पैथोलॉजी एसो. ने की शिकायत:कोरोना काल में खुली फर्जी लैब, स्वास्थ्य विभाग कराएगा जांच

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में शहर में एकाएक ढेरों पैथोलॉजी लैबोरेटरी खुलीं। इनमें से कुछ बगैर रजिस्ट्रेशन के ही चल रही हैं। हैरानी यह है कि स्वास्थ्य विभाग के पास इसका हिसाब-किताब भी नहीं है कि बीते डेढ़ साल में कितनी लैब को अनुमति दी गई। विभाग के पास करीब 200 लैब की सूची है। इनमें कितनी नई-कितनी पुरानी हैं, किसी को नहीं पता।

पैथोलॉजी एसोसिएशन ने शहर में बिना अनुमति चल रही लैब और कलेक्शन सेंटर की जांच की मांग की थी। पैथोलॉजिस्ट इस बात को लेकर मुखर हो रहे हैं कि कई बड़ी लैब ने कलेक्शन सेंटर्स खोल दिए और सैंपल की जांच कहीं अन्य शहर में कराई जा रही है। वे रजिस्टर्ड लैब्स की सूची मांग रहे हैं, लेकिन उन्हें सूची भी नहीं दी जा रही है।

उधर, इस विवाद के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएस सैत्या ने अन्य अधिकारियों को भी इसकी जिम्मेदारी देने का मना बना लिया है। शहर का भौगोलिक क्षेत्र ज्यादा है। ऐसे में एक-दो अधिकारी सभी लैब की जांच नहीं कर सकते। उनके पास अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों की जिम्मेदारी भी होती है। इसलिए ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर्स की सेवाएं ली जाएंगी।

खबरें और भी हैं...