पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • For The First Time, The Country's Top Celebrities Told ... Emphasis On Manufacturing skill Development, Got 'special City' Status

क्या हो आत्मनिर्भर इंदौर का ब्लूप्रिंट:पहली बार देश की शीर्ष हस्तियों ने बताया...मैन्युफैक्चरिंग-स्किल डेवलपमेंट पर जोर, मिले ‘स्पेशल सिटी’ का दर्जा

इंदौर।12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो
  • पेटीएम फाउंडर- टियर-2 शहरों में छोटे मैन्युफैक्चरिंग हब बने, अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी

सफाई में नंबर वन बनाने वाले लोग इंदौर को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई छोटे-बड़े प्रयास कर रहे हैं। भास्कर ने उद्योग जगत से जुड़ी शीर्ष हस्तियों से पूछा तो उन्होंने इंदौर को स्पेशल सिटी बनाने, मैन्युफैक्चरिंग, स्किल डेवलपमेंट पर जोर देने को कहा।

टियर-2 शहरों में छोटे मैन्युफैक्चरिंग हब बने, अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी- विजय शेखर शर्मा,(फाउंडर, पेटीएम)

फोर्ब्स की लिस्ट में शामिल सबसे कम उम्र के अरबपति बने, पेटीएम पेमेंट बैंक में 51 फीसदी की हिस्सेदारी
फोर्ब्स की लिस्ट में शामिल सबसे कम उम्र के अरबपति बने, पेटीएम पेमेंट बैंक में 51 फीसदी की हिस्सेदारी

वर्तमान में जारी कोरोना महामारी ने लघु और मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) को बुरी तरह प्रभावित किया है। लगभग साढ़े पांच महीने से ये उद्योग महामारी की मार झेल रहे हंै। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया आत्मनिर्भर भारत अभियान, एमएसएमई को आत्मनिर्भर बनाने में महती भूमिका निभाएगा। ये एमएसएमई भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं और मुख्य रूप से टियर 2 और टियर 3 श्रेणी के शहरों में स्थापित हैं।

आत्मनिर्भर भारत अभियान, इन शहरों में कौशल को बढ़ाएगा। इससे एमएसएमई के लिए बेहतर काम करने वाला इकोसिस्टम तैयार होगा, जो अंतत: देश की अर्थव्यवस्था में तेजी लाएगा। इसके लिए अब हमें ऐसे शहरों में छोटे मैन्युफैक्चरिंग रिंग हब बनाने की जरूरत है। ऐसा किया तो ये आयात पर हमारी निर्भरता को कम करेगा। उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार जीडीपी में 30 फीसदी, निर्यात में 45 और कुल उत्पादन में 34 फीसदी भागीदारी इन लघु और मध्यम उद्योगों की है। यानी ये अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अहम भूमिका अदा कर सकते हैं।

खाद्य प्रसंस्करण सेवाओं और उत्पाद के केंद्र में, रोजगार की संभावनाएं इसी में- सुरेश नारायणन -चेयरमैन व एमडी, नेस्ले इंडिया

दुनिया के कई देशों में नेस्ले की जिम्मेदारी संभाली, भारत में चार्ज संभालने के बाद बदली सेल्स स्ट्रैटजी, कंपनी की बढ़ी आय
दुनिया के कई देशों में नेस्ले की जिम्मेदारी संभाली, भारत में चार्ज संभालने के बाद बदली सेल्स स्ट्रैटजी, कंपनी की बढ़ी आय

भारतीय उपभोक्ताओं को पौष्टिक और स्वादिष्ट उत्पादों की सतत व निरंतर आपूर्ति की सुनिश्चितता के लिए उन खाद्य का प्रसंस्करण अत्यंत महत्वपूर्ण है, जो भारतीय उपभोक्ताओं के लिए स्थानीय तौर पर उचित हों। मेक इन इंडिया अभियान के तहत खाद्य प्रसंस्करण की पहचान प्राथमिकता वाले क्षेत्र के रूप में की गई है। कृषि और खाद्य प्रसंस्करण एक ही सिक्के के दो पहलुओं की तरह हैं। आवश्यक सेवाओं व उत्पादों की बात करें तो खाद्य प्रसंस्करण उद्योग इसके केंद्र में हैं। इसके कुछ बिंदु हैं। जैसे- ये रोजगार देता है, भविष्य के उद्यमियों को ढालता है।

