मदद:3 साल के मासूम की मौत, पुलिस स्टाफ ने करवाई अंतिम संस्कार की व्यवस्था

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • MY के बाहर बिलख रहा था परिवार, माता-पिता की जेब थी खाली

3 साल के बेटे को निमोनिया होने के बाद सारंगपुर से आए दंपती उसे एमवाय अस्पताल लेकर पहुंचे थे। इलाज के बाद भी बच्चे को बचाया नहीं जा सका। मासूम की मौत के बाद न तो उसका शव गांव ले जाने के पैसे थे और न अंतिम संस्कार के। बेटे का शव गोदी में लेकर माता-पिता अस्पताल के बाहर बिलख रहे थे। तभी पुलिस जवान ने उनकी हालत देख पूछताछ की।

समस्या जानने के बाद थाने के स्टाफ ने परिवार की मदद कर अंतिम संस्कार की व्यवस्था करवाई। संयोगितागंज थाने के कांस्टेबल प्रतापसिंह जाट के अनुसार राजगढ़ के पास सारंगपुर इलाके के एक गांव में रहने वाले सिद्धनाथ सिंह, उनकी पत्नी और बच्चे की दादी 3 साल के मासूम को लेकर 29 सितंबर को एमवायएच आए थे। बालक की जान नहीं बच पाई। पिता की जेब में गांव लौटने और बेटे के अंतिम संस्कार के रुपए नहीं थे। यहां तक कि उपचार के दौरान माता-पिता और दादी ने खाना तक नहीं खाया था।

खबरें और भी हैं...