देश के सबसे स्वच्छ शहर में लापरवाही नहीं चलेगी:चार को मिली सजा, दो की सेवा समाप्त, 10 दिन का अल्टीमेटम, निगम कमिश्नर भड़कीं

इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के सबसे स्वच्द शहर में सफाई व्यवस्था के प्रति जरा भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाती। सोमवार को नगर निगम कमिश्नर शहर के इलाकों में सफाई व्यवस्था देखने निकलीं थीं। कुछ इलाकों में गंदगी देख भड़क गईं। उन्होंने लापरवाही करने पर दो कर्मचारियों की तत्काल सेवा समाप्त करने के आदेश दे दिये। साथ ही दो कर्मचारियों की 15 दिन का वेतन काटने के निर्देश दिये हैं।

नगर निगम में जोन क्रमांक 10 वार्ड के वार्ड 42 में नगर निगम कमिश्नर पहुंची थी। यहां सफाई व्यवस्था ठीक नही होने पर कमिश्नर नाराज हो गई। जिसमें जोन 10 के बगीचे में ठीक व्यवस्था नहीं होने पर उद्यान दरोगा गजेन्द्र यादव का आगामी आदेश तक वेतन रोकने के निर्देश दे दिये।

जोन 10 में पदस्थ दरोगा सतेन्द्र यादव को जोन 8 में भेज दिया। वहीं लापरवाही करने व कचरा तथा गंदगी मिलने पर दीपक पुत्र रमेशचन्द्र गेहलोत, शीलाबाई पति शिवा की सेवा समाप्त करने के आदेश दिए है। जोन 8 में सफाई व्यवस्था ठीक नही होने से 8 सीएसआई धमेन्द्र जांगीड़ एवं वाहन सुपरवाईजर सतीश पिता रामदेव का 15 दिन का वेतन राजसात करने के आदेश दिए है।

कमिश्नर पाल ने मनीषपुरी कालोनी, गुलमर्ग नगर, साकेत नगर, पत्रकार कालोनी, मनभावन नगर सहित अन्य इलाको में दौरा कर सफाई व्यवस्था को लेकर कई आदेश दिए।

खबरें और भी हैं...