• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Flex Printing Merchants Of Indore Cheated Twice With The Same Thug, Transferred 30 Thousand From Google Pay Both Times

बजाज फाइनेंस का लोन अप्रूवल के नाम ठगी:इंदौर के फ्लेक्स प्रिंटिंग व्यापारी एक ही ठग से दो बार ठगाए, दोनों बार गूगल पे से 30 हजार ट्रांसफर किए

इंदौर10 महीने पहले

इंदौर में फ्लेक्स प्रिंटिंग व्यापारी दंपती से बजाज फाइनेंस के नाम पर ठगी हो गई। एक बदमाश ने महिला मित्र के साथ दो बार में 20 लाख का लोन दिलाने के नाम पर करीब 30 हजार से अधिक रुपए ठग लिए। मामले में प्रिंटिंग व्यापारी ने मोबाइल नंबर के आधार पर DCP को शिकायत की। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

मामला तिलक नगर इलाके के महादेव तोतला नगर का है। यहां पुलिस ने वर्षा पति आशीष जैन निवासी महादेव तोतला नगर ने पूजा और प्रमोद कुमार के खिलाफ केस दर्ज कराया है। वर्षा ने दोनों के मोबाइल नंबर भी पुलिस को दिए हैं। वर्षा ने पुलिस को बताया कि उनकी बड़वानी प्लाजा में फ्लेक्स और प्रिंटिंग की दुकान है।

यहां 6 मार्च को उनके पास एक मोबाइल से फोन आया। युवती ने अपना नाम पूजा बताया। उसने बताया कि वह बजाज फायनेंस के पुणे स्थित ऑफिस से बात कर रही है। उसने 20 लाख रुपये का लोन अप्रूव होने की बात की। उसने कहा आपको कुछ प्रोसेस ऑनलाईन करना होगी। इसके बाद आपके खातों में रुपए ट्रांसफर हो जाएंगे।

लोन की राशि का बीमा कराने के नाम फिर मांगे 22 हजार

पूजा ने अपने पति से बात कर प्रोसेसिंग फीस के नाम पर 7 हजार रूपए गूगल पे के माध्यम से ट्रांसफर कराए। इसके बाद अगले दिन फिर से पूजा ने कॉल किया और लोन की राशि बड़ी होने पर उसका बीमा करवाने के लिये करीब 22 हजार से अधिक राशि जमा करने की बात कही। वर्षा ने इतने रुपए देने से इंकार कर दिया। इसके बाद पूजा ने प्रमोद कुमार को बैंक अधिकारी बताते हुए बात कराई। वर्षा को प्रमोद ने समझाइश देते हुए कहा बीमे की राशि वापस मिल जाएगी। तब वर्षा ने गूगल पे से 22 हजार रुपए ट्रांसफर कर दिए।

अंतरराष्ट्रीय करेंसी चेंज करने की बात पर फिर मांगे रूपये
इसके बाद पूजा ने वर्षा को फिर से कॉल किया।उसने बताया कि इतने रूपये को अंतराष्ट्रीय करेंसी से चेंज करना पड़ेगा जिसमें उनके विदेश के खातों से राशि ट्रांसफर होगी। इसके एवज में वर्षा से करीब 38 हजार की और मांग की। और रुपए देने की बात वर्षा ने लोन की राशि लेने से इंकार कर दिया। वर्षा ने अपने रूपए भी वापस मांगे। काफी बहस के बाद वर्षा ने प्रमोद से बात की और पुलिस में शिकायत की धमकी दी। जिसमें प्रमोद ने यहां तक कहा कि वह किसी भी पुलिस के पास चले जाए अब राशि वापस नही मिलेगी। इस बहस के बाद दोनों नंबर पर कॉल उठाना बंद कर दिया। पुलिस ने इस मामले में जांच के बाद धोखाधड़ी ओर धमकाने के मामले में केस दर्ज किया है।

ऐसे रखें सावधानी, टल सकती है ठगी
इस मामले में एसीपी सायबर जितेन्द्र सिंह ने बताया कि किसी भी अनजान व्यक्ति के मेल, एसएमएस और बैंक इंश्योरेंस जैसे मैसेज की लिंक नहीं खोलना चाहिए। लोन या बैंकिंग जैसी संस्थाओं से सीधे ब्रांच में जाना चाहिए। मोबाइल पर लोन देने के नाम पर कई तरह की ठगी होती है। ऐसे कॉल को तुरंत डिस्कनेक्ट करना चाहिए।

खबरें और भी हैं...