इंदौर में पले-बढ़े क्रिकेटर वेंकटेश:बचपन में टीम इंडिया के हारने पर बीमार पड़ जाते थे; क्रिकेट में गांगुली, एक्टिंग में रजनीकांत पसंद

इंदौर10 महीने पहलेलेखक: अमित सालगट

IPL में इंदौर के ऑलराउंडर वेंकटेश अय्यर अपनी शानदार परफॉर्मेंस को लेकर चर्चाओं में हैं। कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) की ओर से खेलते हुए अय्यर ने इस IPL सीजन कमाल का प्रदर्शन किया है। अय्यर के माता-पिता को बेटे के इस मुकाम पर पहुंचने पर गर्व है। उनकी इच्छा है कि बेटा टीम इंडिया के लिए खेले।

इंदौर के तिलक नगर इलाके में वेंकटेश अय्यर के पिता रामशेखरन अय्यर और मां उषा अय्यर रहते हैं। वेंकटेश के पिता एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते हैं। मां इंदौर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में न्यूरोलॉजी विभाग में फ्लोर कोऑर्डिनेटर हैं। वेंकटेश के पिता ने बताया कि उनका परिवार 1988 में चेन्नई से इंदौर आया था। दिसंबर 1994 में वेंकटेश का जन्म इंदौर में ही हुआ। वेंकटेश ने स्कूल की पढ़ाई सेंट पॉल से की। रेनसा कॉलेज से BCom और DAVV से MBA फाइनेंस में किया। सौरभ गांगुली उनके आइडल हैं तो वह रजनीकांत के फैन।

वेंकटेश की मां उषा अय्यर और पिता रामशेखरन अय्यर
वेंकटेश की मां उषा अय्यर और पिता रामशेखरन अय्यर

बचपन में इंडिया के हारने पर हो गए थे बीमार
पिता ने बताया वेंकटेश जब 6th स्टैंडर्ड में थे, तब इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच था। सौरभ गांगुली कम रन पर आउट हो गए और इंडिया मैच भी हार गया। उस वक्त वेंकटेश काफी अपसेट हो गए और उन्हें बुखार आ गया। तब समझ आया कि वेंकटेश को क्रिकेट से कितना लगाव है। वेंकटेश सौरभ गांगुली को आइडियल मानते हैं और उनकी तरह ही खेलते हैं। वेंकटेश लेफ्ट हैंड से बैटिंग और राइट हैंड से बॉलिंग करते हैं।

जनीकांत के भी फैन
वेंकटेश की मां उषा अय्यर ने बताया कि वेंकटेश शुरू से ही स्मार्ट रहे हैं। वह पढ़ाई में टॉपर होने के साथ ही स्पोर्ट्स में भी काफी अच्छे रहे। वेंकटेशन को TV देखना काफी पसंद है। वह मूवी और खासकर कुकिंग शो देखते हैं। वह रजनीकांत के भी फैन हैं। रजनीकांत की सभी फिल्म देखते हैं। कई बार तो चेन्नई में अपनी बड़ी बहन के यहां जाते हैं तो वहां टॉकीज में जाकर रजनीकांत की फिल्म देखते हैं।

वेकटेश को साईराम के नाम से पुकारते हैं
वेंकटेश अपने माता-पिता और बहन का काफी ख्याल रखते हैं। वह अपनी मां के काफी करीब हैं। वह ज्यादातर बातें अपनी मां से ही शेयर करते हैं। घर में कुछ लाना हो या कहीं जाना हो, मां से ही इस पर चर्चा करते हैं। उषा के मुताबिक वेंकटेश के घर का नाम साईराम है। परिवार और आसपास में सभी वेंकटेश को साईराम के नाम से ही पुकारते हैं।

परिवार के साथ अय्यर की सेल्फी।
परिवार के साथ अय्यर की सेल्फी।

खनूजा क्लब से की शुरुआत
पिता ने कहा वेंकटेश ने सबसे पहले खनूजा क्रिकेट क्लब में शुरुआत की। यहां इंद्रजीत सिंह सर ने वेंकटेश को कोचिंग दी। इसके बाद सादिक सर ने। इसके बाद वेंकटेश को MYCC में दिनेश शर्मा ने क्रिकेट के गुर सिखाए। दिनेश शर्मा सर ने ही वेंकटेश की छुपी प्रतिभा को पहचाना। MPCA के कोच चंद्रकांत पंडित ने वेंकटेश को ट्रेनिंग दी। उन्होंने कहा कि वे हर मैच के पहले वेंकटेश को मैसेज या फोन कर शुभकामना देते हैं।

कोलकाता नाइट राइडर्स को 27 रन से हराकर चौथी बार CSK ने जीता IPL का खिताब

भास्कर एक्सप्लेनर:IPL चैम्पियन चेन्नई को मिले 20 करोड़, जानें किस पर कितनी हुई पैसों की बारिश

खबरें और भी हैं...