12 साल बाद इंदौर में डेंगू मरीज 500 पार:24 घंटे में 15 मरीज और मिले, संख्या 608 पहुंची; इससे पहले 2009 में 500 तो 2020 में सबसे कम 86 केस मिले थे

इंदौर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर शहर में 24 घंटे में डेंगू के 15 नए मरीज मिले। इन्हें मिलाकर मरीजों की संख्या 608 तक पहुंच गई है। वर्तमान में 17 एक्टिव केस हैं, जिनमें से 12 मरीज एडमिट हैं। चिंता की बात यह है कि 12 साल बाद मरीजों की संख्या इस साल अक्टूबर में 500 पार कर गई है। 2009 में 500 से ज्यादा डेंगू मरीज पाए गए थे। तब एक मौत भी दर्ज हुई थी। इस साल भी एक मौत दर्ज हो चुकी है। सबसे कम 86 मरीज 2020 में मिले थे। पिछले 6 साल का रिकॉर्ड देखिए ...

सालमरीजों की संख्या
2016155
2017167
2018358
2019356
202086
2021593 (आंकड़े 11 अक्टूबर तक)

इस साल शहर का कोई मोहल्ला, कॉलोनी या टाउनशिप, हर जगह से डेंग मरीज सामने आ रहे हैं। कई स्थान तो ऐसे हैं, जहां तीन-चार बार फिर नए मरीज मिले। जबकि, इनके सहित कई स्थानों पर नगर निगम व मलेरिया विभाग की टीमें लगातार लार्वा सैंपल लेने के साथ छिड़काव कर रही हैं।

घर परिसर के अलावा बाहरी हिस्सों में भी गंदगी मिलने पर छिड़काव।
घर परिसर के अलावा बाहरी हिस्सों में भी गंदगी मिलने पर छिड़काव।

हर 3 से 5 साल में बढ़ जाती है अटैकिंग

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. दौलत पटेल के मुताबिक इस साल डेंगू वायरस की सक्रियता ज्यादा है। इसके चलते संख्या बढ़ी है। डेंगू का पैटर्न है कि हर तीन से पांच साल में इसकी अटैकिंग बढ़ जाती है। मरीज बढ़ने का खास कारण मौसम का बदलाव भी है।

इसलिए भी बढ़ रहे मरीज

  • अगस्त सूखा रहा। उमस और गर्मी की वजह से कूलर ज्यादा चले। कूलरों में पानी भरा रहा। इससे डेंगू को पनपने का मौका मिल गया।
  • इसके विपरीत सितम्बर में लगभग पूरे माह बारिश हुई। इस दौरान कई क्षेत्रों में पानी जमा रहा।
  • इन्हीं परिस्थितियों के बीच मकान परिसर, छतों पर रखे गमलों में पानी भरा रहा।
  • अभी अक्टूबर में मानसून की विदाई जरूर कही जा रही हो, लेकिन बीच-बीच में अभी भी कुछ देर के लिए बारिश हो रही है

दिन में काटते हैं डेंगू के मच्छर

डेंगू जमे हुए पानी में पनपने वाले मच्छरों के काटने से होता है। डेंगू एडीज इजिप्टी (मादा मच्छर) के काटने से फैलता है। इन मच्छरों की प्रकृति यह है कि ये दिन में ही काटते हैं। चपेट में आए लोगों को तेज बुखार, शरीर पर लाल चकत्ते पड़ना, सिर, हाथ-पैर और बदन में तेज दर्द, भूख न लगना, उल्टी-दस्त, गले में खराश, पेट में दर्द और लिवर में सूजन इसके प्रमुख लक्षण हैं।

खबरें और भी हैं...