शिक्षा मंत्रालय ने जारी की इंडिया रैंकिंग-2021:एक रैंक के इजाफे के साथ IIM इंदौर छठे नंबर पर; IIT इंदौर तीन रैंक गिरकर 13वें पर पहुंचा

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SGSITS इंदौर 242वीं रैंक से अब 181 पर। - Dainik Bhaskar
SGSITS इंदौर 242वीं रैंक से अब 181 पर।
  • 100 से 150 की रैंक कैटेगरी में जगह मिली डीएवीवी को
  • 32 वीं रैंक शासकीय डेंटल कॉलेज की
  • 251 से 300 की रैंक में शामिल डीएवीवी के इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट

शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी इंडिया रैंकिंग-2021 में इंजीनियरिंग व प्रबंधन संस्थानों में आईआईटी व आईआईएम का दबदबा कायम है। टॉप-10 इंजीनियरिंग कॉलेजों में पहले आठ पायदानों पर केवल आईआईटी हैं। टॉप-10 प्रबंधन संस्थानों में भी छह आईआईएम के अलावा तीन आईआईटी हैं।

आईआईएम इंदौर ने देशभर के मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट में छठी रैंक हासिल की। पिछले साल की तुलना में एक पायदान का सुधार हुआ है। वहीं, इंजीनियरिंग कैटेगरी में आईआईटी इंदौर की रैंकिंग पिछले साल की तुलना में 10वें स्थान से 13वें पर पहुंच गई। ओवरऑल कैटेगरी में आईआईटी की रैंकिंग इस साल 30वें स्थान पर है। पिछले साल रैंकिंग 23वीं थी।

2016 में एनआईआरएफ रैंकिंग की शुरुआत होने के बाद से यह पहली बार आईआईटी इंदौर की रैंकिंग में गिरावट आई है। वहीं पहली बार जारी की गई रिसर्च कैटेगरी में आईआईटी इंदौर ने 26वीं रैंक हासिल की है। वहीं, एसजीएसआईटीएस इंदौर को 181वें स्थान पर रखा गया है, पिछले साल रैंकिंग 242वीं थी।

डेंटल कैटेगरी में शहर के गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज की रैंकिंग भी 10 पायदान गिरी है। इस साल डेंटल काॅलेज 32वें स्थान है, जबकि बीते 22वें स्थान पर था। प्रदेश की कोई भी यूनिवर्सिटी टॉप-100 में जगह नहीं बना पाई है। डीएवीवी ने 100-150 की रैंक कैटेगरी में जगह जरूर बनाई बनाई है।

2020 में डीएवीवी काे किसी भी कैटेगरी में जगह नहीं मिली थी। इंजीनियरिंग में भी डीएवीवी ने 251-300 की कैटेगरी में जगह बनाई है। इसके अलावा आईपीएस एकेडमी का इंस्टिट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट एंड रिसर्च को मैनेजमेंट कैटेगरी में 76 से 100वां रैंक बैंड मिला।

देश के टॉप-15 कॉलेजों में 9 दिल्ली के शामिल- IIT मद्रास लगातार तीसरे साल सर्वश्रेष्ठ संस्थान...

ओवरऑल रैंकिंग में लगातार तीसरी बार आईआईटी मद्रास टाॅप पर है। शिक्षा मंत्रालय ने इस बार 11 श्रेणियों में देश के उच्च शिक्षण संस्थानों की रैंकिंग दी है। रिसर्च कैटेगरी पहली बार जोड़ी गई है। इस श्रेणी में बेंगलुरू का आईआईएससी टाॅप पर है। विश्वविद्यालय श्रेणी में भी आईआईएससी, बेंगलुरू ही पहले और दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू व जामिया मिलिया इस्लामिया टॉप-10 यूनिवर्सिटी में शामिल हैं। कॉलेज श्रेणी के टॉप-15 में नौ कॉलेज दिल्ली के शामिल हैं। ये सभी डीयू से संबद्ध हैं। टॉप-2 महिला कॉलेज हैं।

शिक्षा मंत्री की अपील- रैंकिंग में हिस्सा लेने के लिए आगे आएं देश के संस्थान : प्रधान
केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रैंकिंग जारी की। उन्होंने कहा, ‘यह एक मजबूत व रोल मॉडल रैंकिंग ढांचा ग्लोबल लर्निंग के क्षेत्र में भारत के योगदान की तरह काम करेगा। इसलिए हमें सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारी रैंकिंग देश ही नहीं विश्व स्तर पर भी एक बैंचमार्क के रूप में उभरे। देश के उच्च शिक्षा संस्थान इसमें हिस्सा लेने आगे आएं।

स्पर्धा का गणित- रैंकिंग के लिए 4,030 संस्थानों ने 6,272 आवेदन किए थे

रैंकिंग के लिए देश के 4,030 संस्थानों ने अलग-अलग श्रेणियों में 6,272 आवेदन किए थे। ओवरऑल रैंकिंग के लिए 1,657 आवेदन थे। इंजीनियरिंग संस्थानों के 1,143, प्रबंधन संस्थानों के 659, फार्मेसी के 351, लॉ के 120 आवेदन थे। जबकि, मेडिकल के लिए 111, आर्किटेक्चर के लिए 78 व कॉलेज रैंकिंग के लिए 1802 आवेदन थे।

खबरें और भी हैं...