पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Junior Doctors Were On Strike For The Seventh Consecutive Day, Notice To Five Including JDA President

विरोध जारी:जूनियर डॉक्टर लगातार सातवें दिन हड़ताल पर रहे, जेडीए अध्यक्ष सहित पांच को नोटिस

इंदौर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिन्हें नोटिस, उन्हें 10 जून को भोपाल में एथिकल कमेटी के सामने पेश होना है

रविवार को लगातार सातवें दिन जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल जारी रही। रविवार देर शाम मप्र मेडिकल काउंसिल ने जेडीए अध्यक्ष डॉ. प्रखर चौधरी के साथ ही जेडीए पदाधिकारी डॉ. रणसिंग तंवर, डॉ. नयन गुप्ता, डॉ. पूजा कुमार और डॉ. सक्षम कुमार को पंजीयन निरस्ती का नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

इन सभी को 10 जून को भोपाल में एथिकल कमेटी के समक्ष प्रस्तुत होने के लिए कहा गया है। नोटिस में कहा है कि अनावश्यक रूप से ड्यूटी से गैरहाजिर होने के अलावा आप लोग अन्य डॉक्टर्स को भी काम करने से रोक रहे हैं। हड़ताल के चलते मेडिकल कॉलेज के अस्पतालों में व्यवस्था चरमरा रही है।

शासकीय अष्टांग आयुर्वेद कॉलेज से 30 डॉक्टर और शासकीय डेंटल कॉलेज से 30 असिस्टेंट सर्जन की ड्यूटी अस्पतालों में लगाई गई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों के साथ ही खंडवा कॉलेज से 50 डॉक्टर पहले ही बुलाए गए थे। 55 सीनियर रेजीडेंट डॉक्टर्स ने भी शनिवार को काम बंद कर दिया था। नोटिस मिलने के बाद वे काम पर लौट आए हैं। सहायक प्रोफेसर भी मरीजों को देख रहे हैं।

सरकार से लिखित आश्वासन चाहता है जेडीए

कई संगठन भी जूडा के समर्थन में आए हैं। डॉक्टर्स को पिछले दिनों मौखिक आश्वासन दिया था लेकिन अब वे सरकार से लिखित आश्वासन की मांग कर रहे हैं। एमजीएम मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने अपना विरोध जारी रखते हुए एमवायएच में रक्तदान किया। सरकार द्वारा उनकी मांगों पर ध्यान न देने के विरोध में प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने नाटक और अन्य कार्यक्रमों का भी मंचन किया। शाम को एमवायएच से कैंडल मार्च निकाला।

आदेश पर भी जूडा नहीं लौटे काम पर, अवमानना पर सुनवाई आज होगी

हाई कोर्ट की डिवीजन बेंच के आदेश के बाद भी जूनियर डॉक्टर काम पर नहीं लौटे। आदेश नहीं मानने पर हाई कोर्ट में अवमानना दायर की गई है। सोमवार को चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक, जस्टिस सुजॉय पाल की खंडपीठ इस पर सुनवाई करेगी।

सरकार डॉक्टर के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई किए जाने की मांग करेगी। डिवीजन बेंच ने जूनियर डॉक्टर्स द्वारा की गई हड़ताल को अवैधानिक करार देते हुए तल्ख टिप्पणी की थी। यह भी कहा था कि 24 घंटे के भीतर डॉक्टर काम पर लौटें। इस आदेश को काफी समय हो गया पर जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर अड़े हैं।

खबरें और भी हैं...