पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Indore Live Road Accidents Caught In Camera | Six Youths Killed In A Car Accident In Indore After Party

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर हादसा, उस रात की कहानी...:एक बजे तक भाई घर नहीं लौटा तो बहन ने कॉल किया, एम्बुलेंस वाले ने फोन उठाकर कहा- जिनका फोन है, उनकी तो हादसे में मौत हो गई

इंदौर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तलावली चांदा के पास लगे सीसीटीवी फुटेज में हादसा कैद हो गया। हादसे में छह दोस्त नहीं रहे। - Dainik Bhaskar
तलावली चांदा के पास लगे सीसीटीवी फुटेज में हादसा कैद हो गया। हादसे में छह दोस्त नहीं रहे।
  • दो भाइयों के घर जब पुलिस का फोन आया तो पिता ने कहा- हमारे दोनों बच्चे तो सो रहे हैं; देखा तो कमरा खाली था और चैनल गेट के बाहर ताला मिला

इंदौर में सोमवार रात को खड़े टैंकर में डेढ़ सौ किलोमीटर की रफ्तार से पीछे से घुसी कार ने छह घरों के चिराग बुझा दिए। यह इस साल अब तक का सबसे बड़ा हादसा है। एक कॉलोनी से चार अर्थियां एक साथ उठीं तो सबके कलेजे फटे रह गए। मृतकों में शामिल सोनू, ऋषि, सूरज और देव अपने घर के इकलौते चिराग थे।

दैनिक भास्कर ने हादसे वाली रात की हकीकत जानी तो हैरान करने वाली बातें निकलकर आईं। दो बेटों काे गंवा चुके परिवार को जब पुलिस ने रात में सूचना देने के लिए कॉल किया तो जवाब मिला- हमारे बच्चे तो घर में ही सो रहे हैं लेकिन, उन्होंने जब उनके रूम में जाकर देखा तो दोनों बच्चे नहीं मिले। चैनल गेट पर बाहर से ताला लगा हुआ था।

दूसरा मामला यादव परिवार का है। जब सुमित देर रात तक घर नहीं लौटा तो बहन ने उसके फोन पर कॉल किया। कॉल सुमित की जगह एम्बुलेंस वाले ने उठाया और हादसे की जानकारी दी।

अस्पताल में इस प्रकार से रखी हुए थे शव।
अस्पताल में इस प्रकार से रखी हुए थे शव।

कोरोना के चलते रूस से लौट आया था सोनू

23 साल का सोनू जाट तीन बहनों के बीच इकलौता भाई था। वह डॉक्टर बनना चाहता था इसलिए रूस में पढ़ने गया था। काेरोना फैलने के बाद परिजन ने इंदौर बुला लिया था। सोनू के पिता का इंदौर में गाड़ियों का कारोबार है। वह मूलत: धार जिले के सरदारपुर के रहने वाला था। परिजन मुन्नालाल जाट ने बताया सोनू रात 8 बजे मां से कहकर निकला था कि दोस्तों के साथ पार्टी करने जा रहा हूं। लेट आऊंगा, मेरे लिए खाना मत बनाना। कुछ देर बाद घर के सामने ही तीन दोस्त एक कार से आए और हार्न की आवाज सुनते ही सोनू बाहर निकल गया। छोटी बहन सरिता ने रात करीब 1 बजे उसे कॉल किया तब परिवार को पता चला कि हादसा हुआ है।

देर रात छोटू ने कॉफी के साथ सोशल मीडिया पर स्टेटस डाला था।
देर रात छोटू ने कॉफी के साथ सोशल मीडिया पर स्टेटस डाला था।

