पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

स्वास्थ्य से खिलवाड़:नकली घी की फैक्ट्री में दबिश देने पहुंची टीम भी चौंकी, ब्रांडेड कंपनी के 500 से 600 रुपए किलो वाले घी को 300 रुपए किलो में बेच रहा था, बताया कैसे बनाता था घी

इंदौर25 दिन पहले
भगाेने में करीब 60 लीटर नकली घी बनाते हुए मिला आरोपी।
  • क्राइम ब्रांच ने पुलिस और खाद्य विभाग की टीम के साथ खजराना क्षेत्र में नकली घी बनाने के कारखाने पर दबिश दी
  • डालडा में सनफ्लावर तेल और सुगंध वाला केमिकल मिलाकर अमूल, सांची और नोवा ब्रांड के नाम से बेचता था

क्राइम ब्रांच ने पुलिस और खाद्य विभाग की टीम के साथ शुक्रवार को खजराना क्षेत्र में नकली घी बनाने के कारखाने पर दबिश दी तो वहां सामान देख चौंक गई। एक रूम में नकली घी बनाकर बाजार में खपाने वाले युवक को टीम ने यहां से गिरफ्तार किया। आरोपी इंदौर, उज्जैन सहित अन्य पड़ोसी जिलों के व्यापारियों को नकली घी बेचता था। यह डालडा में सनफ्लावर तेल और सुगंध वाला केमिकल मिलाकर अमूल, सांची और नोवा ब्रांड के नाम से पैकिंग कर व्यापारियों को 300 रु. किलो में बेचता था।

व्यापारी इस घी को 500 से 600 रुपए किलो में लोगों को खपाते थे। टीम ने मौके से स्टॉक रजिस्टर, 500 लीटर से अधिक नकली घी, डालडा, सनफ्लावर ऑयल, केमिकल, एसेंस, एयरटाइट पैकिंग करने का सामान जैसे सिल्वर पन्नी, पैकिंग मशीन, इलेक्ट्रिक तौल मशीन, रैपर, डिब्बे, अमूल, सांची और नोवा कंपनी के नकली बैंचमार्क सील और स्टीकर बरामद किया है। टीम ने कारखाने को सील कर दिया है।

आरोपी दो साल से किराए का कमरा लेकर यह काम कर रहा था।
आरोपी दो साल से किराए का कमरा लेकर यह काम कर रहा था।

क्राइम ब्रांच काे सूचना मिली थी कि इलियास कॉलोनी खजराना में एक व्यक्ति नकली घी बनाकर सांची के नाम से पैकिंग कर उसे बाजार में खपा रहा है। वह ब्रांड बताने के लिए सांची के खाली रैपर और पैकेट छपवा कर उस पर नकली होल मार्क एवं सील भी लगाता है। इस पर एक टीम ने खजराना पुलिस और खाद्य विभाग के साथ इरफान गौरी के मकान, कुबा मस्जिद के पास खजराना पैलेस इंदौर पर दबिश दी। इलयास कॉलोनी के बताए पते पर टीम पहुंची ताे यहां अशरफ पिता शमशेर अली निवासी 11 हबीब कॉलोनी सेक्टर बी इंडियन जिम वाली गली बड़े भगाेने में नकली घी बना रहा था। उसने बताया कि मकान इरफान गौरी का है, जिसे उसने किराए से ले रखा है।

सांची की ढेरों पैकिंग मिलीं।
सांची की ढेरों पैकिंग मिलीं।

टीम काे यहां अमूल, सांची, नोवा घी के डिब्बे मिले। उसने बताया कि वह इस मकान पर करीब 2 साल से नकली घी बनाने का काम कर रहा है। इसके लिए वह वनस्पति डालडा को सनफ्लावर तेल के साथ मिलाकर बड़े तबेले में गर्म करता है और उसमें घी की सुगंध वाला केमिकल मिला देता था। पैकिंग के लिए स्थानीय प्रिंटिंग प्रेस पर सांची और अमूल के खाली कार्टून पैकेट छपवा लेता है। उसके बाद सांची और अमूल कंपनी की तरह एयर टाइट पैकिंग कर डिब्बों पर सील लगा देता है। इसके अलावा वह नकली बारकोड का इस्तेमाल भी करता है। अशरफ ने बताया कि वह 2 साल से नकली घी इंदौर में सियागंज के व्यापारियों के अलावा उज्जैन मैं व्यापारियों और मंदिरों के आसपास दुकानों में काफी मात्रा में खपाता आ रहा है।आरोपी ने पूछताछ में बताया कि सांची और अमूल का नकली घी 300 किलो में दुकानदारों को सप्लाई करता था। दुकानदार इसे 500 से 600 रुपए किलो में ग्राहकों को शुद्ध सांची एवं अमूल का घी बताकर बेच देते थे।

नकली घी के पीपे भी यहां से मिले हैं।
नकली घी के पीपे भी यहां से मिले हैं।

टीम को कारखाने से यह मिला
नकली घी के पैकेट, जिसमें सांची के 1 लीटर के 33 पैकेट बैच नंबर 12, 1 लीटर के 12 पैकेट बैच नंबर 17, 500 मिली सांची घी के 102 पैकेट बैच नंबर 90, अमूल घी के 35 पैकेट बैच नंबर 35 जीएए 1120, 1 लीटर के 19 पैकेट बैच नंबर बीएबी 1422, नोबा घी के 14 पैकेट 1 लीटर वाले बैच नंबर यूपी 321, 15 लीटर का अमूल घी का केन, नकली घी से भरा भगाेना, जिसमें करीब 60 लीटर नकली घी, सूर्या गोल्ड कंपनी की 30 लीटर की रिफाइंड ऑयल की बाल्टी, फेबी बॉण्ड 18 नग, गैस टंकी, टेप, स्टीकर, पैकिंग वाली सिल्वर पन्नी, पैकिंग करने की मशीन, वनस्पति डालडा के 15 लीटर के 10 डिब्बे और सनफ्लावर तेल के 8 डिब्बे, सांची और अमूल के खाली रैपर कार्टून बॉक्स, बारकोड मशीन, गैस सिलेंडर की 2 टंकी, चूल्हा, इलेक्ट्रॉनिक ताैल मशीन, विभिन्न प्रकार का पैकिंग मेटेरियल, सांची एवं अमूल की नकली सील। इसके अलावा पुलिस ने जिन व्यापारियों को माल सप्लाई किया गया, उसका स्टॉक रजिस्टर भी मौके से जब्त किया है। साथ ही करीबन 500 लीटर नकली घी बरामद हुआ है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर कारखाने को सील क दिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें