पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रफ्तार बना अंतिम सफर:एक साथ निकलीं 3 दोस्तों की अंतिम यात्रा, मुक्तिधाम पर 4 को साथ में दी विदाई, छतों में खड़ी महिलाओं ने नम आंखों से किया विदा

इंदौर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सयाजी मुक्तिधाम पर बैरागी बंधुओं के साथ छोटू और ऋषि को भी अंतिम विदाई दी गई।

मां मैं दोस्त की जन्मदिन की पार्टी मनाने जा रहा हूं। मेरे लिए खाना मत बनाना, आने में थोड़ी देरी हो जाएगी। कुछ देर बाद घर के बाहर एक कार आकर रुकी और युवक कार में बैठकर रवाना हो गया। यह शब्द थे सोनू जाट के, जो अब इस दुनिया में नहीं रहा। सोमवार रात 1 बजे तलावली चांदा एबीरोड पर इनकी कार सड़क किनारे खड़े टैंकर में घुस गई थी। हादसे दो चचेरे भाईयों सहित 6 युवकों की मौत हो गई थी। सुबह एंबुलेंस के शायरन के साथ जब अलग-अलग क्षेत्रों में शव पहुंचे तो पूरा इलाका गमगीन हो गया। बससे दुखद नजारा मालवीय नगर और भाग्यश्री नगर का था। मालवीय नगर से एक साथ तीन अर्थियां निकलीं और सजायी मुक्तिधाम पहुंची। वहीं, कुछ देर बाद ऋषि की अंतिम यात्रा भी यहीं पर पहुंची। यहां पर चार दोस्तों की चिताएं एक साथ जलीं। महिलाओं ने छतों पर खड़े होकर इन्हें विदा किया।

अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।
अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

सबसे सोनू का शव लेकर निकले परिजन
सोनू के परिजन मुन्नालाल जाट अन्य परिजनों के साथ पीएम के बाद सोनू का शव लेकर सुबह करीब साढ़े 11 बजे पैतृक गांव सरदारपुर के लिए रवाना हो गए। उन्होंने अलसुबह ही सोनू के माता-पिता को यह कहते हुए गांव पहुंचने को कहा था कि बहुत जरूरी काम है, तत्काल गांव के लिए निकलो। मैं सोनू को लेकर वहीं आ रहा हूं। इसके बाद एंबुलेंस से शव को लेकर वे गांव के लिए रवाना हो गए।

महिलाओं ने छतों पर खड़े होकर दी अंतिम विदाई।
महिलाओं ने छतों पर खड़े होकर दी अंतिम विदाई।

दो चचेरे भाईयों के साथ छोटू का शव भी पहुंचा
साेनू का पीएम होने के बाद उसके दोस्त छोटू और बैरागी भाईयों का पीएम हुआ। इस दौरान कॉलेज के कई दोस्त वहां पर पहुंचे हुए थे। किसी तरह से कोई बात नहीं कर रहा था। बस छोटू ने जो रात में काफी के साथ सोशल मीडिया पर स्टेटस अपडेट किया था, उसी को देखकर उसे याद कर रहे थे। परिजनों को रात 3 बजे हादसे की जानकारी मिली थी। जैसे ही दोपहर 1 बजकर 10 मिनट पर तीनों शव को लेकर ऐंबुलेंस पहुंची। पूरे क्षेत्रा चित्कार से गूंज उठा। यहां हर किसी के आंख में आंसू थे और वे इनके बारे में ही बात कर रहे थे। कोई कह रहा था कि रात को जाते देखा तो वह हंस रहा था अब हमारी आंखों में आंसू देकर चला गया। वहीं, परिजनों का बुरा हाल था।

