वैक्सीनेशन में भी कमाल कर रहे इंदौरी:एक दिन में 78 हजार डोज लगे, 51% लोगों तक पहला डोज पहुंचाकर देश में ऐसा करने वाला बना दूसरा शहर; जून के 15 दिन में ही 5 लाख को लगा टीका

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

एक ही दिन में 78 हजार से ज्यादा वैक्सीनेशन और 51% लोगों तक पहला डोज पहुंचा कर देश में दूसरे नंबर पर काबिज इंदौर लगातार टीकाकरण की गति को बढ़ा रहा है। इस मामले में कोलकाता देश में पहले नंबर पर है। इसी कड़ी में अब औद्योगिक क्षेत्र के लिए वैक्सीन वैन की शुरुआत कर दी गई है। इसके साथ ही निजी गार्डों को भी विशेष कैंप लगाकर वैक्सीन लगाने का काम शुरू किया जा रहा है। वैक्सीनेशन के रफ्तार का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जून के 15 दिन में ही इंदौर ने 5 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगा दिया है। इसके पहले अप्रैल और मई में 4-4 लाख लोगों ने इसका लाभ लिया था।

अब तक हुए वैक्सीनेशन की स्थिति।
अब तक हुए वैक्सीनेशन की स्थिति।

27 जून तक सभी निजी गार्डों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य
प्रशासन ने सुरक्षा एजेंसी के संचालकों को निर्देश दिए हैं कि 27 जून तक एजेंसी के तहत कार्यरत सभी सुरक्षा गार्ड्स और उनके परिजनों को 100% टीका लग जाए। उन्होंने कहा कि सुरक्षा गार्ड हाई-रिस्क श्रेणी में आते हैं। यदि वे कोविड पॉजिटिव होते हैं तो इससे संक्रमण फैलने का खतरा अधिक मात्रा में बढ़ सकता है। इसलिए सभी सुरक्षा गार्डों एवं उनके परिजन, जो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग की श्रेणी में आते हैं, उनका वैक्सीनेशन हो जाए। यदि कोई सुरक्षा गार्ड 27 जून के बाद बिना वैक्सीनेशन प्रमाण-पत्र के काम करते मिला तो गार्ड एवं एजेंसी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अप्रैल- मई में 4-4 लाख लोगों ने लगवाई वैक्सीन

इंदौर जिले में माह अप्रैल और मई में टीकाकृत लाभार्थियों की संख्या लगभग चार-चार माह लाख प्रतिमाह थी। वहीं, जून माह में मात्र 15 दिनों के अंदर ही पांच लाख 33 हजार 322 लोग टीकाकृत हो चुके हैं। इंदौर ने 14 जून को एक ही दिन में 78 हजार 803 टीके लगाकर सबसे ज्यादा वैक्सीन लगाने के मामले में देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया था। मुंबई में 79 हजार 500 टीके लगाकर पहला स्थान पाया था। इंदाैर में इसके लिए जिला प्रशासन, नगर निगम एवं स्वास्थ्य विभाग ने 343 सत्र आयाेजित किए थे।

वर्ग के हिसाब से हुआ वैक्सीनेशन।
वर्ग के हिसाब से हुआ वैक्सीनेशन।

अब तक के आंकड़े
15 जून काे कुल 13 हजार 577 लाेगाें ने टीका लगवाया था। 15 जून तक 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के 7 लाख 9 हजार 612 लोगों को प्रथम डोज, 45 से 60 वर्ष आयु वर्ग के 3 लाख 87 हजार 281 लोगों को प्रथम डोज और 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 2 लाख 41 हजार 538 लोगों को प्रथम डोज लग चुके हैं।

अब तक 51% लोगों तक पहुंची वैक्सीन
इंदौर में अब तक 51% लोगों तक टीके का पहला डोज पहुंच चुका है। ऐसा करने वाला वह देश में दूसरा शहर है। पहले नंबर पर कोलकाता है। इंदौर में कुल पात्र 28 लाख 7 हजार 558 लोगों में से 14 लाख 26 हजार 507 लोगों को पहला डोज लग चुका है। हालांकि दूसरा डोज केवल 9% लोगों तक ही पहुंचा है। 2 लाख 39 हजार 850 लोग अब तक दूसरा डोज लगवा चुके हैं।

औद्योगिक क्षेत्रों में वैक्सीन के लिए शुरू हुई वैक्सीनेशन वैन
औद्योगिक क्षेत्रों में सभी को वैक्सीन टारगेट पूरा कराने के लिए वैक्सीन वैन चलाई जा रही है। इसकी शुरुआत बुधवार से कर दी गई। जिला प्रशासन और एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्री ने इसे तैयार किया है। यह औद्योगिक क्षेत्रों में काम करने वाले श्रमिक, कर्मचारी, उद्योगपतियों व सभी के परिजन का 100% वैक्सीनेशन करेगी। वैन निर्धारित दिन व समय पर सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्रों के सभी सेक्टर, बरदरी, भौंरासला, कुमेडी व अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण कर वैक्सीनेशन कार्य करेगी।

19 जोनल कार्यालयों और ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर पर हो रहा वैक्सीनेशन
प्रभारी आयुक्त संदीप सोनी ने बताया कि वैक्सीनेशन के करीब 52,300 डोज प्राप्त हो चुके हैं। ऐसे में निगम के सभी 6 ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर, निगम के मुख्यालय पर और 19 जोनल कार्यालयों के साथ ही शहर के विभिन्न स्थानों व ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 300 स्थानों पर वैक्सीनेशन हो रहा है। इसमें 18+ एवं 45 प्लस वालों को कोवीशिल्ड के 48,800 डोज और कोवैक्सिन के 3500 डोज मिलाकर कुल 52300 वैक्सीनेशन डोज लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। कोवीशील्ड का पहला डोज लगने के 84 दिन बाद दूसरा डोज लगाया जाएगा ।

खबरें और भी हैं...