• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Incident In 8 storey Building At 3.30 Pm, 9 Injured, Admitted To MY, Building Owner Absconding

इंदौर अग्निकांड वीडियो में सुनिए पिता की दर्दनाक कहानी:अब किसके लिए जिंदा रहूं, मैं अकेला पड़ गया, पत्नी भी मर चुकी

इंदौर17 दिन पहले
  • 2 मंजिला इमारत में रात 3.30 बजे हादसा, 9 घायल, एमवाय में भर्ती, बिल्डिंग मालिक फरार

इंदौर की स्वर्ण बाग कॉलोनी में शुक्रवार देर रात भीषण हादसा हो गया। जिसमें सात लोगों की मौत हो गई। इसमें किराए पर रहने वाले दंपती की भी दम घुटने से मौत हो गई। दोनों के शव को पोस्टमार्टम के बाद दोपहर 2 बजे घर लाया गया।

हादसे में मृत आकांक्षा के पिता राजेश अग्रवाल ने कहा कि 2 महीने से उसकी शादी की बात चल रही थी जल्दी शादी तय होनी थी। कल वह एयरपोर्ट पर रहने वाली अपनी सहेली पूजा के जन्मदिन पर इंदौर आई थी और यहीं रुकी थी। दैनिक भास्कर को रोते-रोते उन्होंने बताया कि आकांक्षा परिवार की इकलौती बेटी थी। आकांक्षा की मां ने भी कुछ समय पहले फांसी लगा ली थी। अब घर में मैं अकेला ही रह गया हूं। मैं भी फांसी लगा लूंगा।

इसके बाद दोनों की शव यात्रा एक साथ निकाली गई। इसे देख पूरी कॉलोनी का माहौल गमगीन हो गया। पुलिस के मुताबिक मृत दंपती ईश्वरसिंह, नीतूसिंह सिसौदिया और गौरव की मौत दम घुटने से हुई है। जबकि आकांक्षा आशीष और दो अन्य पूरी तरह से जल चुके है। सभी का पोस्टमार्टम किया जा चुका है।

हादसे में 9 घायल हो गए। घायलों से मिलने मंत्री तुलसी सिलावट एमवाय अस्पताल पहुंचे। यहां उन्होंने घायलों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। इधर, कलेक्टर मनीषसिंह ने कहा है पूरी कॉलोनी अवैध है। इसकी जांच की जाएगी। इस मामले में प्रशासन और पुलिस की रिपोर्ट भी ली जाएगी।

पति-पत्नी का शव घर लाया गया।
पति-पत्नी का शव घर लाया गया।

मृतकों में तीन लोगों की मौत दम घुटने से हुई जबकि चार पूरी तरह से जल गए हैं। मृतक गौरव पिता अजय पंवार (27) सिटी बस डिपो में सुपरवाइजर था। डिपो के मैनेजर नीम सरकार ने बताया कि वह रात 10:00 बजे ड्यूटी कर घर लौटा था। गौरव बैतूल के काला पाठा, काली चट्‌टान का रहने वाला है। इसके परिवार के रिश्तेदार भोपाल से निकले हैं। दो अन्य मृतकों में आशीष राठौर निवासी देवास और देवेंद्र साल्वे बैतूल का रहने रहने वाला था।

देवेंद्र साल्वे अपनी बहन प्रार्थना को बास्केटबॉल कॉम्पीटिशन के लिए इंदौर छोड़ने आया था। इसके बाद वह दोस्त गौरव से मिलने गया था। गौरव के कहने पर देवेंद्र उसी के साथ रुक गया था। हादसे में दोनों की ही मौत हो गई।

पति-पत्नी की अंतिम यात्रा
पति-पत्नी की अंतिम यात्रा

प्रारंभिक जांच में पार्किंग में खड़ी बाइक में आग लगने के कारण आग लगना बताया जा रहा है। हालांकि आग के कारणों का पता लगाने के लिए पुलिस व प्रशासन ने जांच शुरू कर दी है।

