• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Heavy Rain Likely In Satna, Guna, Sheopurkalan, Chhatarpur And Tikamgarh, Still Drizzle In Indore Bhopal

MP के 20 जिलों में झमाझम का अलर्ट:सतना, गुना, श्योपुरकलां, छतरपुर और टीकमगढ़ में भारी बारिश की संभावना, इंदौर-भोपाल में अभी रिमझिम बारिश

इंदौर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर में सुबह से ही रिमझिम बारिश का दौर जारी है। - Dainik Bhaskar
इंदौर में सुबह से ही रिमझिम बारिश का दौर जारी है।

माैसम विभाग ने प्रदेश के 20 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। इसमें से सतना, गुना, श्योपुरकलां, छतरपुर और टीकमगढ़ जिले में तो भारी बारिश की संभावना जताई गई है। हालांकि इन 20 जिलों में इंदौर, भोपाल शामिल नहीं है। बारिश के प्रमुख माह जुलाई के अंतिम दिन इंदौर में सुबह से ही रुक-रुककर रिमझिम बारिश का दौर जारी है। इस सीजन 1 जून से अब तक कुल 9.7 इंच ही पानी बरसा है। हालांकि यह औसत 10 इंच के करीब है।

पिछले साल इस वक्त तक 12.2 इंच बारिश हो चुकी थी। अब अगस्त में अच्छी बारिश की उम्मीद है, ताकि शहर का आंकड़ा औसत 34 इंच तक पहुंच सके। इधर, लगातार हल्की फुहारें गिरने, बादल छाए रहने और तेज हवा से छह दिन से तापमान सामान्य से 4 डिग्री कम 25 डिग्री रिकाॅर्ड हो रहा। जबकि रात का पारा 22.1 डिग्री रिकार्ड हुआ।

24 घंटे में बारिश के हाल

  • रेड अलर्ट : सतना, गुना, श्योपुरकलां, छतरपुर, और टीकमगढ़।
  • ऑरेंट अलर्ट : शहडोल, रीवा, सीधी, सिंगरौली, पन्ना, दमोह, सागर, नीमच, मंदसौर, अशोकनगर, शिवपुरी, ग्वालियर, दतिया, भिंड और मुरैना।
  • रिमझिम बारिश : जबलपुर, शहडोल, सागर, रीवा, भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन, इंदौर, ग्वालियर, और चंबल संभाग के कई जिलों में।
इस सीजन अब तक की स्थिति।
इस सीजन अब तक की स्थिति।

जिले के गौतमपुरा और देपालपुर में स्थिति ठीक
गौतमपुरा और देपालपुर में बारिश की स्थिति इंदौर के मुकाबले ठीक है। गौतमपुरा में इस बार 14.4 इंच बारिश हो चुकी, जबकि पिछले साल 13 हुई थी। देपालपुर में 12.4 इंच ही पानी बरसा जबकि पिछले साल 18.3 इंच इस अवधि तक हुई थी। तीसरे नंबर पर सांवेर तहसील है जहां 13 इंच वर्षा हुई जबकि पिछले साल 18.4 इंच हो चुकी थी। चौथे नंबर पर इंदौर तहसील है, जहां 9.7 बारिश हुई। पांचवें नंबर पर महू है, जहां 9.1 इंच बारिश हुई है, जबकि गत वर्ष 13.8 इंच बारिश हो चुकी थी।

पिछले साल 50 इंच हुई थी बारिश
शहर में मानसून की घोषणा अरब सागर से आने वाले सिस्टम से होती है, लेकिन दो साल में बारिश का कोटा बंगाल की खाड़ी से आने वाले सिस्टम से पूरा हो रहा है। पिछले साल 50 इंच और 2019 में 53 इंच पानी गिरा था। बता दें कि जून में बारिश के औसत छह दिन माने जाते हैं। इस दौरान जून में औसत चार इंच के करीब पानी बरसता है। इस बार तीन इंच के करीब ही पानी गिर पाया था। इस बार दक्षिण-पश्चिम मानसून ने 20 जून से दो दिन पहले 18 जून को शहर में दस्तक दे दिया था। पिछले साल छह दिन पहले 14 जून को मानसून आ गया था।

पिछले 24 घंटे में बारिश के हाल
श्योपुरकलां 148, गुना 67.1, पचमढ़ी 64, सीधी 48.6, छिंदवाड़ा 46, सिवनी 26.6, रीवा 26.4, नरसिंहपुर 23, सतना 15.8, सागर 15.2, दमाेह 15, जबलपुर 12.2, रतलाम 12, दतिया 12, मलाजखंड 11.4, उमरिया 7.5, इंदौर 5.6, मंडला 4.8, हाेशंगाबाद 4.4, धार 3.6, टीकमगढ़ 3, उज्जैन 1, शाजापुर 0.6, बैतूल 0.6, भोपाल, 0.6।

तालाबों में पानी की आवक नहीं
रिमझिम बारिश ने जुलाई के कोटे का पानी तो पूरा कर दिया है, लेकिन तेज बारिश नहीं होने से तालाबों की स्थिति ठीक नहीं है। बारिश का पूरा एक महीना बीत चुका है, लेकिन तालाबों का जल स्तर अब तक नहीं बढ़ा है। 19 फीट क्षमता वाले यशवंत सागर में अभी 13 फीट पानी है। वहीं, 34 फीट क्षमता वाले बिलावली तालाब में जून में 22 फीट पानी था जो अब घटकर 19.4 फीट पर आ गया है। इसके अलावा सिरपुर, लिंबोदी तालाब में भी पानी की स्थिति ठीक नहीं है।

नए सिस्टम से आधा ही MP तर!:दक्षिणी बिहार से UP शिफ्ट हुए लो प्रेशर एरिया से चंबल-रीवा, सागर संभागों में मूसलधार; दूर होने से इंदौर-भोपाल में असर कम; 2 दिन और यही हाल रहेगा

खबरें और भी हैं...