पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • More Crowds The Next Day, Many People Returned Empty handed, Drug Dealers Said Up To Four Times The Difference In Demand And Supply

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रेमडेसिविर पर राहत नहीं:दूसरे दिन और ज्यादा भीड़, कई लोग खाली हाथ लौटे, दवा व्यापारी बोले- मांग और आपूर्ति में चार गुना तक अंतर

इंदौर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत गुरुवार को भी जारी रही। लोग दवा बाजार के बाहर सुबह से शाम तक कतार में खड़े रहे। कई लोग खाली हाथ लौटे। जिन लोगों को बुधवार को दिनभर खड़े रहने के बाद भी इंजेक्शन नहीं मिला, उन लोगों को गुरुवार को टोकन से पहले इंजेक्शन मिले। गुरुवार को जो लोग कतार में लगे, वे खाली हाथ लौटे। उनकी बारी शुक्रवार को आएगी। दवा बाजार व्यापारियों का कहना है कि मांग और आपूर्ति में चार गुना तक फर्क है। मांग लगातार बढ़ रही, जबकि इंजेक्शन 400-500 के बीच रोजाना आ रहे।
बुधवार को दिनभर खड़े रहे, गुरुवार को टोकन के बाद भी 5 घंटे करना पड़ा इंतजार
धार के पास से आए रणछोड़ शर्मा। उनके परिवार के चार लोग कोरोना पॉजिटिव हैं। चारों को रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है। चार में से दो सीरियस हैं। बुधवार को वे सात घंटे तक खड़े रहे इंतजार में कि इंजेक्शन मिलेगा लेकिन खाली हाथ लौटे। उन्हें टोकन दिया गया, जिसे लेकर वे आए। उन्होंने कहा आज भी पांच घंटे इंतजार करता रहा।

उसके बाद दो इंजेक्शन मिले। कई लोगों ने कहा परिजन, रिश्तेदारों को 30 से 65 फीसदी तक इंफेक्शन है लेकिन इंजेक्शन नहीं मिल रहा। महेश वर्मा ने कहा वे सेंधवा से आए। पत्नी को 65 फीसदी तक इंफेक्शन है। इंजेक्शन लगाना जरूरी है लेकिन नहीं मिल रहा। कब मिलेगा, कैसे मिलेगा पता नहीं। सिर्फ इस लंबी कतार में इस आस से खड़ा हूं कि जैसे-तैसे इंजेक्शन मिल जाए। वहीं, कई लोगों का कहना है कि इंजेक्शन नहीं मिल रहा। ये इंजेक्शन लगेगा तब उनके परिवार के लोगों की जान बचेगी।

हाथ में मेहंदी से भी पल्स ऑक्सीमीटर की रीडिंग गलत हो सकती है

ए-सिम्टोमैटिक मरीज हैं तो रेमडेसिविर की जगह एंटीवायरल डोज ले सकते हैं

इंदौर | विशेषज्ञों का कहना है कि सर्दी-खांसी के शुरुआती लक्षणों में सीटी स्कैन कराने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि शुरुआती लक्षण के समय संक्रमण कम नजर आता है। अंगुली पर नेल पॉलिश, मेहंदी लगी हो या हाथ ठंडे हो तब भी ऑक्सीजन लेवल गड़बड़ आ सकता है। ए-सिम्टोमैटिक मरीज रेमडेसिविर की जगह एंटीवायरल का डोज ले सकते हैं।

गुरुवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज में विशेषज्ञों ने यह जानकारी दी। डॉ. सलिल भार्गव, डॉ. वीपी पांडे, डॉ. अशोक ठाकुर, डॉ. प्रणय बाजपेयी ने कोरोना ट्रीटमेंट, वैक्सीनेशन, होम आइसोलेशन की गाइड लाइन के बारे में बताया। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन अध्यक्ष डॉ. सतीश जोशी ऑनलाइन शामिल हुए।
जितनी जरूरत, उतनी ऑक्सीजन दी जाए
संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा ने कहा ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता में कमी आई है। इसलिए ए-सिम्टोमैटिक मरीज रेमडेसिविर इंजेक्शन की जगह एंटीवायरल डोज ले सकते हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन मास्क अनावश्यक रूप से ऑन न छोड़ा जाए। मरीज को जितनी जरूरत हो, उतनी ऑक्सीजन दी जाए।

जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी भी मौजूद थे। मंत्री सिलावट ने कहा कोरोना के विरुद्ध इस संघर्ष के असली योद्धा हमारे चिकित्सक हैं। लालवानी ने कहा जिन्हें घर पर उपचार दे सकते हैं, उन्हें होम आइसोलेशन में रखें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें