दारू पार्टी में पैग मांगने पर दोस्त की हत्या:इंदौर में प्राइवेट पार्ट में मारी लात, डीएनए टेस्ट में हुआ खुलासा

इंदौर4 महीने पहले

इंदौर में चंदा पार्टी में शराब एक्ट्रा मांगने पर दोस्त ने दोस्त की हत्या कर दी। पुलिस ने गुरुवार को एक साल पहले हुई हत्या का खुलासा किया। पिछले साल 4 अप्रैल 2021 को मर्डर होने के 11 दिन बाद पुलिस को खेत में हडि्डयां, कपड़े और जूते मिले थे। ये पता लगा पाना मुश्किल था कि ये मर्डर किसका हुआ है और किसने किया है। एक साल बाद 22 अप्रैल को डीएनए रिपोर्ट से मृतक का पता चल गया। अब पुलिस के सामने हत्यारे का पता लगाने का चैलेंज था। पुलिस ने इस गुत्थी को भी एक माह के भीतर ही सुलझा लिया। हत्या में शामिल दो आरोपियों को पकड़ लिया। आरोपियों ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

आरोपी मांगीलाल और जगदीश ने बताया कि जंगम सिंह और हम अच्छे दोस्त थे। तीनों कबाड़े का काम करते थे। 4 अप्रैल 2021 को उन्होंने काम के बाद पीथमपुर से शराब ली। जिसमें जंगम सिंह ने 100 रुपए ज्यादा दिए थे। यहां से वह हरिराम के खेत में बैठकर शराब पीने लगे। इस दौरान जंगम सिंह ने कहा कि उसने 100 रुपए ज्यादा मिलाए हैं। उसे ज्यादा शराब पीना है। इस बात को लेकर उनकी कहासुनी हो गई। दोनों ने मिलकर जंगम सिंह की पिटाई कर दी। उसके प्राइवेट पार्ट में लात मारकर हत्या कर दी। जंगम सिंह की पहचान न हो इसके लिए उसके कपड़ों से पहचान पत्र और अन्य दस्तावेज लेकर फरार हो गए।

मृतक जंगम सिंह के प्राइवेट पार्ट में लात मारकर हत्या की गई थी।
मृतक जंगम सिंह के प्राइवेट पार्ट में लात मारकर हत्या की गई थी।

गांव के दो युवकों ने कपड़ों से की पहचान
सबसे पहले पुलिस को डायल 100 के माध्यम से एक खेत में किसी व्यक्ति की हडि्डयां पड़े होने की सूचना मिली। पुलिस ने मौके पर जाकर देखा तो वहां मृतक के कपड़े और जूते भी पड़े थे। पुलिस ने गांव वालों से पूछताछ की। यहां दो युवकों ने कपड़ों की पहचान अपने पिता के रूप में की। पुलिस ने दोनों का डीएनए टेस्ट का सेंपल लिया। इसकी रिपोर्ट 22 अप्रैल 2022 को मिली। जिसमें मृतक की पहचान जंगम सिंह के रूप में की गई।

आरोपी मांगीलाल और जगदीश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।
आरोपी मांगीलाल और जगदीश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

हत्या के 11 दिन बाद पुलिस को पता चला
TI संजय शर्मा ने बताया, हत्या के 11 दिन बाद 15 अप्रैल 2021 को हरिराम के खेत में कुछ हडि्डयां पड़े होने की सूचना मिली थी। मौके पर जब पुलिस पहुंची तो यह समझ नहीं आया कि हडि्डयां जानवर की हैं या इंसान की। एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाया गया। उन्होंने इंसान की हडि्डयां होने की बात कही। पुलिस मामले की जांच कर रही थी, तभी मांगीलाल और राजेश नाम के दो युवक पहुंचे। उन्होंने बताया कि शव के पास जो कपड़े मिले हैं वे उनके पिता जंगम सिंह के हैं, लेकिन उनके साथ दो दोस्त मांगीलाल और जगदीश भी लापता हैं। यहीं से पुलिस को शंका हुई कि तीनों ने किसी की हत्या की है।

आरोपी मांगीलाल और जगदीश एक साल बाद पुलिस की गिरफ्त में आए हैं।
आरोपी मांगीलाल और जगदीश एक साल बाद पुलिस की गिरफ्त में आए हैं।

भागते रहे आरोपी, परिवार को भी नहीं बताया
पुलिस के मुताबिक मांगीलाल और जगदीश दोनों हत्या करने के बाद घबरा गए थे। वह परिवार को बिना बताए लापता हो गए। पुलिस ने जंगम सिंह, मांगीलाल, जगदीश तीनों के ससुराल और परिवार के लोगों के यहां भी छानबीन की, लेकिन वह नहीं मिले। मांगीलाल और जगदीश दोनों मजदूरी कर अपना काम निकाल रहे थे। मांगीलाल कुछ समय तक अपने ससुराल में भी रहा। बाद में उन्होंने अलग-अलग होकर सनावद और सिमरोल में नौकरी करना शुरू कर दी।