पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Madhya Pradesh Breaking News; Vinay Tripathi Arrested For Selling Fake Remdesivir Injection In Indore

इंदौर में रेमडेसिविर पर बड़ा खुलासा:इंदौर का डॉक्टर हिमाचल में बना रहा था नकली इंजेक्शन, 16 बॉक्स में 400 वाॅयल के साथ पकड़ाया

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रेमडेसिविर की किल्लत के बीच इस इंजेक्शन की कालाबाजारी का एक बड़ा मामला सामने आया है। इंदौर क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे डाॅक्टर को गिरफ्तार किया है जो हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा की अपनी कंपनी में बिना लाइसेंस के रेमडेसिविर इंजेक्शन बना रहा है। आरोपी डॉ. विनय त्रिपाठी के पास से 16 बॉक्स में 400 नकली वाॅयल भी मिले हैं। जांच में पता चला है कि वह बीते एक साल से कांगड़ा में सूरजपुर स्थित फॉर्मुलेशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी चला रहा था।

डीआईजी मनीष कपूरिया ने बताया, पुलिस को सूचना मिली थी कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का स्टॉक किसी व्यक्ति के पास है। वह इंदौर में सप्लाई करने वाला है। इस पर टीम ने पड़ताल के बाद त्रिपाठी को पकड़ा। जब इस संबंध में पूछताछ की गई, तो पता चला कि त्रिपाठी ये इंजेक्शन हिमाचल प्रदेश से लेकर आए हैं। जब उनसे संबंधित दस्तावेज मांगे गए, तो वे कागजात नहीं दे पाए। मामले में क्राइम के साथ ड्रग विभाग की टीम भी जांच कर रही है। पता चला है कि व्यक्ति फार्मा बिजनेस से जुड़ा है। पीथमपुर में उसकी यूनिट भी है।

जानकारी के मुताबिक, डॉ. विनय त्रिपाठी ने दिसंबर 2020 को कंपनी के मैनेजर पिंटू कुमार के माध्यम से जिला कांगड़ा के एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला के पास इंजेक्शन के उत्पादन के लिए अनुमति मांगी थी। अथॉरिटी ने कंपनी को इसके उत्पादन की अनुमति नहीं दी थी। तब विनय की कंपनी पैंटाजोल टेबलेट्स का ही उत्पादन कर रही थी।

प्रेस क्लब में कलेक्टर और डीआईजी ने मीडिया को यह जानकारी दी।
प्रेस क्लब में कलेक्टर और डीआईजी ने मीडिया को यह जानकारी दी।

कंपनी के मैनेजर पिंटू कुमार ने बताया, पिछले साल लॉकडाउन लगने के बाद से कंपनी बंद थी। अगस्त 2020 को इंदौर के रहने वाले डॉ. विनय त्रिपाठी ने ही कंपनी में फिर से उत्पादन शुरू करवाया था। स्टाफ को हर महीने सैलरी भी वही दे रहा था।

पिंटू ने बताया,‘दिसंबर 2020 को डॉ. विनय त्रिपाठी के कहने पर मैंने एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला आशीष रैना को रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन किया था, लेकिन अनुमति नहीं मिली थी। रेमडेसिविर इंजेक्शन हमारी कंपनी में बनाया जा रहा था, मुझे इसकी जानकारी नहीं है। कंपनी में वर्तमान में सात कर्मचारी काम कर रहे हैं। इनमें दो सिक्योरिटी गार्ड भी शामिल हैं।

एडिशनल ड्रग कंट्रोलर धर्मशाला आशीष रैना ने बताया, कंपनी को रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने कीअनुमति विभाग ने नहीं दी है। नूरपुर के ड्रग इंस्पेक्टर प्यार चंद को मामले की जांच करने के आदेश दिए गए हैं।

जबलपुर में रेमडेसिविर की कालाबाजारी:77 हजार रुपए में बेच रहे थे इंजेक्शन, भोपाल में भर्ती मरीज के लिए जबलपुर में आए थे खरीदने

खबरें और भी हैं...