पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नशा तस्करी पर बड़ी चोट:नशे के 5 सौदागरों से 70 करोड़ की ड्रग्स और 13 लाख रुपए बरामद, तेलंगाना और मप्र के हैं आरोपी युवक

इंदौर2 महीने पहले
पुलिस के अनुसार 70 किलो ड्रग्स बरामद हुई है, जिसकी कीमत 70 करोड़ के करीब है।
  • पुलिस का दावा-देश में अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई,देवास का युवक MR से बना तस्कर
  • ट्रांसपोर्ट से ड्रग्स भेजते समय मुर्गी दाना पाउडर व वैक्सीन का पाउडर बताते थे

क्राइम ब्रांच ने ड्रग्स मामले में देश की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई का खुलासा किया। गिरफ्त में आए 5 आरोपियों से 70 करोड़ रुपए की 70 किलो MDMA ड्रग्स बरामद की। इनके पास से 13 लाख रुपए नकद भी बरामद हुए हैं। आरोपी तेलंगाना और मप्र के रहने वाले हैं। आरोपी ड्रग्स की खेप देने और टोकन मनी लेने के लिए एकत्रित हुए थे। आरोपियों की माने तो वे ट्रेन, प्लेन, बस, ट्रक ट्रांसपोर्ट और निजी कार हर प्रकार से ड्रग्स लाते थे। ये इतने शातिर थे कि ट्रांसपोर्ट से ड्रग्स भेजते समय वे पैकेट में मुर्गी दाना पाउडर या बीमारियों के वैक्सीन का पाउडर बताते थे।

एडीजी योगेश देशमुख के अनुसार इंदौर पुलिस ने अब तक अवैध मादक पदार्थों के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए MDMA, ब्राउन शुगर, गांजा व अन्य मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह के कई सदस्यों को पकड़ा है। पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली थीं। इसी कड़ी में क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि हैदराबाद के कुछ तस्कर इंदौर और देवास के रहने वाले स्थानीय एजेंट्स और ड्रग्स पैडलरों के जरिए बड़ी मात्रा में मप्र में MDMA की तस्करी करने वाले हैं। पुलिस के अनुसार MDMA ड्रग्स को लेकर यह देश की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है।

मामले का खुलासा करते एडीजी योगेश देशमुख, आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा सहित अन्य अधिकारी।
मामले का खुलासा करते एडीजी योगेश देशमुख, आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा सहित अन्य अधिकारी।

मुखबिर ने बताया था कि नायता मुण्डला सनावदिया के पास की सड़क किनारे पहाड़ी के पास नशे के कुछ सौदागर एकत्रित हुए हैं, जिस पर एक टीम तत्काल मौके पर पहुंची और घेराबंदी कर 5 संदिग्धों को पकड़ने का प्रयास किया तो ये यहां खड़े चार पहिया वाहन में सवार होकर भागने लगे। इस पर टीम ने पुलिस के साथ मिलकर घेराबंदी की और 5 लोगों को हिरासत में लिया। पकड़ में आए आरोपियों ने अपना नाम दिनेश अग्रवाल पिता नारायण लाल जी अग्रवाल पता निशदिन औरा ब्लॉक बी 406 बी बालाजी हाइट महालक्ष्मी नगर इंदौर, अक्षय अग्रवाल उर्फ चीकू पिता दिनेश अग्रवाल निवासी 19 होराइजन सिटी थाना लसूडिया इंदौर, चिमन अग्रवाल पिता मदन लाल निवासी 38 ए प्रेम कॉलोनी स्टेशन रोड मंदसौर, वेदप्रकाश व्यास पिता स्व. बिहारी लाल निवासी 2/4 299 जलवायु विहार तिरूमलगिरी हैदराबाद और मांगी वेंकटेश पिता मांगी मारा निवासी प्रकाशम पंतुलू उषामुल्लापुड़ी जेटीमेडला हैदराबाद बताया। पुलिस ने पकड़ में आए तस्करों सहित वाहन की तलाशी ली तो इनके पास से 70 किलो MDMA ड्रग्स मिली। जिसकी बाजार में कीमत करीब 70 करोड़ रुपए है। इसके अलावा इनके पास से 13 लाख 3650 नकद बरामद हुए। इसके अलावा 2 चार पहिया वाहन, 8 मोबाइल भी कब्जे में लिए।

एमआर वेदप्रकाश ऐसे बन गया ड्रग्स तस्कर
आरोपी वेदप्रकाश व्यास पिता बिहारी लाल व्यास देवास का रहने वाला है। वह पहले एक दवा कंपनी में MR था। इसके बाद वह देवास से हैदराबाद शिफ्ट हो गया था और वहां पर दवा कंपनी की फार्मा यूनिट और लेबोरेटरी खोल ली। दवाई का काम करते समय ही वह हैदराबाद के ड्रग्स तस्करों के संपर्क में आया। इसके बाद योजना बनी और ये इंदौर देवास, उज्जैन सहित अन्य आसपास के जिलों में ड्रग्स की सप्लाई करने लगे। धीरे-धीरे इन्होंने हर जिले में एजेंट बना लिए। इसी ग्रुप में एंट्री की मंदसौर के रहने वाले चिमन अग्रवाल ने। चिमन ने इंदौर, उज्जैन देवास में तस्करी के लिए अपने चाचा दिनेश और चचेरे भाई अक्षय को मिला लिया। ये दोनों इंदौर में रहते हैं। इनका उज्जैन और इंदौर में टेंट हाउस का काम है। इसी काम के कारण ये अन्य जिलों में भी आना-जाना करते थे। इन्होंने ऐसी पैठ बनाई कि मंदसौर, रतलाम, उज्जैन, खंडवा, भोपाल, इंदौर, देवास आदि जिलों में भी ये ड्रग्स सप्लाई करने लगे। पूछताछ में इन्होंने पहले भी बड़ी मात्रा में ड्रग सप्लाय करना और खुले में बेचना कबूला है। आरोपी अक्षय, दिनेश अग्रवाल का बेटा है, जबकि आरोपी चिमन आरोपी दिनेश का भतीजा है।

किससे मिला कितना माल

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

और पढ़ें