पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंदौर में गैंगरेप का मुख्य आरोपी गिरफ्तार:कोरोना संक्रमित महिला को लूटने और रेप के बाद पैदल रालामंडल तक गया, वहां काकी से रुपए लेकर देवास में दादी के यहां छिपा

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लसूड़िया थाना क्षेत्र की पंचवटी कॉलोनी में घर में अकेली रह रही काेरोना संक्रमित महिला को लूटने के बाद गैंग रेप करने वाले तीसरे और मुख्य आरोपी को पुलिस ने देवास से गिरफ्तार किया है। लूट और रेप के बाद बदमाश भागकर पैदल ही राला मंडल में अपने काका के घर पहंचा था। यहां से काकी से कुछ रुपए लेकर वह भागकर दादी के घर देवास पहुंचा था। जहां से पुलिस ने उसे दबोच लिया। आरोपी पर पुलिस ने 20 हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा था।

एसपी आशुतोष बागरी ने बताया, लसूडिया इलाके में गुरुवार देर रात 2 बजे पंचवटी काॅलोनी के एक मकान में 37 वर्षीय महिला अकेली रहती है। घर में नकबजन दीपक पिता विनोद चौहान ने दो नाबालिग साथियों के दरवाजे की कुंडी तोड़कर चोरी की वारदात की थी। महिला कुछ दिन पूर्व ही कोरोना संक्रमण से उबरी थी। घर में ही क्वारैंटाइन थी। तीनों आरोपियों ने चाकू, कटर व घर में रखी कैंची अड़ाकर उसे डराया धमकाया फिर उसके साथ दुष्कर्म किया। घटना के बाद एक आरोपी महिला के घर में ही सुबह 5 बजे तक पहरा डालकर बैठा रहा। आरोपियों ने महिला के घर से 50 हजार रुपए भी लूट लिए थे। सुबह 8 बजे महिला बदहवास होकर थाने पहुंची और पुलिस को घटना बताई। लसूड़िया टीआई इंद्रमणि पटेल ने केस दर्ज कर आरोपी दीपक व नाबालिग साथियों के खिलाफ केस दर्ज किया था।

पुलिस ने मुख्य आरोपी पर 20 हजार का इनाम घोषित किया था। पुलिस ने बताया कि आरोपी दो माह पहले ही जेल से छूटा था। आरोपियों के हुलिए के आधार पर दो नाबालिगों को उनके घर के पास से पुलिस ने पकड़ लिया था। बताते हैं, एक नाबालिग पुलिस से बचने के लिए नाले में जाकर छिप गया था। उसे पकड़ने के लिए सिपाहियों को नाले में उतरना पड़ा। नाबालिग आरोपी ने पहले भी कई चोरियां करना कबूला है।

सीसीटीवी में आए तीनों बदमाशों के हुलिए
महिला की रिपोर्ट पर पंचवटी कांकड़ में रहने वाले 20 वर्षीय आरोपी दीपक चौहान व उसके दो नाबालिग साथियों पर केस दर्ज किया था। दीपक पुराना नकबजन है। पूर्व में चोरी के कई अपराध दर्ज हैं।

महिला ने पुलिस को सुनाई थी आपबीती...
महिला ने एएसपी राजेश रघुवंशी को बताया कि- गुरुवार रात 2 बजे नींद खुली तो तीन बदमाश पलंग के पास खड़े थे। चाकू, कटर और कैंची दिखाते हुए पैसों की मांग की। मैंने उन्हें 50 हजार रुपए और दो मोबाइल दे दिए। इसके बाद तीनों ने दुष्कर्म किया। हत्या के डर से मैंने शोर नहीं मचाया। कोरोना से कमजोरी के कारण भी विरोध नहीं कर सकी। युवती के अनुसार, घटना के बाद मैं कहीं पुलिस के पास ना चली जाऊं, इसलिए एक बदमाश सुबह 5 बजे तक घर के पास पहरा दे रहा था। उजाला होने के पहले गायब हो गया।

खबरें और भी हैं...