कोविड-19 वैक्सीनेशन:98 वर्षीय चांदमल वागेरिया और उनकी 90 वर्षीय पत्नी मैनादेवी वागेरिया ने वैक्सीनेशन करवाया

इंदौर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोविड-19 टीकाकरण शनिवार को भी हुआ। पहले और दूसरे चरण में जहां ज्यादातर फ्रंटलाइन वर्कर्स ने टीके से दूरी बनाई थी, वहीं इस चरण में बुजुर्ग पूरे उत्साह से टीका लगवा रहे हैं। शनिवार को 98 वर्षीय रिटायर्ड प्रिंसिपल चांदमल वागेरिया और उनकी 90 वर्षीय पत्नी मैनादेवी वागेरिया ने वैक्सीनेशन करवाया। पोते रौनक ने बताया, दोनों को पिछले साल सितंबर में एक साथ कोरोना हुआ था। सात दिन तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद उन्होंने कोरोना को हराया। दादाजी को 60% से ज्यादा संक्रमण था।

अब साथ में दोनों ने टीका लगवाया, ताकि लोगों को संदेश पहुंचे। वहीं, आमजन को प्रेरित करने के उद्देश्य से धर्मगुरु भी आगे आए हैं। झालरिया पीठाधीश्वर घनश्यामाचार्य ने वैक्सीन का पहला डोज लगवाया। स्वामी ने कहा भारत में बनी वैक्सीन भरोसेमंद और सुरक्षित है। अण्णा महाराज ने भी कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन का टीका लगाकर भक्तों से अपील की कि सभी लोग टीका लगाकर महामारी से बचने का प्रयास करें। प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह और विधायक महेंद्र हार्डिया ने भी शनिवार को टीका लगवाया।

90 साल की वेद रानी खन्ना ने लगवाया टीका

90 साल की वेद रानी खन्ना ने भी शनिवार को पीसी सेठी अस्पताल में परिवार और रिश्तेदारों के साथ टीका लगवाया। परिजन ने कहा जब सभी लोग कोरोना का टीका लगवाएंगे, तभी इस महामारी का अंत होगा और पूरा समाज स्वस्थ जीवन जिएगा। परिजन के मुताबिक जब उन्हें पता लगा कि कई लोग सरकार द्वारा निमंत्रण दिए जाने के बाद भी टीका नहीं लगवा रहे तभी उन्होंने तय कर लिया था कि वे खुद को जरूर वैक्सीनेट करवाएंगी।

खबरें और भी हैं...