिटिव पाई गई। फिर उसका पति और दोनों बच्चे। चौंकाने वाली बात यह कि इनमें 13 साल की बेटी क्वींस कॉलेज में 6th क्लास में पढ़ती है। पॉजिटिव की रिपोर्ट आने के एक दिन पहले तक स्कूल जा रही थी, जबकि 6 साल का बेटा भी एक प्राइवेट स्कूल में है, जो ऑनलाइन क्लास अटैंड कर रहा था। सभी की हालत ठीक है। बच्ची पॉजिटिव आई, तब कॉलेज में और ज्यादा एहतियात बरती गई।

दादा के बाद पोता-पोती हुए संक्रमित
3 दिसम्बर को एरोड्रम इलाके में एक बुजुर्ग पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद पूरे परिवार के सैम्पल टेस्ट किए गए तो 16 साल की पोती व 13 साल का पोता पॉजिटिव पाया गया। रैपिड रिस्पॉन्स टीम (RRT) के मुताबिक पहले दादा पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद ये दोनों बच्चे पॉजिटिव पाए गए। दोनों बच्चे एरोड्रम क्षेत्र में गरिमा विद्या निकेतन में पढ़ते हैं। पोती 9th क्लास में पढ़ती है, जबकि पोता 6th में है। परिवार का कहना है कि दोनों की ऑनलाइन क्लास चल रही है। बहरहाल, दादा और पोती को डिस्चार्ज कर दिया गया है। पोता MRTB हॉस्पिटल में एडमिट है।

मां के बाद तीनों बच्चे भी पॉजिटिव
8 दिसम्बर को महू आर्मी के एक परिवार के तीन बच्चे पॉजिटिव पाए गए। तीनों महू आर्मी हॉस्पिटल में अपनी मां के साथ एडमिट हैं। सूत्रों के मुताबिक इनमें पहले सैन्यकर्मी की पत्नी पॉजिटिव पाई गई। फिर परिवार के सैंपल लिए गए तो तीनों बच्चे भी पॉजिटिव पाए गए। इन बच्चों की उम्र 16, 13 और 8 साल है।

नाइजीरिया से इंदौर लौटने के बाद दोनों बच्चे पॉजिटिव, सोर्स पता नहीं
9 दिसम्बर को एरोड्रम इलाके की 14 साल की लड़की पॉजिटिव पाई गई। वह 6 दिसम्बर को नाइजीरिया से मां और 8 साल के भाई के साथ इंदौर लौटी है। 8 दिसम्बर को किशोरी का सैंपल लिया तो 9 दिसम्बर को उसकी रिपोर्ट आई। RRT ने मां, भाई व नजदीकी लोगों के सैंपल लिए तो रैपिड टेस्ट में भाई भी पॉजिटिव निकल आया। दोनों को शुक्रवार को MRTB हॉस्पिटल में एडमिट किया गया है। ये कैसे चपेट में आए? इसका सोर्स अभी नहीं मिला है। इनके सहित सभी के सैंपल NCDC (नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल, दिल्ली) भेजे गए हैं।

ये भी पढ़िए: -

इंदौर में 24 घंटे में 6 नए केस:दिसम्बर के 10 दिन में 50 पॉजिटिव, इनमें 9 बच्चे; अच्छी बात यह कि 3 ठीक होकर डिस्चार्ज

MP में 24 घंटे में 15 नए केस:सबसे ज्यादा भोपाल में 7 पॉजिटिव, इंदौर में नाईजीरिया से लौटे 8 और 14 साल के भाई-बहन संक्रमित

खबरें और भी हैं...