पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अव्यवस्था का आलम:सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में 3 घंटे तक देखने नहीं आए डॉक्टर, पानी भी नहीं मिला

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड से लड़ाई में मदद करने वाले परिवार की महिला का आरोप

60 प्रतिशत फेफड़े संक्रमित होने के बाद एक महिला को बुधवार रात सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। यहां तीन घंटे तक इलाज मिलना और डॉक्टर आना तो दूर, महिला को पीने का पानी तक नहीं मिला। इस पर महिला ने परिजन से कहा कि यहां रही तो निश्चित मर जाऊंगी।

परिजन ने जैसे-तैसे उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया। महिला के परिवार ने राधास्वामी कोविड केयर सेंटर व एमटीएच में ऑक्सीजन प्लांट लगाने में प्रशासन की पूरी मदद की, लेकिन जब उन्हें ही इलाज की जरूरत पड़ी तो अमानवीयता का सामना करना पड़ा।

रेसकोर्स रोड निवासी सतपाल कौर ने भास्कर को बताया कि वे पॉजिटिव आने के बाद होम आइसोलेशन में थीं। सीटी स्कैन कराया तो फेफड़ों में इन्फेक्शन 60 प्रतिशत तक पहुंच गया था। बुधवार शाम सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराने के लिए एक बेड की व्यवस्था हुई। शाम 7 बजे जनरल वार्ड में भर्ती करवाया। दो घंटे बाद सतपाल ने पति हरजीत सिंह को कॉल किया कि उन्हें प्यास लग रही है, लेकिन यहां पानी की व्यवस्था नहीं है। गंभीर हालत होने के बावजूद न ड्यूटी डॉक्टर देखने आया और न कोई नर्स आई। इस बारे में जब अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुमित शुक्ला से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने न कॉल रिसीव किया और न मैसेज का जवाब दिया।

ऑक्सीजन प्लांट बनवाने में मदद का ये सिला

सतपाल के जेठ पप्पू भाटिया निगम काॅन्ट्रैक्टर हैं। उन्होंने राधास्वामी कोविड केयर सेंटर व एमटीएच हॉस्पिटल में ऑक्सीजन प्लांट लगाने में प्रशासन की पूरी मदद की। जब उन्हें लापरवाही का पता चला तो उन्होंने निगम और प्रशासन के अधिकारियों से मदद की गुहार लगाई। काफी प्रयासों के बाद चोइथराम में एक सेमी प्राइवेट वार्ड में बेड की व्यवस्था हो सकी। रात 10 बजे सतपाल को चोइथराम हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया।

खबरें और भी हैं...