पड़ोसी भी खुद को संभाल नहीं पाए
पड़ोसी उन्हें संभालने में लगे हुए थे, लेकिन वे उन्हें संभालते-संभालते खुद टूट से गए। बमुश्किल एक-दूसरे को संभाला और क्षेत्र से जल्द से जल्द शवों लेकर जाने की तैयारी की, क्योंकि परिजनों की हालत बिगड़ती ही जा रही थी। यहां से छोटू और बैरागी भाइयों के शव जब निकले तो छतों पर खड़ीं महिलाओं ने नम आंखों स उन्हें विदा किया। करीब 1 बजकर 45 मिनट पर तीनों शव सयाजी मुक्तिधाम पहुंची। रास्ते में जिन्होंने भी शवयात्रा देखी उनके मुंह पर एक ही शब्द थे रात में जिन युवाओं की हादसे में जान गई है। ये वही हैं। यह हादसा इंदौर में इतनी तेजी से वायरल हुआ था कि सुबह होते-होते हर किसी के मोबाइल तक पहुंच चुका था।

ऋषि का भी शव पहुंचा मुक्तिधाम, चारों की साथ में जली चिताएं
छोटू और बैरागी भाइयों के साथ ही ऋषि का भी शव ढाई बजे के करीब सजायी मुक्तिधाम पहुंचा। परिजन और दोस्त यहां रोते-बिलखते शव लेकर पहुंचे थे। यहां पर चारों दोस्तों को एक साथ नम आंखों से विदाई दी गई। वहीं, सुमित के माता-पिता कानपुर से नहीं आ पाने के कारण परिजन उनके आने का इंतजार करते रहे।

सुमित और सोनू थे जिगरी यार
पता चला है कि साेनू और समित दोनों जिगरी यार थे। सुमित ने स्कूली शिक्षा डीसी मेमोरियल स्कूल से ली थी। वहीं, सोनू ने न्यू ऐरा स्कूल से शिक्षा पाई थी। देर शाम इनका पार्टी करने का प्लान बना। इसके बाद सभी एक-दूसरे को काॅल कर चलने की बात कही। बजाया जा रहा है कि इनमें से एक दोस्त ने पहले जाने के लिए मना कर दिया था। इसके बाद सोनू और बैरागी बंधुओं ने कार निकाली और दूसरे दोस्तों को लेने निकल गए। इस दौरान उन्होंने उस दोस्त को भी तैयार कर लिया जो गाड़ी में जगह नहीं होने पर जाने से मना कर रहा था। हालांकि सभी दबकर बैठ गए और फिर देवास की ओर रवाना हो गए।

ऐसा है घटनाक्रम
लसूड़िया पुलिस के उप निरीक्षक नरसिंह पाल ने बताया कि अनुसार हादसा रात एक बजे तलावली चांदा स्थित पेट्रोल पंप के पास हुआ है। तेजगति से आ रही कार सड़क किनारे खड़े डंपर में घुस गई। आरक्षक सुरेंद्र यादव ने बताया कि हादसे के बाद युवकों को निकालने के लिए तत्काल कटर का इंतजाम किया गया। इसके बाद सभी को बाहर निकाला गया। इसमें से दो की हालत नाजुक थी, जिन्हें तत्काल अस्पताल भिजवाया गया। वहीं, चार की मौत हो चुकी थी।

भीषण सड़क हादसे में इन 6 की गई जान

  • ऋषि (19) पिता अजय पंवार पिता निवासी 129, भाग्यश्री काॅलोनी।
  • गोलू उर्फ सूरज (23) पिता विष्णुदास निवासी मालवीय नगर।
  • छोटू उर्फ चंद्रभान रघुवंशी (25) पिता शैलेन्द्र रघुवंशी मालवीय नगर।
  • सोनू जाट (23) पिता दुलीचंद जाट निवासी आदर्श मेघदूत नगर।
  • सुमित (20) पिता अमरसिंह यादव निवासी भाग्यश्री कॉलोनी।
  • देव (20) पिता रामकुमार निवासी 384/3 मालवीय नगर।
खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

और पढ़ें