रिश्तों का कत्ल:लापता युवती पहुंची इंदौर, कहा- सवा करोड़ की प्रॉपर्टी के लिए चचेरे भाई-भाभी और जीजा नशीला इंजेक्शन लगाकर ले गए थे

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

परदेशीपुरा से लापता 20 वर्षीय युवती सुमन यादव सोमवार को इंदौर पहुंच गई। उसने परदेशीपुरा पुलिस को बयान दिया कि सवा करोड़ के मकान को लेकर उसका चचेरे भाई से विवाद चल रहा है। 21 अप्रैल को उसे चचेरे भाई प्रदीप, भाभी ज्योति और जीजा अर्जुन यादव ने नशीला इंजेक्शन लगाया और हाथ-पैर बांधकर कार से अयोध्या के एक गांव ले गए। वे वहां हत्या करना चाहते थे, लेकिन पुलिस के लगातार फोन आने के कारण उसे छोड़ दिया। टीआई अशोक पाटीदार के अनुसार युवती ने बताया कि 21 अप्रैल को रात 10 बजे चाचा का लड़का प्रदीप घर आया।

साथ में जीजा अर्जुन और भाभी ज्योति भी थीं। उन्होंने मुंह दबाया और कमर के नीचे एक इंजेक्शन लगाया। नींद खुली तो लखनऊ के पुरैया गांव में थी। इधर, सुमन के लापता होते ही उसकी किराएदार और सहेली ने थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। भास्कर में खबर प्रकाशित होते ही पुलिस एक्टिव हुई और टीम को लखनऊ भेजा। तब तक पुलिस ने प्रदीप के भाई पंकज को पकड़ लिया था। तब यही कहा जा रहा था उसकी मां की तबीयत खराब है। बाद में डरा धमकाकर उसकी पुलिस से बात कराई। जैसे ही युवती यहां पहुंची तो उसने सारी कहानी बताई।

खबरें और भी हैं...