फिर मौसम की अठखेलियां,दोपहर बाद बारिश:दोपहर तक खिली रही धूप फिर कई क्षेत्रों में बारिश

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिवाजी प्रतिमा चौराहाआधे घंटे बाद धीमी हुई बारिश - Dainik Bhaskar
शिवाजी प्रतिमा चौराहाआधे घंटे बाद धीमी हुई बारिश

इस मौसम में बारिश का यह अंतिम दौर है। अगस्त में सबसे ज्यादा होने वाली बारिश इस बार नहीं हुई बल्कि सितम्बर के 19 दिनों में ही 14 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। वैसे कुल 29 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है जबकि औसत कोटे के लिए अभी 5 इंच की बारिश की जरूरत है। सोमवार को दोपहर तक धूप खिली रही, लेकिन धीरे-धीरे मौसम बदला और करीब दोपहर 3 बजे शहर के पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्रों, जिसमें जीपीओ, छावनी, आरएनटी मार्ग, जवाहर मार्ग, बियाबानी, महूनाका, मल्हारगंज सहित अन्य क्षेत्रों में करीब आधा घंटा बारिश हुई। इसके साथ ही घने बादल छाए रहे। मौसम विभाग ने 19 व 20 सितम्बर को इंदौर सहित आसपास के शहरों में अच्छी बारिश के आसार बताए थे। रविवार को दिन में बादल भी छाए और 5-7 मिनिट रिमझिम हुई लेकिन उसके बाद रातभर रिमझिम भी नहीं हुई। विभाग ने अभी भी 20 सितम्बर को अच्छी बारिश की उम्मीद जताई है।

अब देखा जाए तो सितम्बर के 10 दिन ही बचे हैं। इसके बाद आमतौर में अक्टूबर में बारिश नहीं होती। इन 10 दिनों में अगर कुछ घंटों की भी बारिश होती है तो संभव है कि इंदौर औसत कोटे (34-35 इंच) तक पहुंच जाए। दूसरी ओर अगर 10 दिनों में 2-3 इंच ही बारिश होती है तो भी गर्मी में जलसंकट जैसे हालात बनने की आशंका नहीं रहेगी। ऐसे ही इधर सोयाबीन की फसलें तो अब लगभग तैयार भी हो गई है इसलिए किसानों को चिंता नहीं है।

लौटता मानसून 25-26 सितम्बर तक रहेगा सक्रिय

उधर, अब अक्टूबर-नवम्बर में गेहूं, चने की फसलों के लिए बोवनी शुरू होगी। ऐसे में 10 दिनों में पर्याप्त बारिश हो गई तो किसानों को बाद में अन्य जल स्त्रोतों का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। अगर बिल्कुल कम या अब बारिश नहीं होती है तो फिर किसानों को अन्य जलस्त्रोतों पर निर्भर रहना पड़ेगा। कुल मिलाकर अब सारी उम्मीदें अब ये 10 दिनों से हैं। मौसम वैज्ञानिक (एग्रीकल्चर कॉलेज) डॉ. एचएल खापडिया ने बताया कि अभी अरब सागर व बंगाल की खाड़ी में बन सिस्टम के कारण मप्र में कई स्थानों पर लो प्रेशर की स्थिति है। ऐसे में 20 सितम्बर को भी इंदौर सहित आसपास के क्षेत्रों में बारिश होने की उम्मीद है। वैसे यह लौटता मानसून है और यह लो प्रेशर की स्थिति 25-26 सितम्बर तक रहेगी। इसके बाद मौसम खुल सकता है।

खबरें और भी हैं...