हर महीने रहती है चार हजार पुस्तिका की मांग:इंदौर की सरकारी प्रेस बंद, भोपाल से 3 माह से ऋण पुस्तिका ही नहीं आ रही

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में हर माह तीन से चार हजार लोगों के बटांकन, नामांतरण होते हैं और इन्हें उनकी जमीन के स्वामी संबंधी दस्तावेज में ऋण पुस्तिका भी मिलती है, लेकिन दस हजार से ज्यादा लोग ऋण पुस्तिका के लिए परेशान हो रहे हैं, क्योंकि भोपाल से यह आवंटित ही नहीं हो रही है।

प्रशासन पांच बार भोपाल को पत्र लिख चुका है, भू अभिलेख विभाग में बात भी की, लेकिन ऋण पुस्तिका का आवंटन अब तक नहीं हुआ है। जिले में हर साल औसतन 50 हजार ऋण पुस्तिका की जरूरत होती है। पहले इसकी छपाई इंदौर के शासकीय प्रिंटिंग प्रेस में ही होती थी, लेकिन भोपाल को छोड़कर इंदौर व अन्य सभी जगह प्रेस बंद होने से समस्या बढ़ गई है। भोपाल की प्रेस पर काम का दबाव अधिक होने से ऋण पुस्तिका की आपूर्ति नहीं हो रही है।

इंदौर के अधिकारियों ने बताया कि जून अंत से ही राजस्व कामों में तेजी होने से ऋण पुस्तिका की मांग बढ़ गई है, लेकिन आपूर्ति तीन माह से बंद है। इसलिए अभी इनका वितरण नहीं हो रहा है। उधर, भोपाल प्रिंटिंग प्रेस के डिप्टी कंट्रोलर मंथन वार ने कहा कि अभी काम का काफी दबाव है और साथ ही कागज की भी कमी है, इसके चलते थोड़ी देरी हुई है लेकिन हम जल्द ही इंदौर को इसकी आपूर्ति कर देंगे।

मप्र शासन ने ऑनलाइन कॉपी देने की प्रक्रिया शुरू की

मप्र भू-अभिलेख की वेबसाइट https://mpbhulekh.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन से खसरा की प्रतिलिपि, बी-1 की प्रतिलिपि, नक्शा की प्रतिलिपि, खसरा की प्रतिलिपि (खाते के समस्त), खातावार खसरा की प्रतिलिपि, आदेश की प्रतिलिपि, अधिकार अभिलेख की प्रतिलिपि के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके उपरांत डिजिटली हस्ताक्षरित दस्तावेज भी लोग डाउनलोड कर प्राप्त कर सकते हैं। प्रमाणित प्रतिलिपि के लिए शुल्क है, प्रमाणित प्रतिलिपि अंतर्गत सभी भूमि रिकॉर्ड डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित हैं। ऑनलाइन आवेदन जमा करने के लिए सर्वप्रथम https://mpbhulekh.gov.in पर “Register as a public user” के विकल्प के माध्यम से पंजीयन करना होगा, जिसके पश्चात आपको यूजर आई.डी. एवं पासवर्ड उपलब्ध होगा, जिसका उपयोग कर लॉगिन करने से यह दस्तावेज मिल सकेंगे।

खबरें और भी हैं...