पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंदौर के इस गांव में असली जनता कर्फ्यू:गांववालों ने मेन रोड को लकड़ी लगाकर बंद किया, मंत्री-कलेक्टर से भी गांव के बाहर ही खड़े होकर बात की, मंत्री बोले - ऐसी व्यवस्था से ही टूटेगी चेन

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री तुलसी सिलावट और मंत्री उषा ठाकुर ने गांववालाें से बात की। - Dainik Bhaskar
मंत्री तुलसी सिलावट और मंत्री उषा ठाकुर ने गांववालाें से बात की।
  • गांव मे बेरिकेडिंग के बाहर से ही ग्रामीणों से चर्चा कर कोरोना के संबंध में ली जानकारी

जिले में कोरोना से निपटने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। चाहे शासन हो, प्रशासन हो, जनप्रतिनिधि हो या ग्रामीण जन सभी जुटे हैँ। इसका नमूना शनिवार को महू के कुछ गांवों में देखने को मिला। यहां ग्रामीणों ने बाहरी लोगों की आवाजाही पर पाबंदी लगा रखी है।

मुख्य मार्ग को बेरिकेडिंग कर रोक दिया है। सख्ती से जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे ग्रामीणों ने मंत्री और कलेक्टर को भी गांव में भीतर नहीं जाने दिया। उन्होंने गांव के मेन गेट पर ही खड़े होकर बात की। ग्रामीणों द्वारा बनाई गई जनता कर्फ्यू की व्यवस्था का मंत्रियों और कलेक्टर ने भी पालन किया। उन्होंने भी ग्रामीणों के प्रयास की सराहना की। कहा- ऐसी व्यवस्था से ही कोरोना की चेन टूटेगी।

जिले के प्रभारी और जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर शनिवार को महू क्षेत्र के दौरे पर रहे। ये सभी महू के ग्राम मलेंडी पहुंचे, तो वहां मुख्य मार्ग पर बेरिकेडिंग की हुई थी। ग्रामीणों ने जनता कर्फ्यू के दौरान आवाजाही को नियंत्रित करने के लिए गांव की सीमा में को बंद कर रखा है। बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश को प्रतिबंधित कर दिया है। मंत्री जब यहां पहुंचे, ग्रामीणों की इस व्यवस्था का पालन करते हुए गांव के बाहर ही खड़े रहकर ग्रामीणों से बात की और उनके प्रयासों की सराहना की।

मंत्री ने ग्रामीणों से कहा कि वे बीमारी को छिपाएं नहीं, इलाज करवाएं।
मंत्री ने ग्रामीणों से कहा कि वे बीमारी को छिपाएं नहीं, इलाज करवाएं।

मंत्री सिलावट ने ग्रामीणों से आग्रह किया कि वह कोरोना से घबराए नहीं, सजग और सावधान रहें। लक्षण दिखाई देते ही तुरंत जांच कराएं। पॉजिटिव आने पर आइसोलेशन में रहें। उन्होंने बताया, हर पंचायत स्तर पर कोविड केयर सेंटर की स्थापना की गई है। यहां भोजन, नाश्ता, चाय, कूलर साफ सफाई आदि की व्यवस्था है। आवश्यकता पड़ने पर उन्हें अस्पतालों में भी भर्ती कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि मरीजों को घर-घर जाकर चिन्हित किया जा रहा है।

मंत्री सिलावट और उषा ठाकुर ने अधिकारियों के साथ में गवली पलासिया, कोदरिया, भगवत खेड़ी, सिमरोल आदि गांवों का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने कोविड से निपटने के लिए की जा रही व्यवस्था को देखा तथा ग्रामीणों से चर्चा कर उन्हें उपलब्ध कराई जा रही है, सुविधाओं की जानकारी ली।

खबरें और भी हैं...