सभी को उपचार के लिये एमवाय अस्पताल पहुंचाया गया है। यह भीषण आग शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात करीब 3.30 बजे विजयनगर और खजराना के बीच बनी स्वर्ण बाग कॉलोनी की आठ मंजिल इमारत में लगी थी। आग के पीछे की वजह शॉर्ट शर्किट बताया जा रहा है। सूचना के बाद शनिवार सुबह मौके पर कमिश्नर हरीनारायण चारी मिश्र और अन्य अधिकारी पहुंचे। जबकि कलेक्टर मनीषसिंह एमवाय अस्पताल पहुंचे। उन्होंने घायलों के हाल जाने।

मृतक ईश्वरसिंह।
मृतक ईश्वरसिंह।

कलेक्टर ने सात लोगों की मौत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि मृतकों को 4 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। बिल्डिंग वैध है या अवैध इसके साथ ही इसके निर्माण की होगी जांच। घायलों को भी मुआवजा दिया जाएगा। एमवाय अस्पताल में फिलहाल 3 घायलों को भर्ती किया गया है। दो घायल नागदा चले गए हैं। उन्हें वापस बुलाया जा रहा है।

मृतक नीतू सिंह सिसौदिया।
मृतक नीतू सिंह सिसौदिया।
मंत्री तुलसी सिलावट ने घायलों से मुलाकात की।
मंत्री तुलसी सिलावट ने घायलों से मुलाकात की।

रहवासियों के मुताबिक मकान मालिक के मोहल्ले में 4 मकान हैं। सभी में किराएदार रहते हैं। लोगों का कहना है कि कहीं भी सेफ्टी नहीं है खुद के मकान पर तो मोबाइल कंपनी का टावर लगा है।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक ईश्वर सिंह सिसोदिया और नीतू की दम घुटने से मौत हुई है। लोगों का कहना है कि नीचे पार्किंग मैं काफी गाड़ियां थी जिस से निकलने के लिए जगह नहीं थी पीछे का भी कोई रास्ता नहीं है ऐसा पता चला है कि कुछ लोगों ने कूदकर जान बचाई।

कलेक्टर मनीषसिंह और एमवाएच अधीक्षक डॉ. पीएस ठाकुर ने मरीजों से मुलाकात की।
कलेक्टर मनीषसिंह और एमवाएच अधीक्षक डॉ. पीएस ठाकुर ने मरीजों से मुलाकात की।

TI विजयनगर के मुताबिक स्वर्णबाग कॉलोनी में इंसाफ पुत्र इंसाद पटेल की दो मंजिला इमारत है। इसमें 10 फ्लैट हैं। जबकि ग्राउंड फ्लोर पर दुकानें बनी हैं। देर रात यहां 3.30 बजे बिल्डिंग के निचले हिस्से में भयानक आग लग गई। जिसमें नीचे पार्किंग में खड़ी 13 टू व्हीलगर ओर एक कार जलकर खाक हो गई। यहां से आग तेजी से ऊपर की ओर फैल गई। बिल्डिंग में रह रहे लोगों को नीचे उतरने का मौका नहीं मिला। 7 मृतकों में से कुछ की दम घुटने से मौत हो गई। सभी के शवों को एमवाय अस्पताल की मर्चुरी में भिजवा दिया है। हादसे में घायल 9 से अधिक लोगों को उपचार के लिए एमवाय में भर्ती किया गया है।

एफएसएल की टीम मौके पर पहुंची और जांच के लिए नमूने लिए।
एफएसएल की टीम मौके पर पहुंची और जांच के लिए नमूने लिए।

इनकी हुई मौत
मृतको में ईश्वर,नीतू सिंह,आशीष,गौरव,आकाक्षा ओर तीन अन्य की मौत हुई है। जिनकी पहचान नही हो पाई है।

यह हुए घायल
फिरोज, मुनीरा, विशाल प्रजाप्रति, अरशद, सोनाली पंवार और अन्य लोग घायल हुए है। हादसे के बाद से बिल्डींग का मालिक फरार है। पुलिस के मुताबिक आग लगने का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है।