पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Munawar Faruqui Jail Update; Supreme Court Grants Bail, Family Members Filled 50 Thousand Bond

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी रिहा:इंदौर जेल से रात 11 बजे मिली रिहाई, परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई थी अवमानना की याचिका

इंदौर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रिहाई के बाद जेल से बाहर आए कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
रिहाई के बाद जेल से बाहर आए कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी की तस्वीर।
  • काॅमेडी शो में हिंदू देवी-देवता पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में जेल में बंद था

सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के अगले दिन शनिवार रात 11 बजे कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी को इंदौर की केंद्रीय जेल से रिहा कर दिया गया। बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट से शुक्रवार को रिहाई के आदेश होने के बाद भी फारूकी को नहीं छोड़ा गया था। इसके बाद उसके परिजन अवमानना की याचिका लेकर शनिवार रात सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए। सुप्रीम कोर्ट ने रात में ही सुनवाई कर उसे तुरंत छोड़ने के आदेश दिए। सेंट्रल जेल के अधीक्षक राकेश भांगरे ने इसकी पुष्टि की है।

शाम 7 बजे अचानक 50 से ज्यादा पुलिस कर्मी जेल के बाहर तैनात कर दिए गए थे। साथ ही एडिशनल एसी और सीएसपी, टीआई भी मौके पर पहुंचे गए थे। ऐसे में कयास लगने शुरू हो गए थे कि रिहाई में जरूर कोई पेंच है। हालांकि रात 11 बजे कॉमेडियन को रिहा कर दिया गया। मुनव्वर फारूकी के वकील विवेक तन्खा ने कहा था कि जेल प्रशासन का रवैया पूरी तरह से सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना है। जेल प्रशासन नेताओं के इशारे पर काम कर रहा है। यह प्रशासन के व्यवहार का गिरता स्तर है।

तुकोगंज टीआई कमलेश शर्मा और सीएसपी हरीश मोटवानी भी मौके पर मौजूद।
तुकोगंज टीआई कमलेश शर्मा और सीएसपी हरीश मोटवानी भी मौके पर मौजूद।

खास बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट ने महज 11 मिनट की सुनवाई में अंतरिम जमानत देते हुए राज्य सरकार को नोटिस जारी किया था। फारूकी की ओर से सीनियर एडवोकेट विक्रम चौधरी ने सुप्रीम कोर्ट में पैरवी की थी। कोर्ट को बताया कि पुलिस के पास ऐसा कोई सबूत नहीं है, जिसमें फारूकी टिप्पणी करते हुए दिख रहे हों। केवल कही-सुनी बातों केे आधार पर उनके खिलाफ केस बनाया और हाई कोर्ट ने भी बगैर तथ्यों का परीक्षण किए जमानत आवेदन खारिज कर दिया। जस्टिस रोहिंगटन फली नरीमन, जस्टिस बीआर गवई की खंडपीठ ने इस मामले की सुनवाई की थी।

फारूकी के भाई जेत पठान भी जेल परिसर के बाहर मौजूद रहे।
फारूकी के भाई जेत पठान भी जेल परिसर के बाहर मौजूद रहे।

एक जनवरी से फारूकी न्यायिक हिरासत में थे। उन्होंने हाई कोर्ट से जमानत अर्जी खारिज होने के बाद शीर्ष अदालत का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने अंतरिम जमानत का लाभ देते हुए फारूकी के खिलाफ उत्तरप्रदेश से जारी प्रोडक्शन वारंट पर भी रोक लगा दी है। वहीं सरकार को भी नोटिस जारी किए हैं। फारूकी ने एफआईआर दर्ज किए जाने को भी चुनौती दी थी। एसएलपी में कहा कि वे (फारूकी) शो में शामिल हुए थे। उनके द्वारा किसी तरह की टिप्पणी नहीं की गई थी। सरकार को 4 सप्ताह में जवाब पेश करना है।

फारूकी 1 जनवरी से न्यायिक हिरासत में है।
फारूकी 1 जनवरी से न्यायिक हिरासत में है।

यह है मामला

देवी-देवताओं और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर टिप्पणी का आरोप लगाते हुए हिंद रक्षक संगठन के नेताओं ने 31 दिसंबर की रात 56 दुकान स्थित मुनरो कैफे पर स्टैंड अप कामेडियन मुनव्वर फारुकी की पिटाई कर दी थी। बाद में आयोजक और कॉमेडियन को पकड़ तुकोगंज थाने ले गए। संगठन के एकलव्य गौड़ ने कहा था कि फारूकी पहले भी देवी देवताओं को लेकर अभद्र टिप्पणी कर चुके हैं। जयपुर में भी शो कैंसिल हो चुका है। हम टिकट लेकर शो में शामिल हुए थे। तुकोगंज टीआई कमलेश शर्मा ने बताया था कि देर रात आरोपी एडविन एनथौनी निवासी विजय नगर, प्रखर प्रतीक व्यास गिरधर नगर, प्रियम पिता धर्मेंद्र यादव निवासी छत्रछाया कॉलोनी पीथमपुर और मुन्नवर इकबाल फारुकी जूनागढ़ गुजरात पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया था। बाद में उनके एक साथी सदाकत को भी पकड़कर जेल भेज दिया गया था।

कोर्ट के ऑर्डर की कॉपी।
कोर्ट के ऑर्डर की कॉपी।
कोर्ट के ऑर्डर की कॉपी।
कोर्ट के ऑर्डर की कॉपी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

और पढ़ें