गड़बड़ी रोकने की नई व्यवस्था:अब प्रोफेशनल कोर्स के मूल्यांकन अंक ओएमआर शीट पर किए जाएंगे दर्ज

इंदौर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नई व्यवस्था के तहत मूल्यांकनकर्ता को कॉपी जांचते समय खुद रोल नंबर या नामांकन नंबर नहीं चढ़ाना होंगे। - Dainik Bhaskar
नई व्यवस्था के तहत मूल्यांकनकर्ता को कॉपी जांचते समय खुद रोल नंबर या नामांकन नंबर नहीं चढ़ाना होंगे।

देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी अब बीबीए और एमबीए जैसे प्रोफेशनल कोर्स में भी मूल्यांकन के कुल अंक ओएमआर शीट पर दर्ज करेगी। यूनिवर्सिटी बीकॉम, बीए, बीएससी जैसे परंपरागत यूजी कोर्स की तर्ज पर बीबीए, बीसीए, एमबीए जैसे प्रोफेशनल कोर्स के मूल्यांकन में पहले ही यह व्यवस्था लागू कर चुकी है। नई व्यवस्था के तहत मूल्यांकनकर्ता को कॉपी जांचते समय खुद रोल नंबर या नामांकन नंबर नहीं चढ़ाना होंगे।

बल्कि ओएमआर शीट पर सिर्फ कुल प्राप्तांक ही दर्ज करना होंगे। साथ ही पहले से बने सर्कल को डार्क करना होगा। इससे गड़बड़ी की संभावना खत्म हो जाएगी। अभी जो सिस्टम है उसमें मूल्यांकनकर्ता को खुद रोल नंबर लिखना पड़ता है, जिसमें कई बार गड़बड़ी हो जाती है, लेकिन नई व्यवस्था में ओएमआर शीट से मार्क्स सीधे कम्प्यूटर पर स्कैन किए जा सकेंगे। इसमें कम्प्यूटर ऑपरेटर की गलती की आशंका भी खत्म हो जाएगी।

दूसरे दौर में लॉ और बीएड कोर्स जुड़ेंगे
खास बात यह है कि अगले सत्र में यूनिवर्सिटी एलएलबी, बीए एलएलबी, एलएलएम, बीकॉम एलएलबी और बीबीए एलएलबी के साथ बीएड-एमएड में भी इस व्यवस्था को लागू करेगी। परीक्षा नियंत्रक डॉ. अशेष तिवारी का कहना है नए सिस्टम से गलतियां न के बराबर होगी।
इसके बाद पीजी कोर्स की है बारी
2022 से एमकॉम, एमए और एमएससी जैसे पीजी कोर्स में भी ओएमआर शीट से ही मूल्यांकन का सिस्टम लागू होगा। यूनिवर्सिटी ने कुछ समय पहले यूजी परंपरागत कोर्स में यह व्यवस्था लागू की थी, जो सफल रही। उसी के बाद यह व्यवस्था अन्य कोर्स में लागू करने की प्रक्रिया शुरू हुई।

खबरें और भी हैं...