पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Indore Nagar Nigam Employees And Vegetable Traders Dispute; Sabji Vyapari Reached DIG Office

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौर में ठेलेवालों का दर्द:निगमकर्मी नहीं करने दे रहे व्यापार, कहते हैं - सड़क किनारे दुकान लगाई तो करेंगे कानूनी कार्रवाई, सामान भी उठाकर ले जाएंगे

इंदौर14 दिन पहले
रेहड़ी लगाने वालों का कहना है कि मोदी सरकार ने 10 हजार तो दिए, लेकिन व्यापार कहां करें।

आमजन और नगर निगम कर्मचारियों के बीच विवाद के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। मंगवलार काे भी दशहरा मैदान के सब्जी व्यापारी रीगल चौराहा स्थित डीआईजी कार्यालय पहुंचे और निगम कर्मियों के खिलाफ शिकायती आवेदन दिया। उनका कहना था कि अन्नापूर्णा, कलेक्ट्रेट के पास दुकानें सामान्य रूप से लग रही हैं, जबकि हमारी दुकानाें काे जबरन हटवाने की काेशिश की जा रही है। उनका कहना िाा कि हम ताे साेशल डिस्टेंसिंग के साथ व्यापार कर रहे हैं, इसके बाद भी निगमकर्मी लगातार दबाव बना रहे हैं।

दुकानदार पूजा बंसल का कहना था कि हमारी दुकानों को दशहरा मैदान से हटाया जा रहा है, जबकि अन्नार्पूणा और मंडी चौराहे की दुकान भी लग रही है। इतना ही नहीं कलेक्ट्रेट के पास भी दुकानें प्रतिदिन की भांति ही लग रही हैं। हम तो डिवाइडर के भीतर व्यवस्थित दुकान लगा रहे हैं, जिससे ट्रैफिक की समस्या नहीं हो। इसके बाद भी हमारी दुकानों को हटवाया जा रहा है। सभी जगह जब दुकानें लग रही हैं तो फिर हमें ही क्यों टारगेट किया जा रहा है। उनका कहना था कि निगमकर्मी आते हैं और कहते हैं कि यहां से दुकानों को हटा लो नहीं तो निगम पक्की कानूनी कार्रवाई करेगा। नहीं तो सामान उठाकर ले जाएगा। हम यही चाहते हैं कि हमारी दुकानें जहां हैं वहां पर लगने दिया जाए और हमें परेशान नहीं किया जाए।

सब्जी का व्यापार करने वाले आशीष ने बताया कि नगर निगम वाले दशहरा मैदान के पास लगने वाले फुटकर व्यापारियों को बहुत परेशान कर रहे हैं। हम सुबह 3 बजे उठकर मंडी जाते हैं, वहां से आकर दुकान लगाते हैं। निगम वाले सुबह साढ़े 8 बजे ही आ धमकते हैं। वे कहते हैं कि यहां दुकान नहीं लगेगी। केंद्र सरकार ने हमें व्यापार के लिए 10-10 हजार रुपए का लोन दिया है, हमने उससे ठेला लेकर काम शुरू किया है। जब व्यापार ही नहीं करने दोगे तो फिर लोन की किश्त कैसे चुकाएंगे। परिवार को पालन कैसे करेंगे। बच्चों को जहर देकर मार दें क्या।

23 तारीख को कलेक्ट्रेट में आकर एक आवेदन दिया था। यहां से निगमायुक्त को लिखा गया था। निगमायुक्त ने रिमूव्हल को मामला सौंप दिया था। निगम वाले बहुत गलत व्यवहार करते हैं। वे धमकाते हैं कि यहां तो दुकान हम लगने नहीं देंगे। वे कहते हैं जहां बेचना हो वहां पर जाकर सामान बेचो। हम अपनी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दुकान लगाते हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

और पढ़ें