9th -10th की क्लास का भी श्रीगणेश:ज्यादातर स्कूलों ने 12th के बच्चों को बुलाया, शनिवार से 9th की क्लास, हाथ से लेकर जूते तक सैनिटाइज हुए, अनुमति पत्र नहीं मिलने से 50% से ज्यादा स्कूल अभी बंद

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चोइथराम स्कूल में 12th के बच्चों को बुलाया गया था। यहां पर पूरी तरह से गाइड लाइन का पालन देखने को मिला। - Dainik Bhaskar
चोइथराम स्कूल में 12th के बच्चों को बुलाया गया था। यहां पर पूरी तरह से गाइड लाइन का पालन देखने को मिला।

सरकार की गाइड लाइन के अनुसार स्कूलों में गुरूवार से 9वीं के छात्रों की ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हो गई। स्कूल 26 जुलाई से खुल चुके हैं, लेकिन अब तक 11th और 12th के छात्रों को बुलाने की परमिशन थी। सरकार ने 5 अगस्त से 9th और 10th के बच्चों को स्कूल बुलाने को कहा था। लेकिन ज्यादातर स्कूलों ने तय दिन के अनुसार 12th के बच्चों को ही स्कूल बुलाया। उनका कहना था कि 9th की क्लास का दिन शनिवार है। इसलिए 9th की क्लास उसी दिन लगेगी। हालांकि कुछ स्कूलों ने जरूरी 9th, 10th के साथ 12th क्लास के बच्चों को भी बुलाया। लंबे समय बाद कई स्कूलों की बस बच्चों को लेकर दौड़ती नजर आईं। स्कूल में बच्चों के हाथ से लेकर जूते तक सैनिटाइज किए गए।

इस तरह रहा पढ़ाई का शेड्यूल
शहर के कई स्कूलों में आज से ऑफलाइन क्लास शुरू हो गई। सत्यसांई स्कूल में 9th से लेकर 12th तक के बच्चे बस में सवार होकर पहुंचे। यहां पर परिसर में ही बच्चों को सैनिटाइज करवाया गया। इसके बाद क्लास में एंट्री मिली। हर क्लास के बाद बच्चों को हाथ धोने के साथ ही सैनिजाइट करना जरूर था। क्लास लगने का समय सुबह 8.30 से दोपहर 1.30 बजे तक रखा गया है। 4 से साढ़े 5 घंटे में इतने ही पीरियड लगाने का टारगेट रखा गया है। इस बीच दो बार छात्रों को लंच के साथ रिलेक्स होने का समय भी तय किया गया है। छात्रों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे इस बात का विशेष ध्यान रखा गया। जो छात्र आज स्कूल आया वह अब अगले सप्ताह ही स्कूल आ पाएगा। ऐसे में उसके पास ऑफलाइन क्लास में पढ़ने का मौका सप्ताह में एक ही बार है।

सत्यसांई स्कूल से बच्चों के लिए बस सेवा भी शुरू कर दी है।
सत्यसांई स्कूल से बच्चों के लिए बस सेवा भी शुरू कर दी है।

करीब 35% ने ही दी अनुमति, इसलिए आधे से ज्यादा स्कूल अभी भी बंद
शहर के सहोदया ग्रुप से 160 के करीब सीबीएसई स्कूल जुड़े हैं। अभी भी आधे से ज्यादा स्कूल नहीं खुल पाए हैं। इसका सबसे बड़ा कारण पालकाें की तरफ से स्कूलों को अभी तक सहमति पत्र नहीं मिलना है। ज्यादातर पैरेंट्स छात्रों को स्कूल भेजना ही नहीं चाह रहे हैं। कई पालकों ने छात्रों को स्कूल भेजने से साफ इनकार कर दिया है। अब तक की स्थिति की बात करें तो 30 से 35 फीसदी पालकों ने ही अनुमति पत्र दिए हैं।

वहीं, शासन के निर्देश के मुताबिक पालकों की सहमति के बिना छात्रों को स्कूल नहीं बुलाया जा सकता। ऐसे में स्कूलों को खोलने के लिए प्रबंधन को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। स्कूलों के कुछ प्राचार्यों का कहना है कि स्कूल खोलना है यह निर्णय तो हो गया है, लेकिन कब से शुरू करेंगे यह तय नहीं हो पाया। इसके अलावा कुछ स्कूलों में परीक्षा होने के कारण फिलहाल इस पर कोई निर्णय नहीं हो पाया है।
हाथ से लेकर जूते तक सैनिटाइज हुए, फोन कर बच्चों के बारे में पूछते रहे पालक

