पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सेवा और समर्पण:20 साल पहले बना मेडिकल उपकरण बैंक, हर माह 1500 से ज्यादा की मदद

इंदौर13 दिन पहलेलेखक: गौरव शर्मा
  • कॉपी लिंक
  • मेडिकल सेवा में भी शहर नंबर वन, संस्थाएं कर रही हैं मेडिकल से जुड़ी मदद, एप से बुकिंग पर मिल रही है सुविधा

इंदौर के लोग मेडिकल सेवाओं में भी नंबर वन हैं। शहर में 20 साल पहले मेडिकल इक्विपमेंट बैंक बन गया था। अब अलग-अलग कई संस्थाएं लोगों की मदद कर रही हैं।

14 से ज्यादा तरह के इक्विपमेंट दे रहे
स्वाध्याय भवन, जंजीरावाला चौराहा स्थित 20 साल पुराने महावीर मेडिकल इक्विपमेंट बैंक के प्रमुख डॉ. अनिल भंडारी कहते हैं कि जरूरतमंद लोगों की मदद को देखते हुए इस बैंक की स्थापना की थी। यहां पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, ऑक्सीजन सिलेंडर, मेडिकल बेड, व्हील चेयर सहित 14 तरह के मेडिकल इक्विपमेंट नाममात्र के शुल्क पर दिए जा रहे हैं। हर साल 1500 से ज्यादा लोगों की मदद इस मेडिकल बैंक के माध्यम से की जा रही है।

आद्य गौड़ सेवा न्यास ने मदद के लिए बना दिया आरोग्य प्रकोष्ठ, एक रुपए रोज में जरूरतमंदों को दे रहे उपकरण
आद्य गौड़ सेवा न्यास, आरोग्य प्रकोष्ठ के माध्यम से 40 तरह के इक्विपमेंट एक रुपए रोज में दे रहे हैं। एप के जरिये इसकी सुविधा कोई भी ले सकता है। आद्य गौड़ ब्राह्मण सेवा न्यास के अध्यक्ष पं. दिनेश शर्मा ने बताया 2016 में मेडिकल इक्विपमेंट बैंक की स्थापना की थी। इसके माध्यम से बाइपेप मशीन, बेड, व्हील चेयर सहित 40 तरह के उपकरण दिए जा रहे हैं। अब तक ढाई हजार से ज्यादा परिवारों की मदद की जा चुकी है। कोरोना काल में ही 300 से ज्यादा को कंसंट्रेटर दिए गए।

इधर, ये सुविधाएं भी

  • छत्रीबाग साईं मंदिर ट्रस्ट ब्लड टेस्ट, सोनोग्राफी, एंजियोग्राफी आदि में 50 फीसदी तक की रियायत दे रहा है।
  • कोरोना संक्रमण के दौरान 10 से ज्यादा संस्थाओं ने दवाओं से लेकर जांचों में 70 प्रतिशत तक की रियायत दी।

हर साल 20 हजार की कर रहे नि:शुल्क मदद
गोल्ड कॉइन सेवा ट्रस्ट जरूरतमंदों को तीन साल से हर तरह के मेडिकल इक्विपमेंट नि:शुल्क उपलब्ध करा रहा है। ट्रस्ट के प्रमुख दिनेश मानधन्या ने बताया कि तीन साल पहले हमें परिचित के लिए मेडिकल इक्विपमेंट की जरूरत हुई। उस समय इक्विपमेंट नहीं मिला तो तय किया कि मेडिकल इक्विपमेंट बैंक बनाएंगे, ताकि और कोई परेशान न हो। तीन साल में करीब 60 हजार लोगों की मदद कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...