एंटी माफिया अभियान:गुंडों के डर से 3 साल से अपनी जमीन पर काम नहीं कर पा रहा IDA

इंदौर2 महीने पहलेलेखक: दीपेश शर्मा
  • कॉपी लिंक
पुलिस के साए में भी कब्जे की जमीन से दूर विकास। - Dainik Bhaskar
पुलिस के साए में भी कब्जे की जमीन से दूर विकास।

एक तरफ माफिया के खिलाफ अभियान चल रहा है, वहीं शहर में एक हिस्सा ऐसा भी है, जहां माफिया सब पर हावी हैं। तीन साल से आईडीए की 12 एकड़ जमीन पर खेती कर रहे हैं। जब भी कोई काम के लिए जाता है तो भीड़ इकट्‌ठा कर सभी को भगा देते हैं।

सुपर काॅरिडोर पर आईडीए की स्कीम 151 और 169 बी के सेक्टर-सी में ओवर ब्रिज के पास आईडीए की 12 एकड़ जमीन पर तीन साल से कोई विकास नहीं हो सका। 2018 में आईडीए के अधिकारियों ने यहां काम करने की शुरुआत की तो अर्जुन पलटन के हिस्ट्रीशीटर जगदीश यादव, रामेश्वर यादव, मनोहर यादव और बद्री यादव ने उनसे बदसलूकी की।

आईडीए के अधिकारियों ने गांधीनगर थाने में शासकीय कार्य में बाधा सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज करवाया, लेकिन गुंडों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। इन तीन सालों में जब भी अधिकारियों ने या कान्ट्रेक्टर मौके पर गए तो गुंडों ने घेर लिया। कई बार तो जेसीबी चालक की पिटाई कर कांच फोड़ दिए।

फरवरी में ही आरोपियों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई भी की गई, लेकिन इसका भी कोई असर नहीं हुआ। 3 मार्च को भी अफसरों से अभद्रता की गई। चार दिन से वहां पीसीआर वैन दिनभर खड़ी रहती है, फिर भी गुंडों के कब्जे वाले हिस्से पर काम नहीं हो पा रहा है।

बाकी जमीन पर भी काम नहीं करने दे रहे गुंडे

गुंडे आईडीए की जमीन पर खेती कर रहे हैं, आसपास की जमीन पर भी काम नहीं करने दे रहे हैं। 4 दिन पहले आइडीए अफसरों की शिकायत पर कलेक्टर मनीष सिंह भी पहुंचे थे।

गुंडों के कारण काम रुका रहा, अब दिक्कत नहीं

सीईओ विवेक श्रोत्रिय बताते हैं, गुंडों के कारण सेक्टर-सी का विकास नहीं हो सका। हमने कार्रवाई की, लेकिन वे भीड़ ले आते थे। अब पूरे समय पुलिस तैनात की है। काम नहीं रुकेगा।

सीमांकन का विवाद है कागज मांगे हैं उसके

टीआई गांधीनगर संतोष सिंह यादव ने बताया कि उनका सीमांकन को लेकर कोई विवाद था। हमने स्पष्ट कह दिया है कि जो भी विवाद है कागज पेश करें, वहां कोई विवाद न करें।

चारों पर शासकीय कार्य में बाधा, मारपीट, बलवा के कई केस

  • जगदीश यादव पर मल्हारगंज, हातोद, सांवेर व गांधीनगर थाने में सरकारी काम में बाधा, बलवा के 12 केस हैं।
  • मनोहर यादव पर मल्हारगंज, हातोद, एरोड्रम, थाने में बलवा, शासकीय कार्य में बाधा सहित 7 केस हैं।
  • अंकित उर्फ भोला यादव पर मल्हारगंज व गांधीनगर थाने में हत्या, बलवा आदि के 20 प्रकरण दर्ज हैं।
  • बद्री यादव पर मल्हारगंज व गांधीनगर में बलवा, मारपीट, मारने की धमकी, शा. कार्य में बाधा के 7 केस हैं।
खबरें और भी हैं...