  • स्कूल जाने के लिए बस में चढ़ने से पहले कंडक्टर या आया बाई ने छात्रों को सैनेटाइज करवाया। बस में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ छात्र बैठे।
  • स्कूल में उतरने के बाद भी छात्रों को सैनेटाइज किया गया। इस दौरान हाथों से लेकर जूतों तक को सैनिटाइज किया गया।
  • क्लासरूम में भी छात्रों की बैठक व्यवस्था सोशल डिस्टेंसिंग से की गई।
  • हर क्लास के बाद छात्रों के हाथों को सैनेटाइज करवाने की व्यवस्था की गई थी।
  • स्कूल की कैंटीन को एहतियात के तौर पर बंद रखा गया है। छात्र अपना लंच बॉक्स व पानी घर से ही लेकर आए।
  • हर दिन स्कूल के शुरू होने से पहले और स्कूल के खतम होने के बाद पूरे स्कूल परिसर को सैनेटाइज किया जाएगा। हालांकि हर स्कूल ने अपने स्तर पर अलग-अलग व्यवस्था कर रखी है।
  • सबसे खास बात यह रही कि लंबे समय बाद स्कूल पहुंचे बच्चों के पालक चिंतित नजर आए। वे स्कूलों में कॉल कर बच्चों के पहुंचने से लेकर उनके बारे में पूछते रहे।
स्कूल में प्रवेश के साथ ही हाथों को सैनिटाइज करवाया गया।
स्कूल में प्रवेश के साथ ही हाथों को सैनिटाइज करवाया गया।

छात्र क्षमता बढ़ाने के लिए लिखेंगे
एसोसिएशन ऑफ सीबीएसई अनएडेड स्कूल अध्यक्ष अनिल धूपर का कहना है कि सीबीएसई स्कूल अपने-अपने स्तर पर पालकों से सहमति लेकर खोल रहे हैं। हालांकि कुछ स्कूल तो पहले ही एक-एक कर खुल चुके हैं। बाकी भी अपने स्तर पर तैयारी कर रहे हैं। कम छात्र क्षमता के साथ स्कूलों का संचालन करना मुश्किल हो सकता है। ऐसे में छात्र क्षमता बढ़ाने को लेकर शासन को पत्र लिखेंगे ताकि ऑफलाइन पढ़ाई भी ठीक तरह से हो सके।

अब ये रहेगा शेड्यूल

  • 9th : शनिवार
  • 10th: बुधवार
  • 11th: मंगलवार व शुक्रवार
  • 12th: सोमवार व गुरुवार

ऑनलाइन क्लासेस जारी
स्कूलों में 9th से 12th तक की कक्षाएं सप्ताह में एक ही दिन में लगेगी। इसके चलते ऑनलाइन क्लासेस जारी रहेंगी।

ये मापदंड तय

  • 50% उपस्थिति की क्षमता से कक्षाएं लगाई जा सकेगी।
  • स्कूलों में तैराकी, प्रार्थना सभा समेत खेलकूद की गतिविधियां नहीं होंगी।
  • कोरोना गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य है।
क्लास में दूर-दूर बिठाया गया।
क्लास में दूर-दूर बिठाया गया।

कई स्कूलाें ने 12th के बच्चों को बुलाया

  • सत्यसाईं स्कूल : गाइड लाइन के अनुसार गुरुवार का दिन 12th के बच्चों की क्लास का था। हालांकि सरकार ने आज से 9th 10th की क्लास लगाने को कहा था। ऐसे में सत्यसाईं स्कूल में 9th से 10th के साथ ही 12thके बच्चों को भी स्कूल बुलाया गया।
  • गुजराती स्कूल : गुजराती स्कूल की प्रींसिपल श्यामली चटर्जी ने बताया कि गुरुवार को 12th क्लास का दिन फिक्स है यही कारण है कि हमने आज 12th के बच्चों को ही स्कूल बुलाया है। 9th की क्लास शनिवार को लगाई जाएगी।
  • सन्मति स्कूल : प्राचार्य पिंकी जोशी ने बताया कि गाइड लाइन के अनुसार हमने 12th के बच्चों को बुलाया था। 20 बच्चों के अनुमति पत्र आए थे, लेकिन सिर्फ 8 बच्चे ही क्लास में पहुंचे थे। शनिवार को 9th के बच्चों को बुलाया गया था। उनका कहना है कि 15 अगस्त तक इसी प्रकार से स्कूल लगेगी। 25 जुलाई से शुरू हुई क्लास को लेकर कहा कि रिस्पांस बिल्कुल भी नहीं मिल रहा है। हमारे यहां पर 12th में करीब 200 बच्चे हैं, लेकिन अब तक सबसे ज्यादा 12 बच्चे ही क्लास आए हैं। कई दिन तो दहाई का आंकड़ा भी नहीं पहुंच रहा है। वहीं, ऑनलाइन से सभी बच्चे जुड़ रहे हैं।
  • चोइथराम स्कूल : यहां पर आज से ही स्कूल को खोला गया है। पहले दिन 12th के बच्चों को बुलाया गया था। यहां पर 40 बच्चे पहले दिन पहुंचे थे। 9वीं की क्लास शनिवार से ही लगेगी। अनुमति तो 100 पालकों ने दिए थे, लेकिन बारिश के कारण कम बच्चे पहुंचे। यदि अनुमति पत्र मिल जाते हैं तय दिन में अन्य क्लास भी लगाई जाएंगी। करीब आधे पालकों ने अनुमति दि दिए हैं। हमारे यहां 9th से लेकर 12th तक करीब 1 हजार बच्चे हैं।
नोटिस बोर्ड पर अपने क्लास के बारे में जानकारी ली।
नोटिस बोर्ड पर अपने क्लास के बारे में जानकारी ली।
खबरें और भी हैं...