एशिया की सबसे बड़ी मंडी को लेकर प्लान:एक्सपोर्ट प्रमोशन के लिए तैयार होगी नई मंडी, आज व्यापारियों से सुझाव

इंदौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किसानों की बेहतरी, शहर में ट्रैफिक की समस्या और एक्सपोर्ट के मद्देनजर सालों पुरानी छावनी अनाज मंडी को कैलोद-माचला स्थित 100 एकड़ जमीन पर शिफ्ट कर एशिया की सबसे बड़ी मंडी बनाने के मामले में अब लगातार गति दी जा रही है। गुरुवार देर शाम हुई एक बैठक में मंडी का मुद्दा प्रमुखता से रहा। यह नई मंडी एक्सपोर्ट प्रमोशन के लिए तैयार होगी जिससे हजारों किसानों और व्यापारियों को लाभ मिलेगा। इसके लिए गुरुवार को व्यापारियों से सुझाव मांगे गए हैं।

हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने इस मामले मेें फिर अधिकारियों से जानकारी ली थी जबकि टीम चार दिन पहले ही नए स्थल का दौरा कर चुकी है। अभी मौजूदा छावनी मंडी 17 एकड़ में है लेकिन शहर के मध्य स्थित होने से न केवल किसानों व व्यापारियों को बल्कि लोगों को बिगड़ते ट्रैफिक के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ता है। दूसरा बीते सालों में कारोबार इतना बढ़ गया है कि अब 17 एकड़ जमीन कम पड़ने लगी है। अभी हर दिन करीब 10 करोड़ से ज्यादा का कारोबार होता है। मुख्यमंत्री की मंशा इसे एशिया की सबसे बड़ी मंडी बनाने की है। इसमें मंडी की जरूरत से जुुड़ी सुविधाएं जैसे पेट्रोल पंप, गोदाम, गेस्ट हॉउस, कृषि संबंधी सामान, वाहन आदि की सुविधाएं होंगी ताकि बाहर के किसानों व व्यापारियों को परेशानी न हो।

बैठक में बंगाली चौराहा पर निर्माणाधीन ब्रिज को लेकर चर्चा हुई। यह पीपल्याहाना ब्रिज की तरह होगा व रोटरी बनाकर निर्माण आगे का निर्माण शुरू किया जाएगा। इसी तरह नवलखा तक प्रस्तावित एलिवेटेड ब्रिज के मामले में भी चर्चा हुई। यह भी बताया गया कि बायपास के दोनों ओर तेजी से विकास हो रहे हैं व कॉलोनियां भी बन रही हैं। इस बायपास की स्थिति भी आने वाले समय में भी रिंग रोड की तरह हो जाएगी। इसे देखते अभी से प्लानिंग की जरूरत है।

इस मौके पर मंत्री सिलावट ने कहा कि इंदौर जिले में विकास योजनाओं में एक्सपर्टस की सलाह लेकर काम किए जाएंगे। सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि शहर में ऐसे निर्माण कार्य कराए जाएंगे जिससे ज्यादा लोगों को फायदा मिले। बीआरटीएस पर प्रस्तावित एलिवेटेड ब्रिज में सुधार अथवा इसके विकल्पों पर भी चर्चा की गई। बैठक में विधायक रमेश मेंदोला, कलेक्टर मनीष सिंह, नगर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल, भाजपा नेता गौरव रणदिवे, मधु वर्मा, पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता, मनोज पटेल, अन्य अधिकारी और टेक्निकल एक्सपर्ट मौजूद थे।