पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यात्री कृपया ध्यान दें:इंदौर-जबलपुर ओवर नाइट के बाद अब इंदौर-भिंड और इंदौर ग्वालियर ट्रेन भी कैंसिल, काेरोना की दूसरी लहर ने इंदौर में अब तक 24 ट्रेनों के पहिए रोके

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर के तेज होते ही ट्रेनों में यात्रियों की संख्या नहीं के बराबर रह गई है। ज्यादातर गाड़ियां खाली ही दौड़ रही हैं। इसे देखते हुए रेलवे लगातार गाड़ियां निरस्त कर रहा है। शनिवार को भी दो गाड़ियों को निरस्त करने की जानकारी दी गई। इमसें भिंड - इंदौर और ग्वालियर - इंदौर शामिल हैं। इन ट्रेनों के दोनों ओर से फेरों को कैंसिल कर दिया गया है। ये गाड़ियां करीब 20 दिन रद्द रहेंगी। इंदौर से जबलपुर जाने वाली ओवरनाइट एक्सप्रेस को 13 मई से रद्द कर दिया था। इंदौर से अब सिर्फ 12 गाड़ियां संचालित हो रही हैं। कोरोना के कारण अब तक 24 गाड़ियों को निरस्त किया जा चुका है।

पीआरओ जितेंद्र कुमार जयंत ने बताया कि कोरोना के कारण में यात्रियों की संख्या काफी कम है। लगातार गाड़ियां खाली दौड़ रही है। ज्यादातर गाड़ियों में 5 से 10 फीसदी यात्री ही सफर कर रहे हैं। इसे देखते हुए रेल प्रशासन ने दो और गाड़ियों को निरस्त कर दिया है। इसमें भिंड - इंदौर और ग्वालियर - इंदौर शामिल हैं। इन ट्रेनों के दोनों ओर से फेरों को कैंसिल कर दिया गया है। ये गाड़ियां करीब 20 दिन रद्द रहेंगी। यात्रियों की संख्या में इजाफा होते ही इसके संचालन को फिर से शुरू कर दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि जयपुर से उज्जैन से होते हुए रतलाम जाने वाली ट्रेन को भी रद्द कर दिया गया है। इंदौर से अब सिर्फ 12 गाड़ियों का संचालन किया जा रहा है। पहले यहां से 36 गाड़ियां दौड़ रही थीं। जिन्हें धीरे-धीरे कर निरस्त किया गया है। इनमें वे गाड़ियां हैं, जो पूरी तरह से खाली चल रही थीं। जहां पर भीड़ ज्यादा हो रही है। वहां, अगल से ट्रेन चलाई जा रही है। इसी कड़ी में महू से कामाख्या के लिए 28 मई को एक गाड़ी चलाने का फैसला किया है। यह ट्रेन 31 मई को लौटेगी।

खबरें और भी हैं...