ऐसे में उद्यमियों को विश्वसनीयता के साथ जो उत्पाद वे तैयार करते हैं, उसकी गुणवत्ता व सुरक्षा पर जोर देना चाहिए। उन्हें सर्वश्रेष्ठ कच्चे माल की खरीद करना चाहिए। आपूर्तिकर्ताओं के साथ ऐसी साझेदारी हो, जिसमें गहरा जुड़ाव और विश्वास हो। उन्हें परिवर्तनात्मक होने के साथ व्यापार में सरल और फुर्तीला होना होगा। वे उन उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करें, जो विश्वसनीय ब्रॉन्ड से गुणवत्तापूर्वक, पोषक व सुरक्षित उत्पादों की मांग करते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों पर हो फोकस, इंदौर इसमें भी बने मॉडल- नीरजा बिड़ला (चेयरपर्सन, आदित्य बिड़ला एजुकेशन ट्रस्ट)

उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला की पत्नी, इंदौर में पली-बढ़ीं, मानसिक स्वास्थ्य सुधार के अभियानों से जुड़ी हैं
उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला की पत्नी, इंदौर में पली-बढ़ीं, मानसिक स्वास्थ्य सुधार के अभियानों से जुड़ी हैं

आत्मनिर्भर भारत प्रधानमंत्री का सशक्त कॉल टू एक्शन है। हमारा देश तभी आत्मनिर्भर बन सकता है, जब बड़े शहरों के साथ छोटे शहर और ग्रामीण क्षेत्र भी इस चुनौती को स्वीकार करें। इसका उदाहरण इंदौर है, जो स्वच्छता सर्वेक्षण में लगातार चार बार देश का सबसे स्वच्छ शहर चुना गया। स्वच्छता के साथ हरे-भरे और स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित होता ये शहर अब आत्मनिर्भरता में अव्वल आने की कोशिश कर रहा है।

निवेश, व्यापार विस्तार, उत्पादन, रोजगार निर्माण, कौशल विकास और तेजी से होते अधोसरंचनात्मक विकास के साथ इंदौर को बड़े पैमाने पर शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भी काम करना होगा। बेहतर स्वास्थ्य के बगैर लोग तरक्की नहीं कर सकते। मप्र में 6 से 7% लोग सामान्य मानसिक परेशानी और 1 से 2% गंभीर मानसिक बीमारी से त्रस्त हैं। आत्मनिर्भर बनने के लिए मजबूत मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की जरूरत है। यह देखना होगा कि क्लीन, ग्रीन और स्मार्ट बनने के साथ क्या इंदौर मेंटल वेलबिइंग मॉडल में भी पूरे देश के लिए उदाहरण बन सकता है।

स्पेशलाइज्ड इंडस्ट्री व इन्फ्रास्ट्रक्चर बना सकता है इंदौर को आत्मनिर्भरता में लीडर- महेश गुप्ता (चेयरमैन व एमडी, केंट आरओ)

1998 में बच्चों के बीमार होने पर समझी साफ पानी की अहमियत, सिर्फ 20 हजार में शुरू की कंपनी, अब मार्केट लीडर
1998 में बच्चों के बीमार होने पर समझी साफ पानी की अहमियत, सिर्फ 20 हजार में शुरू की कंपनी, अब मार्केट लीडर

एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स की एक रिपोर्ट ने खुलासा किया था कि वायु प्रदूषण किसी भी व्यक्ति की संभावित आयु (लाइफ एक्सपेक्टेसी) दो साल तक घटा देता है। इंदौर ने चार बार सफाई में नंबर वन आकर शहर की आबोहवा या पर्यावरण को शुद्ध करने का जो काम किया है, वह उसके आत्मनिर्भर बनने के लक्ष्य को और मजबूत करेगा। हम सब जानते हैं कि कारोबारी निवेश के लिए शुद्ध, हवा पानी भी एक शर्त है। यानी इंदौर एयर कनेक्टिविटी, निवेश नीति, उपलब्ध संसाधन के लिहाज से उद्योगों के लिए आकर्षण बन सकता है तो यहां का पर्यावरण, पानी भी उसे इसमें मदद करेगा। इसे और बेहतर निवेश स्थल बनने और आत्मनिर्भर अभियान का लीडर बनने के लिए दो-तीन बड़े काम करना होंगे। जैसे- इस तरह के स्किल डेवलपमेंट सेंटर बनाने होंगे, जहां कई तरह की विधाओं के जानकार कुशल श्रमिक मिल सके। दूसरा, इन्फ्रास्ट्रक्चर पर और काम करना होगा, ताकि बड़े शहरों से शिफ्ट होने वाले प्रोफेशनल्स को शहर असुविधाजनक न लगे। तीसरा, किसी स्पेशलाइज्ड इंडस्ट्री पर इसे फिर से फोकस करना होगा।

