गोराकुंड स्थित विजयेश्वरी देवी मंदिर:नवरात्र में यहां हर दिन तीन बार होता है माता का शृंगार

इंदौर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गोराकुंड स्थित विजयेश्वरी देवी मंदिर। ये मंदिर अनूठा भी है और खास भी। शृंगार के लिए मंदिर काफी प्रसिद्ध है। नवरात्र में हर दिन देवी का तीन बार शृंगार होता है। दो-ढाई घंटे हर बार शृंगार में लगते हैं। देवी का शृंगार इतना खास होता है कि यह भक्तों का मन मोह लेता है। नवरात्र में यहां प्रतिदिन अभिषेक-पूजन, दुर्गासप्तशती के पाठ हो रहे हैं।

मंदिर के पुजारी पं. मनोहर त्रिवेदी कहते हैं उनके परिवार की तीसरी पीढ़ी इस मंदिर में पूजा-सेवा कर रही है। देवी की साढ़े तीन फीट ऊंची यह मूर्ति जयपुर से लाए थे। जब मूर्ति लेने गए थे, तब देवी के सौम्य स्वरूप की यह मूर्ति दिखाई दी। आखिर में सभी लोग मिलकर देवी की यह मूर्ति लाए और स्थापना की।

जिस जगह पर मंदिर है, वहां नीचे बावड़ी थी। इसी कुंड पर गोरेश्वर महादेव विराजमान हैं। वहीं, दूसरी ओर भैरवजी, हनुमानजी की मूर्तियां हैं। जब मंदिर में मूर्तियों की प्रतिष्ठा हुई थी, तब होलकर परिवार के लोग दर्शन के लिए आए थे। करीब 35 साल पहले मंदिर में दुर्गा माता की मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की गई।

गुजरात में भिजवाई थी शृंगार की साड़ियां

भक्तों द्वारा शृंगार के लिए देवी को जो साड़ी दी जाती है, उन्हें संभालकर रखा जाता है। जिन बेटियों की शादी होती है या फिर किसी परिवार में कोई शुभ प्रसंग हो, उन्हें यह साड़ी नि:शुल्क देते हैं। गुजरात में भूकंप आया था तो मंदिर से भी देवी की 500 से ज्यादा साड़ियां भिजवाई थीं। बाढ़ पीड़ितों को भी साड़ी दी गई थी।

खबरें और भी हैं...