पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Daughter in law And Son Evicted From Home After Wife's Death, Apologized If Police Explained

बनते-बिगड़ते रिश्ते:पत्नी की मौत के बाद बहू और बेटे ने घर से निकाला, पुलिस ने समझाया तो माफी मांगी

इंदौर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पहले पैर छुए, फिर पिता को घर ले गए बहू-बेटे - Dainik Bhaskar
पहले पैर छुए, फिर पिता को घर ले गए बहू-बेटे
  • पुलिस पंचायत में आए आठ मामले, तीन में समझौता हुआ

एरोड्रम थाना क्षेत्र के बुजुर्ग ने पुलिस पंचायत में गुहार लगाई कि उनकी पत्नी की मौत हुए चार साल हो गए। बहू ने धक्के देकर घर से निकाल दिया। वे मंदिर में रह रहे हैं। बहू उनके साथ आए दिन मारपीट कर थाने में झूठी रिपोर्ट लिखा देती है।

यह सुनते ही एएसपी प्रशांत चौबे ने बहू और बेटे को बुलाया। उन्हें समझाइश दी कि जब मकान तुम्हारे पिता का है तो वह उन्हें घर से कैसे निकाल सकते हो। सीनियर सिटीजन एक्ट के तहत मां बाप की सहमति से ही बच्चे घर में रह सकते हैं, अगर वह अपने माता-पिता को खुश नहीं रख सकते तो उन्हें घर में रहने का अधिकार नहीं है।

एएसपी की फटकार के बाद बहू-बेटों ने गलती स्वीकार की और पिता के पैर पकड़कर माफी मांगी। उन्हें अपने साथ ले गए। उधर, राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र के एक बुजुर्ग ने शिकायत की उनकी बहू और बेटा मारपीट करते हैं। बहू भी आए दिन थाने में शिकायत करती है। एएसपी ने बहू-बेटे को बुलाकर डांटा तो वे गिड़गिड़ाने लगे।

संपत्ति नाम होते ही बेटी व दामाद ने मां को निकाला

वहीं खुड़ैल थाना क्षेत्र की 80 वर्षीय महिला ने बताया कि उनकी एक ही बेटी है जो उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करती, जबकि उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति बेटी के नाम कर दी। उन्हें इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि बेटी ही उन्हें घर से निकाल देगी।

वह मांग कर खाना खाती हैं। इसके बाद पुलिस ने बेटी और दामाद को मां को भरण-पोषण देने के लिए समझाया। उन्हें साथ रखने के लिए कहा। एएसपी के अनुसार बुधवार को पुलिस पंचायत में 8 मामले आए। इनमें से तीन में समझौता हुआ है। बाकी कोर्ट भेजे गए।

खबरें और भी हैं...