आईटी सेक्टर की तेज ग्रोथ होगी, बड़ी कंपनियां व प्रोफेशनल्स यहां शिफ्ट होंगे- कीर्ति बाहेती (एमडी, यश टेक्नोलॉजी)

1996 में कंपनी की शुरुआत करने के बाद हमने इंदौर और मप्र में निवेश में लगातार वृद्धि की है। 1000 लोग इंदौर में काम कर रहे हैं, जबकि 4500 से अधिक लोग पूरे भारत में काम करते हैं। ग्लोबली 6500 लोग 45 सेंटर में काम करते हैं। आत्मनिर्भर इंदौर को ध्यान में रखते हुए अब हम इंदौर में सबसे बड़ा वितरण केंद्र लेकर आ रहे है। अभी फेज- 1 में 3000 लोग काम करेंगे और कुल मिलाकर 12000 लोग काम कर सकेंगे। हमारे 45 बड़े सेंटर्स हैं, पर मुख्यालय इंदौर ही है। हम डिजिटल और इनोवेशन पर पूरा फोकस कर रहे हैं। दरअसल, इंदौर आईटी सेक्टर के लिए संभावनाओं वाला शहर बन चुका है। आईटी प्रोफेशनल्स भी बड़े शहर छोड़ यहां काम करने के इच्छुक हैं। आत्मनिर्भर इंदौर अभियान में मुझे लगता है कि आईटी सेक्टर की ग्रोथ सबसे अधिक होगी। कनेक्टिविटी, पर्यावरण, खान-पान, रहन-सहन के साथ निवेश और कारोबार की आदर्श परिस्थितियां इंदौर को सबसे अलग करती हैं। इस सेक्टर के लिए पर्याप्त जमीन और सुविधाएं भी सरकार उपलब्ध करवा रही है।

इंदौर को ‘खास शहर’ का स्टेटस दें पीथमपुर बने सेंटर फॉर हाईटेक इंडस्ट्री - टी वी मोहनदास पई( चेयरमैन, मणिपाल ग्लोबल एजुकेशन)

इन्फोसिस के पूर्व डायरेक्टर, पद्मश्री से सम्मानित, देश में टैक्स निर्धारण के लिए बनी केलकर कमेटी के सदस्य भी रहे
इन्फोसिस के पूर्व डायरेक्टर, पद्मश्री से सम्मानित, देश में टैक्स निर्धारण के लिए बनी केलकर कमेटी के सदस्य भी रहे

आत्मनिर्भर इंदौर में रोजगार कैसे बढ़ेगा, इसके लिए अवसर कैसे पैदा किए जा सकते हैं, इस पर फोकस करना होगा। सबसे पहले सरकार इंदौर को स्पेशल सिटी का स्टेटस दे और फिर देश-दुनिया में जाकर इसकी ब्रॉन्डिंग करें, ताकि नई इंडस्ट्री आए और बड़े पैमाने पर रोजगार पैदा हों। इंफ्रास्ट्रक्चर में मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट को गति मिले और इसे कम से कम 100 किमी दायरे में इस तरह शुरू करें कि लोगों को एक किमी से ज्यादा पैदल न चलना पड़े। अब पूरा जोर इलेक्ट्रिक वाहनों पर हो। बड़े स्कूल ग्रुप, एजुकेशन इंस्टिट्यूट के लिए जमीनें रिजर्व करें और उन्हें लाने की कोशिश करें।

कल्चरल सिटी और टूरिज्म डेस्टिनेशन बनाकर इंदौर को मप्र का एक बड़ा सेंटर बनाया जा सकता है। इसके लिए भी ब्रॉन्डिंग जरूरी है। स्टार्टअप हब बनाने के लिए शुरुआती दौर में सरकार 1000 करोड़ का फंड बनाए। पीथमपुर को सेंटर फॉर हाईटेक इंडस्ट्री के रूप में डेवलप करें और यहां टेक्नोलॉजी से जुड़ी इंडस्ट्री को लाएं। इंदौर से बड़े शहरों के लिए एक्सप्रेस हाईवे बनाएं। नए बड़े होटल्स लाने की कोशिश करें, जिससे शहर में हर समय 15 हजार से ज्यादा रूम उपलब्ध रहें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें