• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Isolation Wards Made In The Train In Indore, Standing For 1 Year, Can Come In 18 Boxes In Each Box, There Is Also Arrangement Of Oxygen

78 रेलवे कोविड कोच सरकारी आदेश के इंतजार में:इंदौर में सालभर से खड़े ट्रेन में बने आइसोलेशन वार्ड, हर कोच में आ सकते हैं 18 पेशेंट, ऑक्सीजन की भी है व्यवस्था

इंदौर6 महीने पहले
सालभर से तैयार आइसोलेशन कोच।
  • एक समय में 432 मरीज को रखने की सुविधा

इसे कहते हैं दीया तले अंधेरा.. इंदौर शहर में कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए अस्पतालों में बिस्तर की कमी है। पिछले साल भी यही स्थिति थी, इसलिए पश्चिम रेलवे ने पिछले वर्ष कुछ ट्रेनों के कोच को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील कर दिया था। बावजूद इसके एक भी कोच का इस्तेमाल अब तक नहीं किया गया, जबकि रोजाना कोरोना मरीज भर्ती होने के लिए भटक रहे हैं।

रेलवे ने 2020 में इस महामारी से निपटने के लिए यह कोच तैयार किए थे। अभी तक ये धूल खा रहे हैं। रेलवे कई बार जिला प्रशासन और राज्य सरकार को इस बात से अवगत करा चुका है, लेकिन इन्हें उपयोग करने का आदेश अब तक नहीं आया है।

प्रत्येक डिब्बे में लेट- बाथ अलग अलग रहेंगे
प्रत्येक डिब्बे में लेट- बाथ अलग अलग रहेंगे

इंदौर में रेलवे ने 78 कोच आइसोलेशन यानी लगभग चार रैक 24 कोच के लिए बना दिए। इसके बावजूद जिला प्रशासन द्वारा आज तक एक भी आइसोलेशन कोच का उपयोग नहीं किया गया। यह कोच जब से तैयार किए गए, तभी से रेलवे के लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन और पालिया स्टेशन पर खड़े मरीजों का इंतजार कर रहे हैं। रेलवे ने इन्हें तैयार कर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को हैंडओवर कर दिया था।

पार्टिशन के लिए लगाए गए प्लास्टिक के पर्दे
पार्टिशन के लिए लगाए गए प्लास्टिक के पर्दे

जब भी आवश्यक हो उपयोग में लिए जा सकते हैं...लेकिन जिला प्रशासन का अब तक उदासीन रवैया रेलवे के भी समझ नहीं आ रहा है। इंदौर में कोरोना तेजी सेे अपने पैर पसार रहा है। फिर भी जिला प्रशासन द्वारा अब तक किसी तरह से रेलवे द्वारा बनाए गए कोच का उपयोग नहीं लिया गया। वहीं रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी जितेंद्र कुमार जयंत ने बताया कि हमें जैसे निर्देश थे, उसी के अनुसार समय पर हमने आइसोलेशन वार्ड तैयार करके दिए थे। स्वास्थ्य विभाग को ऑफिशियल हैंडओवर भी कर दिए। अब तक जिला प्रशासन की ओर से हमसे आइसोलेशन पहुंचकर मांग नहीं की है।

रेल मंत्री का ट्वीट।
रेल मंत्री का ट्वीट।

पिछले वर्ष यह कोच तैयार हो गए थे , लेकिन अब तक जिला प्रशासन ने अब तक इन्हें ले के लिए कोई रुचि नही दिखाई है । कोच के प्रत्येक कैबिन में दो बिस्तर होंगे। इस प्रकार एक डब्बे में 18 मरीजो को रखा जा सकता है। आइसोलेशन वार्ड की तरह तीन डस्टबिन रखे हैं। प्लास्टिक के पर्दे लगे हैं। ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए क्लैंप भी हैं।

खबरें और भी हैं...