इंदौर में मानवता फिर शर्मसार:75 साल की बुजुर्ग को मंदिर के बाहर छोड़ा, वृद्धा ने कुछ नहीं कहा पर उसके आंसुओं ने सब कुछ बयां कर दिया

इंदौरएक वर्ष पहले
बुजुर्ग ने अपनों के बारे में कुछ नहीं कहा, बस रोती रही।

सोमवार को एक वृद्धा के पैर में कीड़े लगने की घटना के अगले ही दिन मानवता को शर्मसार करने वाली एक और घटना सामने आई। एक 75 साल की बुजुर्ग महिला को सुबह 5 बजे गुमास्ता नगर शिव मंदिर के बाहर कोई छोड़कर चला गया। सुबह राहगीरों ने महिला को देखा और गोल्ड कॉइन सेवा ट्रस्ट के सदस्यों को सूचना दी, जिसके बाद वे बुजुर्ग महिला को लेकर गए। महिला अच्छी तरह से बोल तो नहीं पा रही थी, लेकिन उसकी आंखों से लगातार अपनों द्वारा दिया हुआ दर्द आंसू के रूप में बह रहा था।

वृद्धा को लोगों ने समाजसेवी संस्था के हाथों में सौंपा है।
वृद्धा को लोगों ने समाजसेवी संस्था के हाथों में सौंपा है।

परिवार की बदनामी न हो इसलिए चुप है

75 साल की बुजुर्ग को उसके ही परिजन मंदिर के बाहर छोड़कर गए थे। राहगीरों की नजर पड़ी तो मुनीष मालानी ने ट्रस्ट को सूचना दी। ट्रस्ट के सदस्य ने बताया लोक लाज के डर से बुजुर्ग कुछ बोलने को तैयार नहीं है। घबराहट में बस रोते ही जा रही। दो से तीन दिन में बुजुर्ग महिला सामान्य हो जाएगी। थाना चंदन नगर के आरक्षक जितेंद्र और प्रवीण परवाल के सहयोग से चाणक्यपुरी चौराहे के समीप दशरथ सेवाश्रम में स्थाई निवास दिया गया है। हम माताजी की वैसी ही सेवा करने का वचन देते है जैसे अपने घर के परिजन हमारे साथ रहते है।

खबरें और भी हैं...