पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संभावित तीसरी लहर के लिए सिर्फ 20 नर्से:NHM की 220 अस्थाई नर्सों में आक्रोश, आखिर नियुक्ति का पैमाने क्या?

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

12 सूत्रीय मांगों को लेकर एक हफ्ते से जारी प्रदेश स्तरीय नर्सों की हड़ताल अवैध घोषित होने के बाद अभी भी नर्सों में असंतोष है। गुरुवार को इनमें से अधिकांश नर्सें काम पर लौट आई। दूसरी ओर अब नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) की 230 नर्सों को हटाने का मामला अभी भी गर्माया हुआ है। इनके मामले में अभी भी कोई निर्णय नहीं हुआ है। इस बीच एमजीएम कॉलेज द्वारा कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए एनएचएम द्वारा पिछले दिनों अस्थाई नर्सों की नियुक्ति की जानकारी मांगी थी, उसमें 20 नर्सों को रखा जाना था। जिसे लेकर एनएचएम से मंजूरी मिल गई थी।

इस बीच प्रदेश स्तरीय नर्सों की हड़ताल से इन नियुक्तियों को भी रोक दिया गया। अब इन 20 अस्थाई नर्सों को रखा जा रहा है। इनमें 8 नर्से सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, 7 एमटीएच, 3 एमआरटीबी व एमवाय अस्पताल में काम कर चुकीं 2 नर्सों को चयनित किया गया है। इसे लेकर अन्य एनएचएम नर्सों में इस बात को आक्रोश है कि जब पहली लहर थी। तब 230 नर्सों की नियुक्ति की गई और अब 20 नर्सों को लिया जा रहा है। जबकि बाकी नर्सें भी योग्य हैं। इन 20 नर्सों की अस्थाई नियुक्ति किस आधार पर की जा रही है। एमवायएच अधीक्षक डॉ. पीएस ठाकुुर का कहना है यह मामला मेरी जानकारी में नहीं है।

खबरें और भी हैं...