• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Indore Coronavirus News Updates; Divisional Commissioner Decided To Conduct A Survey In 8 Districts

कोरोना से जंग की तैयारी:इंदौर संभाग के 8 जिलों के सभी गांव में रहने वाले हर व्यक्ति का सर्वे होगा, शुरुआत खरगोन से होगी

इंदौर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सर्वे में गांव में रहने वाले लोगों में से सर्दी-जुखाम और बुखार से पीड़ित लोगों की पहचान की जाएगी और निगरानी में रखकर उनका पूरा उपचार किया जाएगा। - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
सर्वे में गांव में रहने वाले लोगों में से सर्दी-जुखाम और बुखार से पीड़ित लोगों की पहचान की जाएगी और निगरानी में रखकर उनका पूरा उपचार किया जाएगा। - फाइल फोटो
  • तीन स्तर पर संभाग के 6819 गांवों में किया जाएगा सर्वे
  • पंचायत स्तर पर आंगनवाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं के साथ टीम बनेगी

मप्र में कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा असर इंदौर संभाग में ही देखा जा रहा है। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए संभागायुक्त ने इंदौर संभाग में शामिल सभी 8 जिलों के सभी गांवों में सर्वे कराने का निर्णय लिया है। इंदौर संभाग के सभी 6819 गांवों में सर्वे किया जाएगा, जिसकी शुरुआत खरगोन जिले से की जा रही है। इंदौर संभाग में इंदौ के अलावा खरगोन, धार, खंडवा, झाबुआ, बड़वानी, अलीराजपुर और बुरहानपुर जिले शामिल है। सर्वे का उद्देश्य संभाग के गांवों में कोरोना पहुंचने से पहले ही उसे नियंत्रण करना है।

इंदौर संभाग में कोरोनवायरस का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। मानसून के आने के बाद इसके और ज्यादा तेजी से फैलने की आशंका जताई गई है। इसे देखते हुए अब संभाग के सभी 8 जिलों में स्थित 6819 गांवों में प्रत्येक व्यक्ति का सर्वे किए जाने का निर्णय संभागायुक्त पवन शार्मा द्वारा लिया गया है। संभागायुक्त के अनुसार संभाग की स्थिति को देखते हुए गांव-गांव सर्वे करने का निर्णय लिया गया है जिसकी शुरुआत खरगोन जिले से होगी। सर्वे की योजना तैयार कर ली गई है और एक-दो दिन में इसे शुरू कर दिया जाएगा। सर्वे में गांव में रहने वाले लोगों में से सर्दी-जुखाम और बुखार से पीड़ित लोगों की पहचान की जाएगी और निगरानी में रखकर उनका पूरा उपचार किया जाएगा। सर्वे के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और आशा कार्यकर्ताओं की टीम बनाई जा रही है। 

तीन स्तर पर होगा सर्वे
तीन स्तर पर गांवों में सर्वे किया जाएगा। पहले स्तर पर सर्वे होगा। दूसरे स्तर पर डाटा कलेक्शन और तीसरे स्तर पर पहचान कर उपचार किया जाएगा। सर्वे के तहत डाटा कलेक्शन के लिए गुगल डाटा शीट तैयार की गई है। वहीं इलाज के लिए जिला व ब्लॉक स्तर पर कोविड सेंटर बनाए गए है। 

  • आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ता की टीम गांव के प्रत्येक घर जाएगी और सर्दी-खांसी, बुखार के मरीजों की जानकारी एकत्र करेंगी।
  • यह जानकारी पंचायत सचिव को दी जाएगी और इसे गुगल शीट पर भरा जाएगा।
  • शीट के आधार पर एएनएम, पटवारी की टीम मरीज का परीक्षण करेगी। दवाई देगी।
  • लक्षण मिलने पर या गंभीर होने पर आरआरटी को सूचना दी जाएगी। इसके बाद डॉक्टर मौके पर जाकर मरीज की जांच करेगा।
खबरें और भी हैं...