पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक दिन में डेंगू के 8 नए मरीज:इंदौर में मरीजों की संख्या 86 पहुंची, स्वास्थ्य विभाग की चिंताएं बढ़ीं

इंदौर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

इंदौर में रुक-रुक कर हो रही बारिश ने एक बार फिर चिंताएं बढ़ा दी हैं। सोमवार को एक दी दिन में डेंगू के 8 नए मरीज मिले हैं। वहीं, अब तक मिले मरीजों की संख्या 86 हो गई है। अब इंदौर में डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। अभी तक स्वास्थ्य विभाग ने घरों का सर्वे किया। इसमें 700 घरों में लार्वा मिला। बारिश के दिनों में दूसरे मौसमी बीमारियां हो रही हैं। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. दौलत पटेल के मुताबिक इंदौर में अभी तक बीते कुल मरीजों की संख्या 86 पहुंच गई है।

निगम द्वारा डेंगू मलेरिया व अन्य मौसमी बीमारियों के रोकथाम के लिए नागरिकों को जागरूक किया जा रहा है। आयुक्त द्वारा एनजीओ की टीम, सीएसआई, सहायक सीएसआई दरोगा को अपने-अपने जोन व वार्ड क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए गए।

मौसमी बीमारियों के साथ मलेरिया व डेंगू से बचाव के लिए निगम द्वारा मलेरिया विभाग के माध्यम से क्रूड ऑइल व लार्वानाशक दवाइयों का शहर के विभिन्न स्थानों पर छिड़काव किया जा रहा है। शहर में डेंगू, मलेरिया एवं अन्य मौसमी बीमारियों के रोकथाम के लिए दवाई का छिड़काव व फॉगिंग की जा रही है।

जानकारों की मानें, तो बारिश के बाद कई जगह जलभराव की स्थिति हो जाती है। इसके बाद यह लार्वा पनपते हैं, लेकिन यदि तेज बारिश हुई तो यह सभी लार्वा पानी के साथ बह जाते हैं और नष्ट हो जाते हैं, लेकिन इंदौर में हो रही रुक-रुक के बारिश के कारण डेंगू का प्रकोप बढ़ रहा है।

डेंगू के लक्षण

डेंगू बुखार के लक्षण दो से सात दिन में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द और आंखों के आसपास दर्द हो सकता है। गंभीर अवस्था में नाक, मसूड़ों, पेट या आंत से खून का रिसाव भी हो सकता है। एक से पांच दिन तक बुखार होने पर तथा पांच दिन से अधिक का बुखार होने पर मेक-एलाइजा (आइजीएम) कीट से जांच की जाती है। डेंगू से बचाव के लिए मच्छर पैदा होने से रोककर, मच्छरों से काटने से बचाव के उपाय किए जाना चाहिए। डेंगू छोटे बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवतियों को अधिक प्रभावित करता है।

ऐसे पहचानें मच्छर-

  • डेंगू और चिकनगुनिया एडीज नामक मच्छर के काटने से फैलता है और साफ पानी में ही पनपता है।
  • मादा मच्छर दिन के समय ही काटती है। बचाव के लिए पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें।
  • इस मच्छर के शरीर पर सफेद चिट्टे साफ चमकते हुए दिखाई देते हैं।बचाव के लिए क्या करें।
  • छत एवं घर के आसपास अनुपयोगी सामग्री में पानी जमा न होने दें।
  • सप्ताह में एक बार घर पर पानी भरने के बर्तनों जैसे कि बाल्टी, डिब्बा आदि को खाली करें और अच्छी तरह सुखाएं।
  • कूलर का पानी हफ्ते में एक बार जरूर खाली करें और सुखाकर ही भरें।
  • हैंडपंप के आसपास पानी एकत्रित न होने न दें।
  • घर के आसपास गड्ढों को मिट्टी से भर दें।
खबरें और भी हैं...