बड़े भाई को पार्टी में जाने का कहकर गया था सुमित

भाग्यश्री कॉलोनी के रहने वाले सुमित की भी मौत हुई है। सुमित के पिता अमर सिंह यादव मोहल्ले में ही किराना दुकान चलाते हैं। वह फर्स्ट ईयर का स्टूडेंट था। उसके बड़े पापा का निधन हो गया था। इसके चलते मां गायत्री के साथ पिता कानपुर में अपने गांव गए हुए थे। घर पर भाई शुभम ही था। सुमित ने दोस्तों के साथ जाने से पहले भाई शुभम से कहा कि बाहर जा रहा हूं। इधर, देर रात हादसे में बेटे की मौत की जानकारी लगते ही रात में ही पिता कानपुर से निकल गए। हालांकि जल्दबाजी में वे भी रास्ते में सड़क हादसे के शिकार हो गए। शुक्र रहा, किसी को चोट नहीं आई और उसी गाड़ी से इंदौर के लिए चल पड़े।

एम्बलेंस से घर लाए गए शव।
एम्बलेंस से घर लाए गए शव।

पार्टी के लिए घर से अपनी कार लेकर निकला था चंद्रभान

चंद्रभान उर्फ छोटू गुजराती कॉलेज में बीकाॅम स्टूडेंट था। देर रात उसने घर से कार की चाबी ली और कहा कि दोस्त की पार्टी में जा रहा हूं। बड़े भाई हरिओम को उस समय हादसे का पता चला जब क्षेत्र में ही रहने वाले पुलिस जवान राजेंद्र कुमार का कॉल आया। उसने जानकारी दी कि गाड़ी हादसे का शिकार हो गई है। इसके बाद तो घर में कोहराम सा मच गया। घर वाले छोटू को कॉल करते रहे लेकिन, उसने एक बार भी फोन रिसीव नहीं किया। इसके बाद वे तुरंत एमवाय अस्पताल पहुंचे तो छोटू कफन में लिपटा मिला।

सीसीटीवी में नजर आया भीषण हादसा।
सीसीटीवी में नजर आया भीषण हादसा।

जिनके बारे सोचा था कि वे सो रहे हैं, उनकी मौत की सूचना मिली

मालवीय नगर के सूरज विष्णु बैरागी (22) और चचेरे भाई देव (20) की भी मौत हुई है। सूरज की एक बहन है, जिसकी शादी हो चुकी है। सूरज घर का इकलौता बेटा था और बीबीए सेकेंड ईयर का छात्र था। उसे जिम का बड़ा शौक था। आरटीओ में रजिस्टर्ड नंबर के अनुसार कार सूरज की ही बताई जा रही है।

चचेरे भाई देव की भी एक छोटी बहन है। वह बीबीए की पढ़ाई कर रहा था। परिवार वालों का कहना है कि इन दोनों ने बाहर जाने की जानकारी किसी को नहीं दी। देर रात पुलिस ने फोन पर हादसे की जानकारी दी तो उन्होंने कहा कि मेरे बच्चे तो घर में सो रहे हैं। हालांकि जब वे कमरे में निकलकर आए तो देखा चैनल का गेट बाहर से लगा है और ताला जड़ा हुआ है। सूरज के कमरे में कोई नहीं था। अस्पताल पहुंचकर शिनाख्त की। पिता कोर्ट में पदस्थ हैं।

इंदौर में पार्टी करके लौट रहे 6 दोस्तों की मौत:तेज रफ्तार कार खड़े टैंकर में घुसी, किसी का हाथ तो किसी का सिर धड़ से अलग हुआ

शव आते ही पूरा क्षेत्र गमगीन हो गया।
शव आते ही पूरा क्षेत्र गमगीन हो गया।

टाइल्स कारोबारी के बेटे की भी हादसे में मौत

आईटीआई में पढ़ने वाले ऋषि के पिता का टाइल्स का कारोबार है। वह उनकी इकलौती संतान थी। पूरा परिवार माता-पिता, दादा-दादी साथ में ही रहते थे। वह भी घर से पार्टी का बोलकर ही निकला था।

हादसे के बाद का मंजर।
हादसे के बाद का मंजर।

रफ्तार बना अंतिम सफर:एक साथ निकलीं 3 दोस्तों की अंतिम यात्रा, मुक्तिधाम पर 4 को साथ में दी विदाई, छतों में खड़ी महिलाओं ने नम आंखों से किया विदा

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

और पढ़ें