पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बारिश का मौसम शुरू:अरब सागर से मानसून सक्रिय, बंगाल की खाड़ी करेगी तर

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीते 10 साल -2012 में 3 जून को ही आ गया था मानसून - Dainik Bhaskar
बीते 10 साल -2012 में 3 जून को ही आ गया था मानसून
  • पिछले दो सालों का यही रुझान, 70% बारिश बंगाल की खाड़ी के सिस्टम से ही हुई

शहर में मानसून की घोषणा अरब सागर से आने वाले सिस्टम से होती हैै, लेकिन दो साल में बारिश का कोटा बंगाल की खाड़ी से आने वाले सिस्टम से पूरा हो रहा है। पिछले साल 50 इंच और 2019 में 53 इंच पानी गिरा था। 70 फीसदी बारिश बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम से हुई। इस बार भी शुरुआत अरब सागर से आए सिस्टम से हो रही है, फिर तेज बारिश की संभावना बंगाल की खाड़ी से बन रही है। जून के औसत से अच्छा प्रदर्शन जून में बारिश के औसत छह दिन माने जाते हैं। अब तक 8 दिन पानी गिर चुका है। पूर्व में 4.4 इंच तो पश्चिम में 1.5 इंच बारिश हो गई है। जून में औसत चार इंच के करीब पानी बरसता है। बचे हुए दिनों में भी अच्छी बारिश की उम्मीद है।

पूर्व-पश्चिम की बारिश में अंतर
शहर के पूर्वी और पश्चिमी हिस्से में शुरुआत में ही बारिश के आंकड़ों में भारी अंतर दर्ज हो रहा है। एयरपोर्ट स्थित मौसम विभाग के वर्षामापी यंत्र ने अब तक 1.5 इंच ही बारिश रिकॉर्ड की है। एसएसपी ऑफिस स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, कृषि कॉलेज में लगे वर्षामापी यंत्र ने 112 मिलीमीटर (4.4 इंच) बारिश रिकॉर्ड की है। बारिश का यह अंतर पिछले कई सालों से बना हुआ है। पूर्वी इंदौर में हमेशा से ही बारिश अधिक रिकॉर्ड होती है।

खबरें और भी हैं...