पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Largest Gang Of Speculative Business Caught, Biggest Recovery So Far In The State, 1.31 Crore 66 Thousand Cash Seized

सट्‌टा गिरोह:सट्टा कारोबार का सबसे बड़ा गिरोह पकड़ाया, प्रदेश में अब तक की सबसे बड़ी रिकवरी, 1.31 करोड़ 66 हजार कैश जब्त

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुबई से जुड़ी है ऑनलाइन सट्‌टा कारोबार की लिंक, महू के सरगना सहित नौ गिरफ्तार

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन सट्‌टा चलाने वाले एक बड़े गिरोह के नौ लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनसे 1 करोड़ 31 लाख 66 हजार 623 रुपए मिले हैं। इसके अलावा को-ऑपरेटिव बैंक के खातों में जमा करीब डेढ़ करोड़ की राशि फ्रीज कराई गई है। गिरोह ने छह माह में 53 करोड़ 23 लाख 70 हजार 417 रुपए का ट्रांजैक्शन किया है।

इनके तार बेंगलुरु के जरिए दुबई के बड़े सट्‌टा किंग से जुड़े हैं। इंटरपोल और आईबी भी मामले की जांच कर रही है।

डीआईजी हरि नारायण चारी मिश्र ने बताया कि मप्र में गिरोह का सरगना राजा उर्फ लोकेश वर्मा है। यह महू का रहने वाला है। इसने पालदा के सॉफ्टवेयर इंजीनियर मनोज उर्फ मोंटी मालवीय से दस लाख रुपए में धन गेम और धन कुबेर नाम से सट्‌टे का एप तैयार कराया था। इसने को-ऑपरेटिव बैंक में कई फर्जी खाते खोल रखे थे।

लोकेश और मनोज ने शहर के कई बड़े शकर, तेल, किराना व अन्य कारोबारियों को दो प्रतिशत कमीशन का लालच देकर उन्हें भी अपने कारोबार में शामिल कर लिया था। फर्जी फर्म बनवाकर शकर, तेल आदि की खरीदी बताकर उनके अकाउंट रुपए ट्रांसफर कर देते थे। फिर निकाल लेते थे। इसकी वे जीएसटी भी कटवा रहे थे।

कई व्यापारियों ने दो प्रतिशत कमीशन की लालच में सट्‌टे के काले धन को सफेद में कनवर्ट करने में भूमिका निभाई है। तीन आईपीएस अमित तोलानी, पुनीत गहलोद और अभिनव विश्वकर्मा की टीम ने जांच कर आरोपी लोकेश उर्फ राजा वर्मा, मनोज मालवीय, विकास यादव, जितेंद्र लोवंशी, हेमंत गुप्ता, सोनू गुप्ता, पलाश अभिचंदानी, शुभम कल में और मुकेश अभीचंदानी को गिरफ्तार किया है।

6 माह में पांच करोड़ की प्रॉपर्टी खरीदी, बेंगलुरु के जरिए दुबई से जुड़ा कनेक्शन
डीआईजी ने बताया लोकेश उर्फ राजा वर्मा ने 6 माह में 5 करोड़ की प्रॉपर्टी खड़ी कर ली थी। बेंगलुरु में अजय रतन ने इसे मप्र के लिए नियुक्त किया था। अजय रतन के तार दुबई से जुड़े हैं। 12 जुलाई को महू में राजू वर्मा के मकान में इस रैकेट के संचालित होने की सूचना पर दबिश देकर लोकेश को पकड़ा था।

गरीबों को दुकान व लोन दिलाने के बहाने हथियाए दस्तावेज
आरोपी लोकेश उर्फ राजा वर्मा ने सट्‌टे के कारोबार के ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए महू-इंदौर के गरीब व मजदूर परिवार के लोगों को दुकान लोन के नाम पर उनके आधार कार्ड, पैन कार्ड, मंगवाकर, गुमाश्ता लाइसेंस बनवाए। इन्हीं के दस्तावेजों से व्यापारी फर्म बनाकर बैंक में करंट अकाउंट खुलवाए। आरोपियों से 16 फर्जी खातों की जानकारी मिली है।

खबरें और भी हैं...